रहस्य TV
रहस्य TV
  • 93
  • 73 240 648
  • ਨੂੰ ਸ਼ਾਮਲ ਹੋਇਆ 31 ਮਾਰਚ 2018
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav
इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है
अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है
बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना
“लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा”
याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी
ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी
have a nice day
भगवान करे आपका दिन शुभ हो
for business inquiries contact :-
kuldeepk8540@gmail.com

ਵੀਡੀਓ
Chandrayaan2 इसरो ने दी एक और बड़ी खुशखबरी ‍Chandrayaan 2 Mission Current News And Updates
Chandrayaan2 इसरो ने दी एक और बड़ी खुशखबरी ‍Chandrayaan 2 Mission Current News And Updates
8 ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
**Physics & Chemistry for 11th & 12th Launched** ( Whatsapp - 8400400400) Ab MATHS ke saath saath aapke PHYSICS aur CHEMISTRY doubts ka bhi hoga safaya. Doubtnut App par ya phir Doubtnut ke whatsapp number 8400400400 par. Download Doubtnut App - doubtnut.app.link/X4U8rpcYJY Doubtnut whatsapp - doubtnut.app/yti Apna (Physics,Chemistry, Maths) Doubt/question Doubtnut App par jaakar Sumbit kijiye ya phir 8400400400 par whatsapp kariye aur turant video solution paayein. Steps to get instant solution - Humare whatsapp service (8400400400) ya APP par aakar, 1) Question ki photo kheecho 2) Question ko crop karke whatsapp karo 3) Turant video solution paao Ye hai itna asaan :) Try now -doubtnut.app.link/X4U8rpcYJY Yaad rahe - 8400400400 - Instant Doubt solving whatsapp service Link - doubtnut.app/yti Ab hoga Doubts ka THE END :D नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #Chandrayaan2 #ISROMissions #Isro #Vikram #VikramLander #PrgyaanRover #Chandrayaan #IsroChandrayaan twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या विक्रम लैंडर एक बार फिर से अपना फर्ज निभायेगा Chandrayaan2 latest Update And Vikram Lander News
क्या विक्रम लैंडर एक बार फिर से अपना फर्ज निभायेगा Chandrayaan2 latest Update And Vikram Lander News
9 ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
**Physics & Chemistry for 11th & 12th Launched** ( Whatsapp - 8400400400) Ab MATHS ke saath saath aapke PHYSICS aur CHEMISTRY doubts ka bhi hoga safaya. Doubtnut App par ya phir Doubtnut ke whatsapp number 8400400400 par. Download Doubtnut App - doubtnut.app.link/X4U8rpcYJY Doubtnut whatsapp - doubtnut.app/yti Apna (Physics,Chemistry, Maths) Doubt/question Doubtnut App par jaakar Sumbit kijiye ya phir 8400400400 par whatsapp kariye aur turant video solution paayein. Steps to get instant solution - Humare whatsapp service (8400400400) ya APP par aakar, 1) Question ki photo kheecho 2) Question ko crop karke whatsapp karo 3) Turant video solution paao Ye hai itna asaan :) Try now -doubtnut.app.link/X4U8rpcYJY Yaad rahe - 8400400400 - Instant Doubt solving whatsapp service Link - doubtnut.app/yti Ab hoga Doubts ka THE END :D नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #VikramLander #Chandrayaan2 #Chandrayaan2Mission #Isro twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
संपर्क टूटने के बाद कहां गया विक्रम Lander, Chandrayaan2 Mission Update
संपर्क टूटने के बाद कहां गया विक्रम Lander, Chandrayaan2 Mission Update
10 ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
ExpertOption® Trading Platform | Up to 200% Profit in 30 Seconds. Fast Money Withdrawal - eo.xyz/7bxf00 नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #Chandrayaan2 #Vikram #VikramLander twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुवा जब 33000 फीट पर प्लेन मे आग लग गयी What happened when the plane caught fire at 33000 feet
क्या हुवा जब 33000 फीट पर प्लेन मे आग लग गयी What happened when the plane caught fire at 33000 feet
16 ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Download Nostra Pro App: nstra.pro/EOx5AkyYuZ Register & Get Rs 100 Now!, No referral code needed. #nostrapro नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 2 सितंबर 1998 को Swiss Airline की फ्लाइट 111 ने 8:18 PM पर न्यूयॉर्क सिटी से जीनेवा जाने के लिए उड़ान भरी। उड़ान के करीब 52 मिनट बाद यानी 9:10 पर प्लेन 33000 फीट के Altitude पर पहुंच चुकी थी, लेकिन तभी को Cockpit में कोई अजीब सी गंध फैलने लगी। करीब 3 मिनट बाद pilot ने नोटिस किया कि एयर कंडीशनिंग fan से स्मोक बाहर आ रहा है। इसलिये पायलेट ने फैसला लिया कि प्लेन को नजदीकी एयरपोर्ट पर लैंड करवा कर उसकी जांच कराई जाएगी कि आखिर खराबी कहां है। लेकिन यहां समस्या इससे अलग थी। दरअसल cockpit के ऊपर वाले हिस्से में जहां पूरे इलेक्ट्रिकल सिस्टम की वायरिंग होती है उसमें किसी कारणवश एक वायर मे short सर्किट हो गया था। जिसके कारण उस वायर का सिक्योरिटी रबर melt होने लगा था, और उसके बाद धीरे-धीरे उस हिस्से में आग फैलने लगी। लेकिन pilot अभी तक इस बात से अनजान थे‌। आखिर उस प्लेन के साथ फिर क्या हुआ होगा ?? जानने के लिए वीडियो को अंत तक जरूर देखिए। On September 2, 1998, Flight 111 of Swiss Airline flew from New York City to Geneva at 8:18 PM. About 52 minutes after the flight, at 9:10, the plane had reached altitude of 33000 feet, but only then a strange smell began to spread in the Cockpit. About 3 minutes later the pilot notices that smoke is coming out of the air conditioning fan. That is why Pilot decided that by landing the plane at the nearest airport, it would be investigated where the fault was. But the problem here was different. Actually, in the top part of the cockpit where the entire electrical system is wiring, due to some reason a wire was short-circuited. Due to which the security rubber of that wire started to melt, and then slowly the fire started spreading in that part. But the pilots were still unaware of this. After all what would have happened to that plane again ?? To know, watch the video till the end. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
कहां तक पहुंच गया चंद्रयान-2 Latest News And Updates About Chandrayaan2
कहां तक पहुंच गया चंद्रयान-2 Latest News And Updates About Chandrayaan2
23 ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 22 जुलाई 2019 को जीएसएलवी MK 3 के द्वारा चंद्रयान सेकंड को लांच किया गया था। आपको बता दें कि चंद्रयान सेकंड एक three-in-one मिशन है यानी चंद्रयान सेकंड के द्वारा तीन मिशनो को एक साथ परफॉर्म किया जाएगा। इस मिशन का पहला Part एक Orbiter है जो चंद्रमा के चारों तरफ करीब 1 साल तक100×100 की वृत्ताकार कक्षा में चक्कर लगाएगा। वही इस मिशन का दूसरा पार्ट एक लेंडर है जिसे विक्रम नाम दिया गया है। ये लेंडर चंन्द्रमा की सतह पर लैंड करके वहां की भौगोलिक स्थिति और खनिजों की जानकारियां इसरो तक पहुंचायेगा। वही इसी लेंडर के साथ प्रज्ञान रोवर भी चंद्रमा की सतह पर पहुंचेगा, जो चंद्रमा की सतह पर एक जगह से दूसरी जगह Mobe करके पानी और अन्य खनिजों की जानकारियां जुटायेगा। चंद्रमा पर पहुंचने की इस यात्रा का आरंभ 22 जुलाई को हुआ था और अभी तक चंद्रयान 2 ने इस यात्रा का लगभग 70% से 80% भाग पूरा कर लिया है। लेकिन हाल ही में चंद्रयान 2 ने इस यात्रा की सबसे अहम और पहले सबसे मुश्किल phase को पार किया है। तो चलिए जानते हैं chandrayaan-2 की उपलब्धि के बारे में ,जो इस ने हाल ही में हासिल की है। Chandrayaan Second was launched by GSLV MK 3 on 22 July 2019. Let us tell you that Chandrayaan Second is a three-in-one mission i.e. three missions will be performed simultaneously by Chandrayaan Second. The first part of this mission is an Orbiter that will revolve around the Moon in a circular orbit of 100 × 100 for about 1 year. The second part of this mission is a lender named Vikram. This lander will land on the surface of the moon and bring the geographical location and minerals information to ISRO. With this same lander, the Pragyan Rover will also reach the lunar surface, which will gather water and other minerals from Mobe from one place to another on the lunar surface. The journey to the moon began on July 22 and so far Chandrayaan 2 has completed about 70% to 80% of the journey. But recently Chandrayaan 2 has crossed the most important and first most difficult phase of this journey. So let's know about the achievement of chandrayaan-2, which it has achieved recently. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुआ जब एक हेलीकॉप्टर ज्वालामुखी में क्रैश हो गया when a helicopter crashed into a volcano
क्या हुआ जब एक हेलीकॉप्टर ज्वालामुखी में क्रैश हो गया when a helicopter crashed into a volcano
ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
क्या हुआ जब एक हेलीकॉप्टर ज्वालामुखी में क्रैश हो गया when a helicopter crashed into a volcano नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #HelicopterCrash #HelicopterDisaster #HelicopterCrashInVolcano #HelicopterInVolcano #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुआ जब भारत में दो Airplane 14000 फीट पर आपस में टकरा गई two airplane collided at 14000 feet
क्या हुआ जब भारत में दो Airplane 14000 फीट पर आपस में टकरा गई two airplane collided at 14000 feet
ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
**Physics & Chemistry for 11th & 12th Launched** ( Whatsapp - 8400400400) Ab MATHS ke saath saath aapke PHYSICS aur CHEMISTRY doubts ka bhi hoga safaya. Doubtnut App par ya phir Doubtnut ke whatsapp number 8400400400 par. Download Doubtnut App - doubtnut.app.link/X4U8rpcYJY Doubtnut whatsapp - doubtnut.app/yti Apna (Physics,Chemistry, Maths) Doubt/question Doubtnut App par jaakar Sumbit kijiye ya phir 8400400400 par whatsapp kariye aur turant video solution paayein. Steps to get instant solution - Humare whatsapp service (8400400400) ya APP par aakar, 1) Question ki photo kheecho 2) Question ko crop karke whatsapp karo 3) Turant video solution paao Ye hai itna asaan :) Try now -doubtnut.app.link/X4U8rpcYJY Yaad rahe - 8400400400 - Instant Doubt solving whatsapp service Link - doubtnut.app/yti Ab hoga Doubts ka THE END :D नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #AirplaneDisaster #AirplaneDocumentary twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 12 नवंबर 1996 भारत के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सऊदी अरब एयरलाइन की फ्लाइट 762 दिल्ली से Dharan जाने के लिए तैयार हो रही थी। शाम करीब 6:32 पर फ्लाइट 763 ने दिल्ली से उड़ान भरी। ठीक उसी समय कजाकिस्तान एयरलाइन की फ्लाइट 1907 ने भी कजाकिस्तान से दिल्ली के लिए उड़ान भरी। फ्लाइट 763 में उस समय 312 यात्री और क्रू मेंबर सवार थे तथा फ्लाइट 1907 में कुल 37 लोग सफर कर रहे थे। दोनों ही Planes का रूट एक दूसरे को क्रॉस कर रहा था, तो क्या यह दोनों प्लेन आपस में टकरा गई? जानने के लिए वीडियो को अंत तक पूरा देखिए । On November 12, 1996, Flight 762 of the Saudi Arabian airline at India's Indira Gandhi International Airport was getting ready to leave from Delhi to Dharan. Flight 6:63 took off from Delhi at around 6:32 pm. At the same time, Flight 1907 of Kazakhstan airline also flew from Kazakhstan to Delhi. Flight 763 had 312 passengers and crew members at that time and in flight 1907, a total of 37 people were traveling. The route of both planes was crossing each other, so did this two planes collide? Watch the video till the end to know. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
chandrayaan-2 की सफलता के बाद अब सूरज की बारी Isro's New Mission Aditya-L1
chandrayaan-2 की सफलता के बाद अब सूरज की बारी Isro's New Mission Aditya-L1
ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #AdityaL1 #IsroNewMission #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
लॉन्चिंग के बाद चंद्रमा की सतह तक कैसे पहुंचेगा चंद्रयान 2 Toughest Phase of Chandrayaan-2 Mission
लॉन्चिंग के बाद चंद्रमा की सतह तक कैसे पहुंचेगा चंद्रयान 2 Toughest Phase of Chandrayaan-2 Mission
ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #chandrayaan-2 #Isro #MoonMissionIsro #Chandrayaan #IndianMoonMission #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 22 जुलाई 2019 को सतीश धवन स्पेस सेंटर श्रीहरिकोटा से भारत के मोस्ट अवेटेड मिशन चंद्रयान टू को लांच किया गया। chandrayaan-2 को लॉन्च करने के लिए भारत के सबसे शक्तिशाली रॉकेट जीएसएलवी मार्क थर्ड का उपयोग किया गया। लॉन्चिंग के करीब 16 मिनट और 23 सेकेंड के बाद ही chandrayaan-2 पृथ्वी की कक्षा में 170 किलोमीटर की ऊंचाई पर रॉकेट से अलग होकर पृथ्वी का चक्कर लगाने लगा। हालांकि चंद्रयान को पृथ्वी की कक्षा तक पहुंचाना इसरो के लिए कोई बड़ी बात नहीं थी,क्योकी इसरो यह काम बार बार और हर बार सफलतापूर्वक करता आ रहा है। लेकिन अब chandrayaan-2 के लिए इसके आगे का सफर बेहद चुनौती भरा होने वाला है। तो आखिर chandrayaan-2 इन सभी चुनौतियों को पार करके अपनी डेस्टिनेशन तक कैसे पहुंचेगा जानेंगे आज के खास वीडियो में । On July 22, 2019 Satish Dhawan Space Center Sriharikota was launched from India's most accomplished mission, Chandrayaan-2. India's most powerful Rocket GSLV Mark Third was used to launch chandrayaan-2. After about 16 minutes and 23 seconds of launch, chandrayaan-2 was separated from the rocket at a height of 170 km in the orbit of Earth, moving around the earth. Although reaching the Earth's orbit to Chandrayaan was not a big deal for ISRO, because ISRO has been doing this work repeatedly and every time. But now the journey ahead for Chandrayaan-2 is going to be very challenging. After all, chandrayaan-2 will reach its destination by crossing all these challenges and know that in today's special video. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
कहां तक पहुंच गया पार्कर सोलर प्रोब Latest News And Live Location Of Parker Solar Probe
कहां तक पहुंच गया पार्कर सोलर प्रोब Latest News And Live Location Of Parker Solar Probe
ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
Download Roz Dhan App :- bit.ly/2Y5iRzI Invitation Code :- 07A99V नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. Live location of parker solar probe :- parkersolarprobe.jhuapl.edu/The-Mission/index.php#Where-Is-PSP हमारे सौरमंडल में सबसे गर्म तारा सूर्य है ।सूर्य के कारण ही पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाता है ,लेकिन कभी-कभी सूरज पर आने वाली सौर आंधीयो की वजह से पृथ्वी का जनजीवन और कम्युनिकेशन सिस्टम बुरी तरह से प्रभावित होता है । हमारे सौरमंडल में सूर्य एक ऐसा तारा है ,जिसके बारे में आज तक हम ज्यादा कुछ नहीं जानते हैं और, इसका एक कारण सूर्य की गर्मी भी है । इतने अधिक टेंपरेचर के कारण आज तक कोई भी स्पेसक्राफ्ट सूर्य के नजदीक नहीं जा पाया है । सूर्य के सबसे करीब जाने वाला स्पेसक्राफ्ट helios 2 था । अब नासा ने अपना सबसे लेटेस्ट स्पेसक्राफ्ट पार्कर सोलर प्रोब को सूर्य के सबसे नजदीक जाने के लिए लॉन्च किया है । पार्कर सोलर प्रोब सूर्य से 6200000 किलोमीटर दूर रहकर सूर्य की बाहरी परत कोरोना का अध्ययन करेगा, और उससे संबंधित सारी जानकारियां प्राप्त कर उन्हें वैज्ञानिकों के पास भेजेगा । इस मिशन की अवधि 7 साल है। 7 साल में पार्कर सोलर प्रोब सूर्य के 24 चक्कर लगाएगा। इस मिशन को नासा ने 12 अगस्त 2018 को अमेरिका समयानुसार 3:30 पर लॉन्च किया था । नासा ने इस मिशन का नाम अपने सौर वैज्ञानिक यूजिंग पार्कर के नाम पर रखा है। पार्कर ने सबसे पहले सन 1958 में बताया था कि, सौर हवाआो या आंधियों का अस्तित्व होता है, और उन्हीं के शोध के आधार पर इस यान को तैयार किया गया है। सोलर पार्कर प्रोब ,उसकी टाइमलाइन , Current News, अौर दूसरे solar encounter मे इकट्ठा किए गए डाटा के बारे में पूरी जानकारी के लिए वीडियो को अंत तक जरूर देखें । The most hot star in our solar system is the Sun. Due to the sun, life on Earth is possible, but sometimes the solar masses on the sun are affected by the life and communicating system of the Earth is badly affected. In our solar system the Sun is such a star, about which we do not know much till today, and one reason for this is the sun's heat. Due to so many templates, no spacracts have been able to reach near the sun till date. The nearest closest to the Sun was the Spacecraft helios 2. Now NASA has launched its latest Specscraft Parker Solar probe to get closer to the Sun. Parker Solar Probe, 6200000 kilometers away from the Sun, will study the outer layer of the sun Corona, and get all the information related to it and send them to the scientists. The duration of this mission is 7 years. In 7 years Parker Solar probe will make 24 rounds of Sun. This mission was launched by NASA on August 12, 2018, at 3:30 pm US time. NASA named the mission after its solar scientist using Parker. Parker first stated in 1958 that solar winds or storms exist, and this device has been prepared based on their research. For complete information about the data gathered in Solar Parker probe, its timeline, Current News, and another solar encounter, definitely watch the video to the end. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुआ जब Airplane से पक्षियों का झुंड टकरा गया What happened when birds collided with Airplane
क्या हुआ जब Airplane से पक्षियों का झुंड टकरा गया What happened when birds collided with Airplane
2 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #AirplaneDisaster #BirdStrike #USAirwaysFlight1549 #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 15 जनवरी 2009 शाम करीब 3:24 पर न्यूयार्क सिटी के सेकंड एयरपोर्ट LaGuardia पर एक AirBus A320 ने अपनी रूटीन साइट के दौरान Charlotte Douglas International Airport पर‌ जाने के लिये उड़ान भरी । उड़ान के करीब 1 मिनट बाद प्लेन 700 फीट की hight पर पहुंच गयी । करीब 1 मिनट बाद प्लेन 316 फीट प्रति सेकंड की स्पीड से 2818 फीट के Altitude पर पहुंच चुकी थी। लेकीन तभी ठीक इसी समय अौर इसी Altitude पर Canada Geese प्रजाति के पक्षियों का झुंड प्लेन के सामने से गुजरा ।उसके बाद क्या हुवा जानने के लिये विडियो को पूरा देंखे। An AirBus A320 flew to Charlotte Douglas International Airport during its routine site on January 15, 2009 at about 3:24 pm New York City's Second Airport LaGuardia. About 1 minute after the flight, the plane reached the hight of 700 feet. After about 1 minute, the plane reached the altitude of 2818 feet with speed of 316 feet per second. But at the same time and at the same height, A Bunch of Canada Geese species of birds have passed through the Airplane. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा Titan पर जीवन खोजने के लिये भेजेगा ड्रोन Dragonfly Mission Entry ,Descent And Landing
नासा Titan पर जीवन खोजने के लिये भेजेगा ड्रोन Dragonfly Mission Entry ,Descent And Landing
2 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
Sign Up Link:- bit.ly/2Xutg8O Deal Link:- bit.ly/2FU04wU App Link:- bit.ly/32d9jSH Whatsapp Link:- bit.ly/2ViEoQD नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #DragonflyMission #Dragonfly #TitanDragonfly #SaturnMoonTitan #LifeOnTitan #NasaNewMissionDragonfly #DragonflyFlight #DragonflyRotercraft #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 1979 और 1980 में Voyager-1 और Voyager-2 ने पहली बार टाइटन को नजदीक से Observe करने की कोशिश की, लेकिन टाइटन के Atmosphere मे मौजूद घने कोहरे अौर धुंध की वजह से वो टाइटल की सतह को देख ही नहीं पाये‌। सन् 1994 मे Hubble Space Telescope ने Longer near infrared wavelengths की मदद से टाइटन का पहली बार नजदीक से अध्ययन कर इसकी सतह पर मौजूद Large Bright और Dark Regions को उजागर किया। हालांकि अभी तक भी टाइटन की सतह वैज्ञानिकों के लिए एक रहस्य ही बनी हुई थी। लेकिन जुलाई 2004 में कैसिनी स्पेसक्राफ्ट के Saturn ग्रह में प्रवेश करने के बाद शनि ग्रह की इस अद्भुत चंद्रमा के बारे में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए । अब नासा इन्हीं Details का इस्तेमाल करके टाइटन की सतह पर एक फ्लाइंग लैंडर उतारना चाहता है। जिसकी मदद से टाइटन की सतह पर जीवन का अस्तित्व तलाशा जाएगा और इस बात का भी जवाब तलाशने की कोशिश की जाएगी कि करोड़ों साल पहले पृथ्वी पर कार्बनिक यौगिकों के मध्य ऐसी कौन सी रासायनिक अभिक्रिया संपन्न हुई थी जिसने पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत की । In 1979 and 1980, Voyager-1 and Voyager-2 tried to closely observe Titan for the first time, but due to the dense fog and haze present in Titan's Atmosphere, he could not see the surface of the title. Hubble Space Telescope in 1994, with the help of Longer near infrared wavelengths, Titan first studied near and exposed the Large Bright and Dark Regions on its surface. However, Titan's surface remained a mystery only for scientists. But after entering the Saturn Planet of Cassini Spacraatt in July 2004, there were many shocking revelations about this amazing moon of Saturn. Now NASA wants to take a flying landing on Titan's surface using the same details. With the help of which, the existence of life on the surface of Titan will be sought and the answer will also be sought to find out what crores of years ago, which chemical reaction was done between the organic compounds on Earth, which started life on earth. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
एक रहस्यमयी ट्रेन जो लगातार 100 सालो‌ से कर रही है समय यात्रा। Time Traveling Train Mystery
एक रहस्यमयी ट्रेन जो लगातार 100 सालो‌ से कर रही है समय यात्रा। Time Traveling Train Mystery
2 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
Download Stick Pool Club App :- send.stickpoolclub.com/yYfBP0hIfr नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #MysteriousTrain #GhostTrain #ZanettiTrain #TimeTravelTrain #MysteriousTimeTravelTrain ##TrainInTimeLoop #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. दुनिया में आए दिन न जाने कितनी ही अजीबोगरीब घटनाएं घटती रहती है, लेकिन इन सभी घटनाओं के पीछे एक proper वजह होती है। जो घटना के बाद की गई इन्वेस्टिगेशन में हमारे सामने आ पाती हैं। यहां तक कि बरमुंडा ट्रायंगल जैसी रहस्यमई जगह , जिसे कभी शैतान का ठिकाना या दूसरी दुनिया का दरवाजा जैसे नामों से जाना जाता था, वहां होने वाली घटनाओं के पीछे का भी साइंटिफिक रीजन अब वैज्ञानिक दुनिया को बता चुके हैं। लेकिन आज भी इतिहास के पन्नों में एक ऐसी रहस्यमई घटना दफन है, जिसके पीछे का रहस्य आज तक रहस्य ही बना हुआ है। तो चलिये जानते है आज उस रहस्यमई घटना के बारे में जिसने एक निर्जीव ट्रेन को भूतिया ट्रेन बना दिया। How many weird events happen in the world without going to the days in the world. But behind all these incidents there is a proper reason. Investigations made after the incident can be found in front of us. Even the mysterious place like Bermunda Triangle, which was once known by the name of Satan's place or the other world's door, the scientific reason behind the events that occur in it has now been reported to the world. But even today there is a mysterious event buried in the pages of history, the secret behind which remains the mystery till date. So let's know today about the mysterious incident that made a lifeless train a ghostly train. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
Animation के जरिए देखिए इसरो कैसे करेगा चंद्रमा पर लैंडिंग Chandrayaan 2 Official Animated Video
Animation के जरिए देखिए इसरो कैसे करेगा चंद्रमा पर लैंडिंग Chandrayaan 2 Official Animated Video
3 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
This video created and animated by ISRO Copyright © ISRO, All Rights Reserved नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #Chandrayaan2 #ISRO #Chandrayaan2Animation #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
आखिर क्या हुआ था दुनिया के सबसे बड़े Airship के साथ Hindenburg :Titanic of the Skies Documentary
आखिर क्या हुआ था दुनिया के सबसे बड़े Airship के साथ Hindenburg :Titanic of the Skies Documentary
3 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
App Download link- bit.ly/yelonow website link- www.yelonow.com/ नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #Hindenburg #HindenburgDocumentary #HindenburgDisaster #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. टाइटेनिक का नाम तो आप सभी ने सुना ही होगा। टाइटेनिक अपने समय के सबसे बड़े जहाजों में से एक था। हालांकि यह अपनी पहली यात्रा के दौरान ही दुर्घटनाग्रस्त होकर समुद्र में डूब गया था। लेकिन आज भी अगर हम टाइटेनिक का नाम सुनते हैं तो हमारे जेहन में उस विशालकाय जहाज की यादें ताजा हो जाती है, खैर टाइटेनिक तो पानी में चलने वाला एक जहाज था लेकिन बात जब हवा की आती है तो सबसे पहले Hindenburg का नाम सामने आता है । Hindenburg अपने समय की सबसे लार्जेस्ट फ्लाइंग मशीन और लार्जेस्ट Airship थी, जिसके अंदर भव्यता और विलासिता अपने चरम पर थी। यानी Hindenburg अपने हर प्रतिद्वंदी से श्रेष्ठ था। यही कारण है की इसे Titanic of the skies भी कहा जाता था। अपने जीवन काल मैं एयरशिप में कुल 62 Successful flights पूरी की, लेकिन 63 वी उडा मे Hindenburg के साथ कुछ ऐसा हुआ जिसने इसकी किस्मत को पूरी तरह बदल कर रख दिया। All of you have heard the name of Titanic. Titanic was one of the largest ships of its time. However, during its first visit, it was only accidentally crashed into the sea. But even today, if we hear the name of Titanic, then in our excitement the memories of that huge ship are fresh, well, Titanic was a ship in water, but when the wind comes, the name of Hindenburg first comes out. . Hindenburg was the longest flying machine and the largest airship of its time, in which the magnificence and luxury were at its peak. That is, Hindenburg was superior to every opponent. This is why it was also called Titanic of the skies. In my life time, I completed 62 successful flights in Airships, but something like happened with Hindenburg in the 63rd Uda which completely changed its fate. Instant personal loan Aadhar card se loan kaise le Aadhar Card Par loan kaise le Aadhar Card Loan -Instant personal loan without Documents Instant personal loan kaise le personal loan kaise le Aadhar Card Loan apply online Aadhar card loan online Personal loan only aadhar card pan card loan aadhar card pan card Aadhar Card Pan Card par loan Yelo app Yelo instant loan app compare loans instant personal loan kaise le loan kaise le instant loan kaise le best instant loan app how to apply instant personal loan how to apply instant loan instant personal loan comparison short instant loans payday loans online loan app instant small loan instant money loan unsecured loans lowest rate loan Aadhar card loan online loan without income proof Instant personal loan app loan on aadhar card online #PersonalLoan #AadharLoan Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या होता अगर इंसान अंतरिक्ष मे पैदा होता What if human born in space
क्या होता अगर इंसान अंतरिक्ष मे पैदा होता What if human born in space
3 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
What if human born in space नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #BornInSpace WhatIfYouBornInSpace #BornInOuterSpace #BornInIss #WhatIfYouBornInIss #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुवा जब Pilot 17000 feet पर प्लेन से बाहर निकल गया Pilot Blown out of the plane at 17,000 feet
क्या हुवा जब Pilot 17000 feet पर प्लेन से बाहर निकल गया Pilot Blown out of the plane at 17,000 feet
3 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
क्या हुवा जब Pilot 17000 फीट पर प्लेन से बाहर निकल गया Pilot Blown out of the plane at 17,000 feet नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #BritishAirwayFlight5390 #AirCrashDocumentary #Flight5390 #PilotInAir #MidAirPilotBlownOut #PilotBlownOut #BritishAirwayFlight5390CaseStudy #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket Science. 10 जून 1990, British Airway Flight 5390 इंग्लैंड के बर्मिंघम एयरपोर्ट से स्पेन के Malaga एयरपोर्ट की उडान के लिए तैयार हो रही थी। प्लेन के कैप्टन 42 साल के Tim Lancaster थे। जिन्हे करीब 11000 घंटों का फ्लाइंग एक्सपीरियंस था। सुबह करीब 8:20 पर प्लेन ने बर्मिंघम एयरपोर्ट से उड़ान भरी। उड़ान के करीब 13 मिनट बाद प्लेन 17300 फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर रहा था, तभी अचानक कॉकपिट में एक जोरदार धमाका होता है।जिसके बाद इस प्लेन के साथ वो हादसा हुवा, जिसने इस घटना को अविस्मरणीय बना दिया। On June 10, 1990, British Airway Flight 5390 was preparing for the flight of Spain's Malaga Airport from Birmingham Airport in England. Captain of the plane was Tim Lancaster, 42 years old. Which was flying experience of about 11,000 hours. Plane took flight from Birmingham Airport at around 8:20 in the morning About 13 minutes after the flight, the plane was flying at 17,300 feet altitude, only then there is a strong explosion in the cockpit. After that the accident happened with this plane, which made this incident unforgettable. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
आखिर क्या हुवा था उस रात Titanic के साथ Titanic Mystery...Sponsor By WinZO Gold
आखिर क्या हुवा था उस रात Titanic के साथ Titanic Mystery...Sponsor By WinZO Gold
4 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
Download WinZO Gold :- winzogold.gsc.im/k81AMzAr90 नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #TitanicMystery #WinZOGold #WinZOSuperStarChallenge #Titanic #TitanicMysterySolved #WhyTitanicSink #TitanicSinkingReason #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. सन् 1898, एक प्रसिद्ध लेखक मोर्गन रॉबर्टसन ने एक novell लिखा। इस novell में एक ऐसे जहाज का जिक्र किया गया था जो तकनीक और इंजीनियरिंग का उत्कृष्ट नमूना था। Morgan Robertson के उपन्यास के अनुसार इस जहाज की संरचना इतनी शानदार थी कि इसे अनसिंकेबल यानी कभी ना डूबने वाला जहाज कहा जाता था। एक रात समुद्र के बीच में यह जहाज Ice berg से टकरा गयाअौर डूबने लगा, लेकिन जहाज पर पर्याप्त लाइफबोट्स ना होने की वजह से आधे से ज्यादा मुसाफिरों को अपनी जान गवानी पड़ी। इस उपन्यास के ठीक 14 साल बाद एक ऐसे ही जहाज का निर्माण हुआ जिसे अनसिंकेबल कहा जाता था और बिल्कुल उसी नाइटकीय अंदाज में इस जहाज के साथ भी वही घटना घटी जिसका जिक्र Morgan Robertson ने 14 साल पहले अपने उपन्यास में कर दिया था। Well यह तो मात्र एक Coincidence था। लेकिन उस रात असल मे टाइटैनिक के साथ ऐसा क्या हुआ था कि कभी ना डूबने वाला जहाज महज कुछ ही घंटों में डूब गया? In 1898, Wrote a novell by a famous writer Morgan Robertson. In this novell, a vessel was mentioned which was an excellent example of technique and engineering. According to Morgan Robertson's novel, the structure of this vessel was so spectacular that it was called Unsinkable, which means never drowning ship. One night in the middle of the ocean, the ship collided with the ice berg and began to sink, but due to not having enough lifeboats onboard, more than half of the passengers had to give their lives. Just 14 years after the novel, a similar ship was built which was called Uncinible and in the same nightmare style, the same incident happened with Morgan Robertson, which was mentioned 14 years ago in its novel. Well it was then just a coincidence. But what happened in the night with the Titanic that the never drowning vessel drowned in just a few hours? Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुवा जब 35000 फीट पर दो Airplane आपस में टकरा गई When Two Airplanes Collided At 35,000 Feet
क्या हुवा जब 35000 फीट पर दो Airplane आपस में टकरा गई When Two Airplanes Collided At 35,000 Feet
4 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
क्या हुवा जब 35000 फीट पर दो Airplane आपस में टकरा गई When Two Airplanes Collided At 35,000 Feet नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #MidAirCollision #MidAirCollisionDocumentary #AirplaneCollisionDocumentary #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket Science. 1 जुलाई 2002, समय रात 8:10। Moscow के Domodedovo इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर 45 बच्चों समेत कुल 60 यात्री Flight का इंतजार कर रहे थे। करीब 30 मिनट बाद 8:48 PM पर Bashkirian एयरलाइंस की फ्लाइट 2937 ने 60 यात्रियों तथा 9 क्रू मेंबर के साथ मास्को से बार्सिलोना जाने के लिए उड़ान भरी। इस प्लेन को 3000 किलोमीटर की दूरी 4 घंटे और 20 मिनट में तय करनी थी। 11:06 PM पर फ्लाइट 2937 ऑस्ट्रेलिया के ऊपर 36000 फिट के Altitude पर उड़ान भर रही थी। प्लेन में मौजूद सब लोग आश्वस्त थे कि 2 घंटे बाद वे बार्सिलोना पहुंच जाएंगे, लेकिन कोई नहीं जानता था कि उन से 600 किलोमीटर दूर उनकी मौत उड़ान के लिए तैयार हो रही थी। क्योंकि ठीक उसी समय एक DHL Flight 611 ने Bergamo से Brussels जाने के लिए उड़ान भरी। 11:33 PM पर दोनों प्लेन 36000 फीट के Altitude पर एक दूसरे से 44 किलोमीटर दूर थी तथा Sound की स्पीड से भी तेज गति से एक दूसरे की तरफ आ रही थी। लेकिन यहाँ समस्या यह थी कि दोनों प्लेंस का एयर रूट क्रॉस कर रहा था, यानी जिस स्पीड से दोनों प्लेन चल रही थी उसके अकॉर्डिंग स्विजरलैंड के ऊपर दोनों प्लेन आपस में टकरा सकती थी। जमीन से 35000 फीट ऊपर जब Airplanes की ये भयानक टक्कर हुयी होगी तो क्या हुवा होगा जानने के लिये Video को अंत तक देखिये। 1 July 2002, time 8:10 pm A total of 60 passengers, including 45 children, were waiting for the flight at Moscow's Domodedovo International Airport. About 30 minutes later at 8:48 pm, Bashkirian Airlines Flight 2937 took 60 passengers and 9 crew members to fly from Moscow to Barcelona. The plane had to decide the distance of 3000 kilometers in 4 hours and 20 minutes. At 11:06 PM Flight 2937 was flying over Australia's altitude of 36,000 ft. Everyone in the plane was convinced that after 2 hours, they would reach Barcelona, ​​but no one knew that his death was 600 kilometers away from him and was preparing for the flight. Because at the same time a DHL Flight 611 flew to Bergamo from Brussels. At 11:33 PM, both the planets were 44 kilometers away from each other on the altitude of 36,000 feet and coming towards one another at a speed faster than the speed of sound. But the problem here was that both the planes were crossing the air, i.e. the speed at which the two planes were running, both of the planes could collide on the border of Switzerland. Up to 35,000 feet above the ground, when this horrific collision of Airplanes has been done, watch the video end to see what will happen. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुवा जब 24000 फीट पर Airplane की छत हवा मे उड गयी A Airplane lost its roof at 24000 feet
क्या हुवा जब 24000 फीट पर Airplane की छत हवा मे उड गयी A Airplane lost its roof at 24000 feet
4 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #AlohaFlight243 #PlaneIncidents #AirCrashInvestigation #AirplaneBrokenDocumentery #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. आपने Hollywood movies में अक्सर देखा होगा कि जब High Altitude पर किसी प्लेन का दरवाजा खोल दिया जाता है तो बहुत तेजी से अंदर की सारी चीजें बाहर की तरफ जाने लगती है। क्योकी प्लेन के अंदर Air का प्रेशर High होता है जबकि प्लेन के बाहर Air का प्रेशर Low होता है। इसलिए जब प्लेन में कोई Hole Create होता है या उसका दरवाजा अचानक खोला जाता है तो अंदर की सारी Air ,High pressure से Low Pressure की ओर तेजी से गति करती है। यह हवा अपने साथ हर उस चीज को उड़ा ले जाती है जो या तो प्लेन से tightly बंधा हुआ नहीं है या वजन में काफी हल्का है। हालांकि ऐसी चीजें मात्र कल्पना नहीं है, क्योंकि अतीत में एक ऐसी घटना घट चुकी है जब प्लेन की छत 24000 फीट की ऊंचाई पर हवा में उड़ गई थी। तो जानते हैं उस घटना के बारे मे। You must have seen in Hollywood movies often that when a door of a plane is opened on High Altitude, then all the inside things start moving outwards very fast. Air pressure inside the plane is high whereas air pressure outside the plane is low. Therefore, when a hole is created in the plane or its door is opened suddenly, the entire air in the air moves fast towards the low pressure from the high pressure. This air blows away everything that is either not tightly tied with the plane or is light in weight. However, such things are not mere speculation, because in the past an incident has decreased when the plane's roof was blown up in the air at a height of 24,000 feet. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
ब्रह्मांड के कुछ अजीब Planet जो वास्तविकता मे भी मौजूद है unbelievably strange planets in universe
ब्रह्मांड के कुछ अजीब Planet जो वास्तविकता मे भी मौजूद है unbelievably strange planets in universe
4 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #StrangePlanet #UnbelievablyPlanet #PlanetOfUniverse twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. कहते हैं ये दुनिया इतनी अजीब है कि यहां कब क्या हो जाए कोई नहीं जानता। लेकिन सच कहा जाए तो ये दुनिया नहीं बल्कि पूरा ब्रह्मांड ही अनगिनत रहस्यो से भरा पड़ा है। कल तक जिन चीजों को हम महज कल्पना या कोरी अफवाह का नाम लेकर खारिज कर देते थे, कुछ दिनों बाद वही चीजे सच बनकर हमारे सामने आ जाती हैं। तो चलिए आज ब्रह्मांड के उन ग्रहो का सफर करते हैं जिनके बारे में जानने पर एक बार यही लगता है कि ये सच में एक कल्पना है । It is said that this world is so strange that no one knows when it will happen here. But the truth is said to be not this world, but the whole universe is filled with countless mysteries. Until yesterday, we used to reject only those things which we merely rejected with the name of fantasy or blank rumor, after a few days, the same thing came true in front of us. So let's go to the planets of the universe today, knowing about it once seems like it is a fantasy. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
एक बार फिर सूर्य पर रिकॉर्ड हुई रहस्यमयी गतिविधि The Sun Is Spitting Out giant 'Lava Lamp Blobs'
एक बार फिर सूर्य पर रिकॉर्ड हुई रहस्यमयी गतिविधि The Sun Is Spitting Out giant 'Lava Lamp Blobs'
5 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
एक बार फिर सूर्य पर रिकॉर्ड हुई रहस्यमयी गतिविधि The Sun Is Spitting Out 'Lava Lamp Blobs' 500 Times the Size of Earth, नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #SunMystery #SolarBlobs #SunCorona #SolarWind #SolarStorms #SunBlobsMystery #SolarBlobsMystery #Helios1 #Helios2 #ParkerSolarProbe #SolarParkerProbe #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. Credit for image :- 1. commons.wikimedia.org/wiki/File:Pouring_liquid_mercury_bionerd.jpg Bionerd [CC BY 3.0 (creativecommons.org/licenses/by/3.0)] सन 1974 और 1976 में नासा तथा जर्मन एयरोस्पेस सेंटर के द्वारा दौरान helios-1 और helios-2 लॉन्च किए गए। ये दोनों ऐसे यान थे जो‌ सूर्य के नजदीक जाकर उसका अध्ययन करने वाले थे। इन दोनों probs ने करीब एक दशक तक सूर्य को orbit किया। पार्कर सोलर प्रोब से पहले तक सूर्य के सबसे नजदीक जाने का रिकॉर्ड भी helios-2 के ही नाम था। यानी Helios-2 ऐसा पहला यान था जिसने सबसे पहले सूर्य से करीब 44 मिलीयन किलोमीटर दूर रहकर सूर्य का अध्ययन किया था। लेकिन अब लगभग 45 सालों के बाद जब astronomers के द्वारा helios probe से प्राप्त डाटा को reexamine किया गया तो सूर्य के कुछ नए रहस्यों का पता चला, जो आने वाले समय में सूर्य के सबसे बड़े रहस्य कोरोना की अप्रत्याशित Temperature पर से पर्दा उठा सकता है। During the year 1974 and 1976, helios-1 and helios-2 were launched by NASA and German Aerospace Center. Both of these were the ones who would go to the nearest Sun and study it. These two probes have orbit the Sun for nearly a decade. Before the Parker Solar probe, the closest record to the Sun was also the name of the helios-2. I.e. Helios-2 was the first such vehicle that first studied the Sun, about 44 million kilometers away from the Sun. But now after about 45 years, when the data obtained from the helios probe by astronomers was reexamine, then some new secrets of the sun were detected, which in the coming time, the sun's largest mystery can be shrouded in Corona's unexpected temperature. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
Black Hole की पहली Image का सच क्या है how scientists took first picture of a black hole ??
Black Hole की पहली Image का सच क्या है how scientists took first picture of a black hole ??
5 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #BlackHole #BlackHoleFirstImage #EventHorizon #BlackHoleImage #EventHorizonTelescope #Messier87 #BlackHoleFirstImageCapture #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 10 अप्रैल 2019 को आपने टीवी, मीडिया,यूट्यूब अौर social media पर एक खबर जरूर सुनी होगी, कि वैज्ञानिकों ने Black Hole की पहली तस्वीर कैप्चर कर ली है। लेकिन क्या आपको वाकई लगता है कि किसी ब्लैक होल की तस्वीर को capture कर पाना संभव है ? कहीं आपने जो अभी तक देखा और सुना है वह अधूरा सच तो नहीं था? तो चलीये जानते है ब्लैक होल की इस तस्वीर की पूरी सच्चाई । On April 10, 2019, you must have heard news on TV, media, PA-zone and social media, that scientists have captured the first picture of Black Hole. But do you really think it is possible to capture a picture of a black hole? What have you seen and heard so far was incomplete truth. So you need to know the truth of this picture of black hole. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या मिशन शक्ति से ISS को नुकसान पहुंचा है Does “Mission Shakti” harm international space station
क्या मिशन शक्ति से ISS को नुकसान पहुंचा है Does “Mission Shakti” harm international space station
5 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे और मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत और हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है और सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार और सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #MissionShakti #DRDO #Isro #IndiaMissionShakti #AntiSatelliteMission #A-SET #A-SETMissile #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 27 मार्च 2019 प्रत्येक भारतवासी के लिए गर्व का पल था, क्योंकि इस दिन भारत ने “मिशन शक्ति” के जरिए अंतरिक्ष महाशक्ति के रूप में अपना नाम दर्ज करवा दिया था। लेकिन अब भारत के “मिशन शक्ति” पर सवाल उठाए जा रहे हैं। नासा ने एक बयान जारी करके यह कहा है कि भारत का “मिशन शक्ति” International Space Station के लिए एक बड़ा खतरा बन गया है । तो क्या सच में भारत का “मिशन शक्ति” से ISS को कोई नुकसान पहुंचा है। जानेंगे आज के खास एपिसोड में। 27 March 2019 was the moment of pride for every Indian, because on this day India had registered its name in the form of space power through "Mission Shakti". But now India's "Mission Shakti" is being questioned. NASA has issued a statement saying that India's "Mission Shakti" has become a major threat to the International Space Station. So what really has hurt ISS from India's "Mission Shakti". In today's special episodes, you will know. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुवा जब एक आदमी को जिंदा दफना दिया गया What happened when a man was buried alive
क्या हुवा जब एक आदमी को जिंदा दफना दिया गया What happened when a man was buried alive
5 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #BuriedAlive #Buried #BuriedAliveIncident #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. आप सभी ने जिंदगी में कभी ना कभी कोई डरावना सपना तो जरुर देखा होगा। जिसमें आप के पीछे कोई महाकाय दानव, आपको मारने के लिए दौड़ रहा होगा या किसी ने आपको जमीन के नीचे जिंदा दफना दिया होगा। खैर सपनों में तो आपकी मौत होने से पहले ही आपकी आंखें खुल जाती हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अगर आपके यह डरावने सपने असल जिंदगी में आपके सामने आ जाए तो क्या होगा। जी हां आज हम बात करने वाले हैं कुछ ऐसी ही खौफनाक घटनाओं की जिनमें कुछ लोगों को जिंदा दफना दिया गया था। तो चलिए शुरू करते हैं आज का यह खास एपिसोड । All of you must have seen a scary dream in life or at some point in time. In which a big monster behind you, you might have been running to kill or someone buried you alive under the ground. Well, in dreams, your eyes open before you die. But have you ever wondered what will happen if your scary dreams come out in front of you in life? Yes, today we are going to talk about some such horrific incidents in which some people were buried alive. So let's start today's special episode. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या होगा अगर पृथ्वी की Core ठंडी हो जाए ? What if the Earth's core cools down ??
क्या होगा अगर पृथ्वी की Core ठंडी हो जाए ? What if the Earth's core cools down ??
5 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #earthcore #EarthCoreCoolDown #EarthCoreCooling #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. पृथ्वी हमारे सौरमंडल का तीसरा और अभी तक ज्ञात सभी astronomical objects में से लाइफ के लिए सबसे उपयुक्त प्लेनेट है। पृथ्वी का जन्म आज से 4.5 बिलियन साल पहले हुआ था। लेकिन तब पृथ्वी इतनी खूबसूरत नहीं थी जितनी आज हम इसे देख पा रहे हैं । हमारी पृथ्वी की त्रिज्या 6371 किलोमीटर है ,यानी अगर आप पृथ्वी को एक छोर पर खोदना स्टार्ट करेंगे तो 12742 किलोमीटर के बाद आप पृथ्वी के दूसरे छोर पर पहुंच जाएंगे, लेकिन इस दौरान आपको पृथ्वी के बेहद सुंदर और अलग-अलग रूपों से गुजरना पड़ेगा। क्योंकि हमारी पृथ्वी को उसके temperature,properties अौर behavior के आधार पर अलग-अलग layers में विभाजित किया गया है। पृथ्वी की जिस surface पर हम निवास करते हैं, उसे crust कहा जाता है। crust के नीचे मेंटल पाया जाता है। अौर सबसे अंत में केंद्र में पृथ्वी की core पाई जाती है। earth की core का temperature सूर्य की सतह के temperature के बराबर होता है। core के इसी temperature की वजह से पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अगर किसी कारणवश अचानक पृथ्वी की core ठंडी हो जाए तो क्या होगा। तो चलिए ढूंढते हैं इसी सवाल का जवाब आज के खास एपिसोड में । Earth is the most suitable planetnet for life from all the astronomical objects of our third and yet known solar system. Earth was born 4.5 billion years ago today. But then the earth was not so beautiful as we can see it today. Our earth's radius is 6371 kilometers, that is, if you start digging the earth at one end, you will reach the second end of the earth after 12742 kilometers, but during this time you will have to go through very beautiful and different forms of earth. Because our earth is divided into different layers based on its temperature, properties and behavior. The surface of the earth we live on is called crust. Mantle is found under the crust. And at the end, the core of the earth is found in the center. The temperature of the earth core is equal to the temperature of the sun surface. Because of the same temperature of the core, life on earth is possible. But have you ever think what would happen if the earth's core cooled for some reason? So let's find out the answer to this question in today's special episodes. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा दुबारा जायेगा चन्द्रमा की सतह पर || NASA will send astronaut again on the Moon surface
नासा दुबारा जायेगा चन्द्रमा की सतह पर || NASA will send astronaut again on the Moon surface
6 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नासा दुबारा जायेगा चन्द्रमा की सतह पर || NASA will send astronaut again on the Moon नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #moonlanding MoonToMars #MoonGatway #lunargatway #LunarOrbitPlatformGatway #LOP-G #NasaNewMoonLanding #NasaMoonLandingPlan #NasaMoonLanding2028 #MoonLanding2028 #MoonToMarsMission #MoonToMarsMission2028 #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. Special thanks for video footage :- Lockheed Martin, SpaceX, NASA,NASA Video, NASA Johnson, NASA's Marshall Space Flight Center, NASA 360, European Space Agency (ESA), United Launch Alliance 21 जुलाई 1969, सुबह 8:26 वह समय था, जब पहली बार इंसान ने पृथ्वी के अलावा किसी दूसरे natural space object पर कदम रखा था। यह ऑब्जेक्ट हमारा एकमात्र उपग्रह चंद्रमा था। अब यहाँ सवाल यह उठता है कि नासा ने ह्यूमन लैंडिंग के लिए चंद्रमा का ही चयन क्यों किया, अौर क्या नासा अब कभी चंद्रमा पर दोबारा जाएगा। तो आपके सवाल का जवाब है,हां । नासा जल्द ही चंद्रमा पर दोबारा जाने वाला है और वह भी एक नये तरीके से। जानने के लिए वीडियो को अंत तक पूरा देखिए। 21 July 1969, morning 8:26 was the time when the first person had stepped on some other natural space object other than the Earth. This object was our only satellite moon. Now the question arises here, why did NASA choose the moon for human landing, and whether NASA will now be reclaimed on the Moon. So the answer to your question is yes. NASA is on its way to the moon again and that too in a new way. To know the video is complete till the end. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
कमजोर दिल वाले ना देंखे, A true incident when a whale devoured a man
कमजोर दिल वाले ना देंखे, A true incident when a whale devoured a man
6 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
Special thanks to DainikBhasker for real footage of this incident. Dainik Bhasker website :- www.bhaskar.com नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #WhaleAttack #TrueIncident #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. आपने वह कहावत तो जरूर सुनी होगी कि मौत के मुंह से बाहर निकल कर आना। लेकिन आज मैं आपको यह कहावत सुनाने वाला नहीं बल्कि दिखाने वाला हूं। बहुत से लोगों को अपनी जिंदगी के साथ कुछ रोमांचक करने का शौक होता है। लेकिन ये शौक कई बार इतने भयानक हाथों में भी बदल जाते हैं जिनकी कोई कल्पना भी नही कर सकता। कुछ ऐसी ही घटना 51 साल के डाइवर रेनर शिंफ के साथ भी हुई थी । तो चलीये जानते है की रेनर के साथ ऐसा क्या हुवा था, जिसने उनके इस सफर को उनकी जिंदगी का सबसे भयानक और रोमांचक सफर बना दिया। You must have heard that proverb coming out of the mouth of death. But today I'm not going to tell you this proverb but to show. Many people have a passion to do something exciting with their life. But these hobbies sometimes change in such horrible hands that no one can imagine. A similar incident happened with the 51-year-old Diver Rainer Shinf. So let's know what happened to Rainer, who made his journey the most horrifying and exciting journey of his life. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
जब ज्वालामुखी से 40000 फीट ऊपर Airplane के सारे इंजन फेल हो गये..what happen with Boeing 747
जब ज्वालामुखी से 40000 फीट ऊपर Airplane के सारे इंजन फेल हो गये..what happen with Boeing 747
6 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
जब ज्वालामुखी से 40000 फीट ऊपर Airplane के सारे इंजन फेल हो गये..what happen with Boeing 747 नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #Boeing747 #flight9 #volcanoflight #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. अक्सर हम आसमान में उड़ती हुई एयरप्लेन को देखकर यही सोचते हैं कि जमीन से 40,000 फीट ऊपर हवा में उड़ने का मजा ही अलग आता होगा। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अगर आपकी Boeing airplan के सारे इंजन जमीन से 40,000 फिट ऊपर हवा में एक साथ बंद हो जाए और नीचे एक भयानक ज्वालामुखी वाला द्विप हो तो उस स्थिति में आपकी हालत कैसी होगी। जी हां मैं किसी hollywood या movie की बात नहीं कर रहा हू। मै बात कर रहा हूं असली जिंदगी की । आज हम इस विडियो मे एक ऐसी ही एयरप्लेन के बारे में जानेंगे जिसकी सभी इंजन 40,000 फिट की ऊंचाई पर एक साथ बंद हो गए थे। Often we see the airplane flying in the sky and think that the only way to fly 40,000 feet above the ground is to enjoy the fun of flying. But have you ever wondered how your condition would be in that situation if all of your Boeing airplan engines stop at 40,000 ft above ground and together with a terrible volcano biosphere below. Yes I'm not talking about any Hollywood or movie. I am talking about real life Today we will learn about a similar airplane in this video whose all engines were closed together at a height of 40,000 ft. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
जब रहस्यमयी UFO ने लोगो को किया अगवा real life alien abduction casees
जब रहस्यमयी UFO ने लोगो को किया अगवा real life alien abduction casees
6 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
जब रहस्यमयी UFO ने लोगो को किया अगवा real life alien abduction casees नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #Aliens #Alien #AlienAbduction #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. ISS में ऑक्सीजन की supply कैसे की जाती है..How is oxygen produced in ISS:- pa-zone.info/view/MTNoUDNTY3p6Vms.html Credit for image:- 1. commons.wikimedia.org/wiki/File:Zeta_reticuli.svg Zeta_reticuli.png: en:User:Clementiderivative work: Gregors (talk) 15:46, 22 February 2011 (UTC) [CC BY-SA 2.5 (creativecommons.org/licenses/by-sa/2.5)] 16 फरवरी 2019 ऑस्ट्रेलिया के broom शहर का मौसम बेहद खराब था। रात होते-होते चारो तरफ आंधी और तूफान के साथ आसमान में बिजली कड़कने लगी। इसी बीच एक cctv कैमरे में कुछ ऐसा रिकार्ड हुआ जो बिल्कुल भी सामान्य नहीं था । अगले दिन यानी 17 फरवरी 2019 को जब broom पुलिस ने cctv फुटेज ही जांच की तो उन्हें जो दिखाई दिया वो बेहद चौंकाने वाला था। 16 February 2019 Australia's broom city was extremely poor. With the storm and storm all around the night, lightning struck in the sky. Meanwhile, there was a record in a cctv camera which was not normal at all. The next day i.e. 17 February 2019 when the broom police examined the cctv footage, then what they saw was very startling Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा ने सूर्य पर रिकॉर्ड की एक रहस्यमयी गतिविधि Nasa recorded pseudo shocks on sun
नासा ने सूर्य पर रिकॉर्ड की एक रहस्यमयी गतिविधि Nasa recorded pseudo shocks on sun
6 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नासा ने सूर्य पर रिकॉर्ड की एक रहस्यमयी गतिविधि nasa recorded pseudo shocks on sun For live track parker solar probe watch this video :- pa-zone.info/view/dUhLVUEtMGVSaWc.html नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #Sun #CoronalHeating #SunStructure #PseudoShocks #IRIS #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. Credit for video footage:- Nasa , NASA Video , NASA Goddard, JHU Applied Physics Laboratory, National Geographic Channel सूरज पिछले 150 सालो से वैज्ञानिकों के लिए एक रहस्यमई पहेली बना हुआ है। सूर्य को अच्छे से समझने के लिए नासा ने पिछले साल ही पार्कर सोलर प्रोब को सूर्य के निकट भेजा था। लेकिन इस मिशन के अलावा भी एक ऐसा मिशन एक्टिव है जो सूर्य पर लगातार अपनी नजरें बनाए हुए हैं । इंटरफेस रीजन इमेजिंग स्पेक्ट्रोग्राफ या आयरस नाम की यह सेटेलाइट पृथ्वी के चारों ओर ऑर्बिट करते हुए लगातार सूर्य की हर हलचल पर अपनी नजर बनाए रखती है। आयरस पहला ऐसा मिशन था जिसे सूर्य के एटमॉस्फेयर में क्रोमोस्फीयर ओर transition region का हाई रेजोल्यूशन में अध्ययन करने के लिए डिजाइन किया गया था। जबकी इससे पहले के सभी मिशन इन क्षेत्रों का हाई रेजोल्यूशन में अध्ययन कर पाने में सक्षम नहीं थे। हाल ही में आयरस ने सूर्य पर एक रहस्यमई गतिविधि को रिकॉर्ड किया है, जो पिछले 150 सालों से चले आ रहे रहस्य से पर्दा उठा सकती हैं। आयरस ने सूर्य पर ऐसा क्या रिकॉर्ड कर लिया ,जानेंगे आज के इस खास एपिसोड में। Suraj has been a mysterious puzzle for scientists since the last 150 years. To understand the Sun well, NASA last year sent Parker Solar probe near the Sun. But apart from this mission, a mission is active which has consistently maintained its eyes on the sun. This satellite called Interface Region Imaging Spectrograph or Iris keeps its eye on every movement of the Sun continuously while performing orbit around the Earth. Iris was the first mission that was designed to study the high resolution of the chromosphere and transition region in the atoms of the Sun. Whilst all earlier missions were not able to study these areas in high resolution. Recently, Iris has recorded a mysterious activity on the sun, which can capture the secret from the past 150 years. What did Iris record on the sun, in this special episode of today? Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
ये क्या रिकॉर्ड कर लिया New Horizons ने || Universe most mysterious object captured by new horizons
ये क्या रिकॉर्ड कर लिया New Horizons ने || Universe most mysterious object captured by new horizons
7 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे और मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #newhorizons #ultimathule #ultimathuleshape #newhorizonsmission #ultimathuleflatshape #ultimathuleupdate #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 19 जनवरी 2006 को नासा ने कैप कनावरल लांच साइट से न्यू होराइजन स्पेस प्रोब को लांच किया। न्यू होराइजनस एक interplantery space probe है । इसका मुख्य उद्देश्य फ्लूट के निकट जाकर उसका अध्यन करना था। ताकि हम इस dwarf प्लेनेट के बारे में और अधिक जान सके। 14 जुलाई 2015 को यह स्पेस प्रोब प्लूटो के सबसे नजदीक पहुंचा । इस समय यह प्लूटो कि सतह से 12500 किलोमीटर ऊपर से गुजरा। अपनी इस flyby के दौरान new horizon ने हमें pluto के बारे में बहुत सी जानकारियां दी। अपने primary मिशन को पूरा करने के बाद ये स्पेसक्राफ्ट उसी trajectory में आगे बढ़ रहा था। लेकिन अभी इसके पास इतना fuel बचा हुआ था, कि इसे किसी दूसरे object का अध्यन करने के लिए भेजा जा सकता था। इसलिए नासा ने इस मिशन को आगे बढ़ाने का फैसला किया। और अब इसी मिशन के तहत new horizons ने कुछ ऐसी तस्वीरें भेजी है, जिससे पूरे साइंस जगत में खलबली मची हुई है। तो आखिर new horizons ने ऐसा क्या रिकॉर्ड कर लिया। जानेंगे आज के इस खास एपिसोड मे। On January 19, 2006, NASA launched the New Horizon Space probe from the Cap Poet Launch site. New Horizons is an interplantery space probe. Its main purpose was to study it by approaching the flute. So that we could know more about this dwarf planet. On July 14, 2015, this space probe reached the nearest Pluto. At this time, it has passed over 12500 kilometers above Pluto's surface. During this flyby, the new horizon gave us lots of information about pluto. After completing his primary mission, this spacecraft was moving in the same trajectory. But it had so much fuel left to it, that it could be sent to study some other object. So NASA decided to pursue this mission. And now under this mission, the new horizons have sent some such pictures, which has created a panic in the entire science world. So what did the new horizons record so? In this special episode of today you will know Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
ये एस्ट्रॉयड करेंगे इंसानियत का खात्मा Asteroids That can end the human civilization on earth
ये एस्ट्रॉयड करेंगे इंसानियत का खात्मा Asteroids That can end the human civilization on earth
7 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
ये एस्ट्रॉयड करेंगे इंसानियत का खात्मा Asteroids That can end the human civilization on earth नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #Asteroid #AsteroidHitTheEarth #AsteroidImpact #AsteroidBennu #AsteroidApophis #AsteroidImpacktOnEarth #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science कहते हैं कि अंतरिक्ष इतना बड़ा है कि, अगर आप अपनी पूरी जिंदगी यात्रा करके भी इसके अंतिम बिंदु पर पहुंचना चाहो तो नहीं पहुंच सकते । अंतरिक्ष के इस अथाह सागर में असंख्य ग्रह, तारे, asteroid और meteoroid भरे पड़े हैं । ना जाने कब कौन सा ऑब्जेक्ट दूसरे ऑब्जेक्ट से टकराकर उस ऑब्जेक्ट का भूगोल बदल दे । कुछ यही हाल हमारे सोलर सिस्टम का भी है ।हमारे सोलर सिस्टम में अगर किसी ऑब्जेक्ट की सूर्य के साथ क्लोजेस्ट अप्रोच 1.3AU से कम हो तो यह ऑब्जेक्ट नियर अर्थ ऑब्जेक्ट कहलाता है । यानी इसे पृथ्वी के निकट माना जाता है, और अगर इस ऑब्जेक्ट का आकार 140 मीटर से बड़ा है तो इससे संभावित रूप से खतरनाक वस्तु माना जाता है। जनवरी 2018 तक 19000 से अधिक near earth asteroid और 1885 से अधिक संभावित रूप से खतरनाक asteroid की पहचान की जा चुकी है। ऐसे में क्या आपने कभी सोचा है कि अगर एक विशालकाय asteroid, asteroid belt से अलग होकर हमारी पृथ्वी की ओर आ जाए, तो क्या होगा। तो चलीये जानते है कुछ खतरनाक asteroid के बारे में ,जो मानव सभ्यता के लिए खतरा बने हुये है। Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा के खुलासे का पूरा सच...सूर्य से आती है ॐ (ओ३म्) की आवाज ?? Sound of the sun and other planets
नासा के खुलासे का पूरा सच...सूर्य से आती है ॐ (ओ३म्) की आवाज ?? Sound of the sun and other planets
7 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #SoundOfSun #SoundOfPlanets #PlanetsSound #SunSound #SoundOfUnivers #SunSoundRecordByNasa #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. सूरज, हमारे सौरमंडल का मुख्य अंग है। सूर्य की वजह से ही पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाता है , क्योंकि जीवन के लिए जरूरी ऊष्मा हमें सूर्य से ही प्राप्त होती है। इसलिए हिंदू धर्म ग्रंथों में सूर्य को भगवान का दर्जा दिया गया है । आज से कुछ समय पहले एक वीडियो वायरल हुआ था । जिसमें यह दावा किया गया था कि नासा ने सूर्य की आवाज को रिकॉर्ड कर लिया है ,और यह आवाज हिंदू धर्म ग्रंथ के सबसे पवित्र शब्द ओम से मिलती है। यानी सूर्य से हर पल अोम की आवाज निकलती रहती है। तो क्या वास्तव में उस वीडियो में किए गए दावे सच थे ? ,क्या वास्तव में किसी प्लेनेट या सूर्य की आवाज को रिकॉर्ड कर पाना संभव है ? जानेंगे आज के खास एपिसोड में। The sun is the main organ of our solar system. Because of the Sun, life on Earth becomes possible because the heat required for life is received from the Sun itself. Therefore, in Hindu scriptures, the sun has been given the status of God. A video was viral some time ago. In which it was claimed that NASA has recorded the sound of the sun, and this voice meets the most sacred word of Hindu religion, Om. That is, the sound of “ohm” keeps going from the sun every moment. So really the claims made in that video were true? Is it possible to actually record the voice of a Planet or Sun? In today's special episodes, you will know. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
कहां तक पहुंच गया Parker Solar Probe...Current location and latest news of parker solar probe
कहां तक पहुंच गया Parker Solar Probe...Current location and latest news of parker solar probe
7 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
Live location of parker solar probe :- goo.gl/UZjH9X कहां तक पहुंच गया Parker Solar Probe...Current location and latest news of parker solar probe नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #ParkerSolarProbe #ParkerSolarProbeCurrentLocation #LiveLocationOfParkerSolarProbe #ParkerSolarProbeNews #ParkerSolarProbeUpdate #ParkerSolarProbeLatestUpdate #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science, Iss, international space station, etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. 12 अगस्त 2018 को नासा ने Cape Canaveral Launching Site से 1.5 मिलियन यूएस डॉलर यानी करीबन 1 खरब रूपये की लागत वाले पार्कर सोलर प्रोब मिशन को सूर्य का अध्ययन करने के लिए लॉन्च किया। क्योंकि नासा जानना चाहता है कि सूर्य में ऐसा क्या रहस्य छिपा हुआ है, जिसकी वजह से सूर्य की सतह का तापमान मात्र 5500 डिग्री सेल्सियस तक होता है। जबकि सूर्य के atmosphere यानी कोरोना का तापमान घटने की जगह बढ़कर 10 लाख डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। आज पार्कर सोलर प्रोब को लॉन्च किए हुए 5 महीनों का समय बीत चुका है, लेकिन इतने लंबे समय अंतराल के बाद पार्कर सोलर प्रोब वर्तमान समय में कहां है, और क्या इस लंबे समय अंतराल के दौरान पार्कर सोलर प्रोब ने कोई खास उपलब्धि हासिल की है ,जानेंगे आज के इस खास एपिसोड में। On August 12, 2018, NASA launched the Parker Solar probe mission to study the Sun, with a cost of nearly $ 1.5 million, from Cape Canaveral Launching Site, approximately 1 trillion rupees. Because NASA wants to know what such a secret is hidden in the Sun, due to which the temperature of the Sun is only up to 5500 ° C. While the Sun's atmosphere, ie, Corona's temperature rises to 10 million degrees Celsius. Today, 5 months have passed the Parker Solar probe, but after such a long interval, the Parker Solar probe is in the present time, and whether Parker Solar probe has achieved a significant milestone during this long interval. , Will know today in this special episode. Credit For Images and Gif :- 1. goo.gl/6JKcdU Phoenix7777 [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/nNSoga)], from Wikimedia Commons Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या उड़ने वाले dinosaurs का अस्तित्व था...Top 8 Flying Dinosaur (Pterosaurs)
क्या उड़ने वाले dinosaurs का अस्तित्व था...Top 8 Flying Dinosaur (Pterosaurs)
8 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #FlyingDinosaurs #Pterosaurs #Flyingapterosaurs #Top10FlyingDinosaurs #TopPterosaurs #Top8Pterosaurs #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. Credit for images :- 1. goo.gl/mfLXcF Matt Martyniuk [CC BY 3.0 (goo.gl/WMzdaA)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/XhrrWw Matt Martyniuk [CC BY 3.0 (goo.gl/KEhsja)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/h5d5jN PaleoEquii [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/XwGmi8)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/Tq2WEL Matt Martyniuk [CC BY 3.0 (goo.gl/aPH6pb)], from Wikimedia Commons 5. goo.gl/rYk3Rf Durbed [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/xQCJsX)], via Wikimedia Commons 6. goo.gl/DLjKMu FunkMonk (Michael B. H.) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/G6g1Ns) or GFDL (goo.gl/LpK5gQ)], from Wikimedia Commons 7. goo.gl/CQe3XE FunkMonk (Michael B. H.) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/C2E8V5) or GFDL (goo.gl/EScFWY)], from Wikimedia Commons 8. goo.gl/SrWqp2 Foolp [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/3L7Bsc)], from Wikimedia Commons 9. goo.gl/csGXpN Mark Witton [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/VwesgB)], via Wikimedia Commons 10. goo.gl/pkV5PB Mark Witton and Darren Naish [CC BY 3.0 (goo.gl/LqV6ne)], via Wikimedia Commons 11. goo.gl/Y5WioD Matt Martyniuk (Dinoguy2), Mark Witton and Darren Naish [CC BY 3.0 (goo.gl/6JGk46)], from Wikimedia Commons 12. goo.gl/oui37B The Nature Box [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/mc593F)], from Wikimedia Commons 13. goo.gl/1ykjsn No machine-readable author provided. John.Conway~commonswiki assumed (based on copyright claims). [GFDL (goo.gl/Jr6qvo) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/To7wE3)], via Wikimedia Commons For 6 & 7 & 13 The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. आज से 243 मिलियन साल पहले Triassic काल में पृथ्वी पर एक विशालकाय प्रजाति का राज हुआ करता था। इस विशालकाय प्रजाति ने पृथ्वी पर करीब 16 करोड़ सालों तक राज किया। इस दौरान इनकी अलग-अलग प्रजातियों ने अपने आप को विकसित किया ,और धीरे-धीरे समय के साथ ये प्रजातियां विलुप्त भी होती गई। लेकिन क्या उस युग में डायनासोरों की कोई ऐसी भी प्रजाति थी ,जो आज के युग के पक्षियों के समान आसमान में उड़ान भर पाने में सक्षम थी।जानेंगे आज के खास वीडियो में। Today 243 million years ago, during the Triassic period, there was a huge race ruled over the earth. This giant species ruled the Earth for nearly 16 million years. During this time, different species of them developed themselves, and gradually these species became extinct over time. But was there any such species of dinosaurs in that era, which was able to fly in the sky, like the birds of today's era? Find out in today's special video. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
SpaceX, 2024 में मंगल ग्रह पर भेजेगा पहला इंसान How will the first person land on Mars
SpaceX, 2024 में मंगल ग्रह पर भेजेगा पहला इंसान How will the first person land on Mars
8 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
SpaceX, 2024 में मंगल ग्रह पर भेजेगा पहला इंसान How will the first person land on Mars नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #mars #spacex #BFR #SpaceXBfr #Marslanding #HumanLandingOnMars #First-personOnMars #MarsMission #HowBfrWork #BigFalconRocket #SpaceXmissionForMars #MarsColonization #HumanOnMars #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for video footage :- SpaceX, Lockheed Martin, NASA, Boeing पृथ्वी के अलावा जब भी किसी ग्रह पर जीवन की बात आती है तो मंगल ग्रह का नाम सबसे पहले लिया जाता है। इसलिए विभिन्न सरकारी अौर गैर सरकारी space agencies मंगल ग्रह पर इंसानों को भेजने की कवायद में जुटी हुई है। एक तरफ lockheed martin अौर नासा मिलकर mars base camp का निर्माण कर रही है वही दूसरी तरफ spacex भी इस रेस मे पीछे नही हैं। नासा अौर Lockheed Martin के द्वारा बनाया गये mars base camp को 2028 मे मंगल ग्रह के ऑर्बिटर में भेजा जाएगा, और 2030 में surface lander की help से mars base camp में मौजूद 6 मे से 4 एस्ट्रोनॉट को मंगल ग्रह की सतह पर उतारा जाएगा। हालांकि नासा एक सरकारी संस्था है और उसके पास फंड की कोई कमी नहीं है, लेकिन फिर भी मंगल ग्रह पर इंसानो को सबसे पहले भेजने की इस रेस में नासा का जीतना मुश्किल लग रहा है। क्योंकि प्राइवेट क्षेत्र की एक अंतरिक्ष एजेंसीSpace X नासा को कड़ी टक्कर दे रही है। आने वाले दशक में Space X नासा से पहले 2024 में ही मंगल ग्रह पर इंसानों को भेजने वाली है। Space X यह कारनामा नासा से भी पहले कैसे कर पाएगा जानेंगे आज के इस खास वीडियो में। Whenever it comes to life on a planet other than the Earth, then the name of Mars is taken first. Therefore various government and non-government space agencies are engaged in the exercise of sending human beings on Mars. On one side, the lockheed martin and NASA are working together to build a mars base camp. On the other hand spacex is not even behind this race. The mars base camp created by NASA and Lockheed Martin will be sent to Orbiter of Mars in 2028, and in 2030, with the help of surface lander, 4 astronauts from 6th May present in the mars base camp will be brought to the surface of Mars. Although NASA is a government institution and has no difficulties for the fund, But NASA's victory is difficult to send to humans on Mars. Because a space agency Space X is giving a tough fight to NASA. In the coming decade, Space X is about to send humans to Mars on Mars in 2024 before NASA. Space X will also learn how to do this before NASA, in today's special video. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
NASA मंगल ग्रह पर Astronauts को कैसे भेजेगा How NASA will send astronauts to Mars
NASA मंगल ग्रह पर Astronauts को कैसे भेजेगा How NASA will send astronauts to Mars
8 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
NASA मंगल ग्रह पर Astronauts को कैसे भेजेगा How NASA will send astronauts to Mars नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #mars #HumanOnMars #humanlandingonmars #marslanding #HumanMarsLanding #mars2028 #nasamarsplan #Marsjourney #redplanet #mangalgrh #AstronautOnMars #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science पृथ्वी के अलावा मंगल ही एक ऐसा ग्रह है जहां जीवन की प्रबल संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। बीते दो दशकों में नासा ने मंगल ग्रह की सतह पर विभिन्न रोवर और लैंडर उतारे है ,ताकि मंगल की सतह और उसके atmosphere को अच्छी तरह से समझा जा सके। इन्हीं सब प्रयासों के दौरान नासा को अनेक बार मंगल ग्रह पर बीते समय में जीवन होने के संकेत भी मिले है। इसलिए अब नासा मंगल ग्रह पर इंसानों को भेजना चाहता है, ताकि मंगल ग्रह पर मौजुद natural resources और अन्य पर्यावरणीय कारकों को गहराई से अध्ययन किया जा सके। भविष्य में इन्हीं resources का उपयोग करके मंगल ग्रह पर इंसानों के रहने के लिये Base Camp या मानव बस्तियां बसाई जांयेगी। लेकिन...मंगल ग्रह पर पहले इंसान को पहुंचाने से लेकर वहां पर मानव बस्तियां बसाने तक के सफर को NASA कैसे तय करेग ........ जानेंगे आज के खास एपिसोड में। Apart from the Earth, Mars is the only planet where the strong potential of life is being searched. Over the past two decades, NASA has launched various rover and landers on the surface of Mars, so that the surface of Mars and its atmosphere can be well understood. During all these efforts, NASA has also found signs of living on Mars in times past. So NASA now wants to send humans to planet Mars, so that on the planet Mars, natural resources and other environmental factors can be studied in depth. Using these same resources in the future, Base Camp or human settlements will be established for humans to live on Mars. But ... how will NASA decide on the journey from the first person to Mars and settling down the human settlements over there ...... We will know in today's special episodes. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
ISS में ऑक्सीजन की supply कैसे की जाती है..How is oxygen produced in ISS
ISS में ऑक्सीजन की supply कैसे की जाती है..How is oxygen produced in ISS
8 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
ISS मे ऑक्सीजन का निर्माण कैसे किया जाता है How is oxygen produced in ISS नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for thumbnail :- By :- ESA - D.Ducros ( goo.gl/bEh9zq ) Credit for images :- 1. goo.gl/4wUU7w Orionist [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/pCGKav)], via Wikimedia Commons 2. goo.gl/7tnjnc JSquish [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/pBQCwi)], from Wikimedia Commons Credit For Video Footage :- European Space Agency (ESA), NASA, NASA Video, NASA Johnson, NASA STI Program जब कभी अंतरिक्ष और अंतरिक्ष यात्रियों की बात आती है ,तो सबसे पहले हमारे दिमाग में international space station की ही इमेज बनती है। क्योंकि apollo मिशन के अलावा आज तक ऐसा कोई भी दूसरा मिशन possible नहीं हो पाया है जो इंसानों को किसी दूसरे ग्रह या उपग्रह पर ले जा सके। ऐसे में केवल ISS ही एक ऐसा स्थान है, जहां अंतरिक्ष में रहकर astronauts और cosmonauts विभिन्न प्रकार की रिसर्च और एक्सपेरिमेंट कर सकते हैं । ताकि भविष्य में होने वाले मानव मिशनोकी नीव रखी जा सके । ISS, 1998 से पृथ्वी के ऑर्बिट में लगातार चक्कर लगा रहा है। तब से लेकर आज तक ISS मे हर वक्त कोई ना कोई अंतरिक्ष यात्री जरूर मौजूद होता है। एेसे मे यहाँ एक सवाल सभी के मन में उठता है ,कि आखिर ISS मे इतनी आक्सीजन कहां से आती है।क्या ये ऑक्सीजन पृथ्वी से सप्लाई की जाती है, या फिर ISS मे ही बनाई जाती है, जानेंगे आज के इस खास एपिसोड में। Whenever it comes to space and astronauts, first of all, the image of the international space station is created in our brain. Because apart from the apollo mission, any other mission has not been possible till date, which can lead humans to another planet or satellite. In this case, only ISS is a place where astronauts and cosmonauts can do various types of research and experiments by staying in space. In order to keep future human mission facilities in place. ISS has been continuously revolving Earth Orbit since 1998. Since then, in the ISS, there are definitely some or no astronauts present at all. So one question arises in the minds of all, that in the ISS, where so many oxygen comes from. Does this oxygen be supplied from the earth, or is it made in the ISS, in today's special episode? #internationalspacestation #iss #oxygeniniss #ISS #o2iniss #oxygensupplyofiss #issoxygensystem #issairsystem #oxiygenmakingprocessofiss #oxiygen #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा, 2020 मे मंगल ग्रह पर भेजेगा हेलीकॉप्टर रोवर NASA will send helicopter rover to Mars in 2020
नासा, 2020 मे मंगल ग्रह पर भेजेगा हेलीकॉप्टर रोवर NASA will send helicopter rover to Mars in 2020
8 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नासा, 2020 मे मंगल ग्रह पर भेजेगा हेलीकॉप्टर रोवर NASA will send helicopter rover to Mars in 2020. नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb #marshelicopterscout #marshelicopterdrone #marshelicopterrover #mars #marsexploration #lifeonmars #mars2020 #mars2020rover #roveronmars #aerialtechnologyonmars #marsaerialtechnology #marshelicopter #helicopteronmars #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit For Video Footage And Image :- NASA ,NASA Jet Propulsion Laboratory ,NASA STI Program नासा, आये दिन Space exploration के क्षेत्र में नए-नए मुकाम हासिल कर रहा है। हाल ही में नासा ने मंगल ग्रह की सतह पर इनसाइट लैंडर को उतार कर नया इतिहास रचा। अब आने वाले कुछ सालों में नासा मंगल ग्रह की सतह पर एक ऐसा प्रोब उतारने वाला है, जो किसी हेलीकॉप्टर की तरह उड़ान भर सकेगा। इस प्रोब को mars helicopter scout नाम दिया गया है। यह हेलीकॉप्टर मंगल ग्रह पर कैसे पहुंचेगा और क्या इसे वहां पहुंचाने के लिए किसी रोवर का भी इस्तेमाल किया जाएगा ,जानेंगे आज के खास एपिसोड में। Nasa , 2020 में मंगल ग्रह की सतह पर एक रोवर भेजने वाला है। इस रोवर को mars 2020 नाम दिया गया है। करीब 1050 किलोग्राम वजनी इस रोवर की साइज एक कार के आकार के बराबर है । ये रोवर 10 फीट लंबा, 9 फीट चौड़ा और 7 फीट ऊंचा है। इस रोवर को मंगल ग्रह पर Jezero crater में उतारा जाएगा। Jezero crater , 49 किलोमीटर व्यास का एक बड़ा क्रेटर है, जिसका निर्माण आज से अरबो साल पहले किसी बड़े उल्कापिंड के मंगल ग्रह की सतह से टकराने की वजह से हुआ था। mars 2020 रोवर का मुख्य उद्देश्य मंगल ग्रह पर जीवन के अस्तित्व को तलाशना है। ये रोवर मंगल ग्रह पर प्राचीन microbial life के biosignatures तलाशेगा । NASA is gaining new ground in the field of space exploration. Recently, NASA land Insight Lander on the surface of Mars and created a new history. Now in the coming years, NASA is going to launch a probation on the surface of Mars, which will fly like a helicopter. This probe has been named the mars helicopter scout. How will this helicopter reach Mars and whether a rover will be used to get it there, know today in special episodes. Nasa is a rover to send Mars to the surface of Mars in 2020. This rover has been named mars 2020. The size of this rover weighing about 1050 kg is equal to the size of a car. This rover is 10 feet long, 9 feet wide and 7 feet high. This rover will be landed in the Jezero crater on Mars. Jezero crater is a great crater of 49 km diameter, which was formed today due to the collision of some large meteorite Mars Mars surface from a few years ago. The main purpose of mars 2020 rover is to explore the existence of life on Mars. These rover will discover the biosignatures of ancient microbial life on Mars. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
देखिए क्या हुवा जब एक Airplane को Space मे भेजा गया what happened when an airplane was sent to space
देखिए क्या हुवा जब एक Airplane को Space मे भेजा गया what happened when an airplane was sent to space
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
देखिए क्या हुवा जब एक Airplane को Space मे भेजा गया what happened when an airplane was sent to space नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for images and video footage :- Virgin Galactic www.virgingalactic.com अभी तक इंसानों को स्पेस में भेजने का काम केवल नासा जैसी सरकारी संस्थाएं ही करती आ रही थी। लेकिन अब समय के साथ धीरे धीरे इस क्षेत्र में प्राइवेट कंपनियों का दबदबा भी बढ़ता जा रहा है। हाल ही में एक प्राइवेट कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक ने अपने एक एयरप्लेन को स्पेस में भेजा। वर्जिन गैलेक्टिक कंपनी की स्थापना रिचर्ड ब्रैन्सन के द्वारा 2004 में की गई थी। 14 सालों की कड़ी मेहनत के बाद 13 दिसंबर 2018 को इस कंपनी ने एक बड़ा कारनामा कर दिखाया। वर्जिन गैलेक्टिक कंपनी ने अपने VSS Unity यान के द्वारा दो इंसानों को स्पेस में भेजा। 2011 के बाद अमेरिकी धरती से पहली बार किसी यान ने अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर उड़ान भरी है ,क्योंकि 2011 के बाद से ही नासा अपने एस्ट्रोनॉट को रूस के सोयूज स्पेसक्राफ्ट के जरिए अंतरिक्ष में भेजता है। तो आखिर गैलेक्टिक कंपनी ने यह कारनामा कैसे किया ?? जानेगें आज के इस खास वीडियो में । So far, only NASA government agencies were able to send humans to space. But now with the gradual increase in the dominance of private companies in this area. Recently a private company Virgin Galactic sent an airplane to space. Virgin Galactic Company was founded in 2004 by Richard Branson. After the hard work of 14 years, on December 13, 2018, this company did a great job. Virgin Gallactic Company sent two people to space through their VSS Unity vehicle. Since 2011, for the first time since the American soil, a ship has taken flight for astronauts, since 2011, NASA sends its astronaut to space through the Soyuz Spacecraft of Russia. So how did the Galactic company do this? Let us know today in this special video. #virgingalactic #VSSUnity #vssunity #virginunity #virginfirstflighttospace #airplaneinspace #virginvssinspace #virgintriptosapce #humaninspace #RichardBranson #virginflighttospace #Virginvssunityflighttospace #virgin_flight_to_space #vss_unity_flight_to_space #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
GPS कैसे काम करता है, what is GPS and how it works
GPS कैसे काम करता है, what is GPS and how it works
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #GPS #howgpsworks #gpsprocess #gpsworkingprocess #gpsnavigation #navigation #gps #gpstrack #gpsmechanism #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for images and gif :- 1. goo.gl/wacrv3 Paulsava [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/eMnV9n)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/JcWNBB Sanjay Acharya [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/d8tvGC)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/xhbEyi Kontrollstellekundl [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/p9V76a)], via Wikimedia Commons 4. goo.gl/dTacRh Indian Army [CC BY 3.0 (goo.gl/LdtB2L)], via Wikimedia Commons 5. Isro goo.gl/6kXj9w जब भी आप किसी अनजान जगह पर जाते हैं तो अपनी location को track करने के लिए और अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए GPS का use जरूर करते होंगे। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की जीपीएस में ऐसा क्या होता है जो कुछ ही सेकंड में आप की लोकेशन को ट्रैक कर सकता है ? आखिर एक ऑब्जेक्ट की लोकेशन को ट्रैक करने के लिए यह पूरा जीपीएस सिस्टम किस तरह से काम करता है ? जीपीएस का पूरा नाम global positioning system है। जिसे Navstar भी कहा जाता है । GPS ,एक satellite based radio nevigation system है । जिसे यूएस गवर्नमेंट के द्वारा military purpose के लिए 1973 में एक प्रोजेक्ट के रूप में लॉन्च किया गया था । 1995 में पहली बार जीपीएस को आम पब्लिक के लिए ओपन किया गया ,लेकिन उस वक्त इसकी accuracy अौर quality इतनी परफेक्ट नहीं थी। सन 2000 तक यूएस गवर्नमेंट ने GPS सर्विस को बेहतर बनाने के लिए अनेक प्रयास कीये ,जिसकी वजह से सन 2000 से GPS system पूरी दुनिया में ठीक तरह से काम करने लगा Whenever you go to an unknown place, you must use GPS to track your location and to reach your destination. But have you ever wondered what happens in a GPS that can track your location in a few seconds? After all, how does this complete GPS system work to track the location of an object? The full name of the GPS is the global positioning system. Which is also called Navstar. GPS is a satellite based radio nevigation system. Which was launched in 1973 as a project for military purpose by the US government. For the first time in 1995 GPS was opened to the general public, but its accuracy and quality were not so perfect at the time. By 2000, the US government made several attempts to improve the GPS service, due to which the GPS system since 2000 started working in the whole world. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
Voyager-2 ने प्राप्त की बड़ी उपलब्धि, interstellar space में प्रवेश करने वाला दूसरा स्पेसक्राफ्ट
Voyager-2 ने प्राप्त की बड़ी उपलब्धि, interstellar space में प्रवेश करने वाला दूसरा स्पेसक्राफ्ट
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #voyager2 #interstellarspace #voyager2update #voyager2livelocation #voyagerprogram #voyager #voyager2in_interstellarspace #voyager2interstellarspace #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for video footage and image :- Nasa and its subsidiaries , Nasa jet propulsion laboratory, Voyager-2 को नासा के द्वारा 20 अगस्त 1977 को outer soler system का अध्ययन करने के लिए भेजा गया था. Voyager-2 को अपने जुड़वा स्पेस प्रोब voyager-1 से 16 दिन पहले लांच किया गया. Voyager-2 का मुख्य उद्देश्य जूपिटर, सैटर्न ,यूरेनस और नेपच्यून ग्रह का अध्ययन करना था. लेकिन वह voyager-2 ने 2 अक्टूबर 1989 को अपने प्राइमरी मिशन को पूरा कर लिया. 1989 के बाद Voyager-2 इंटरस्टेलर स्पेस की यात्रा पर निकल गया. हाल ही में नासा ने अनाउंस किया था कि वह voyager-2 इंटरस्टेलर स्पेस के नजदीक पहुंच चुका है और कभी भी heliosphere को पार करके इंटरस्टेलर स्पेस में प्रवेश कर सकता है. नासा की इस घोषणा के बाद उम्मीद जताई जा रही थी कि voyager-2 दिसंबर अंत तक interateller space में प्रवेश कर लेगा. लेकिन नासा ने आज यानी 10 दिसंबर 2018 को एक मीटिंग के बाद अब आधिकारिक रूप से घोषणा की है, कि voyager-2 heliosphere की सबसे बाहरी परत heliopause को पार कर इंटरस्टेलर स्पेस में प्रवेश कर चुका है. Voyager-2 was sent by NASA to study outer soler system on August 20, 1977. Voyager-2 was launched 16 days before its twin space probe voyager-1. The main objective of Voyager-2 was to study the planet of Jupiter, Saturn, Uranus and Neptune. But that voyager-2 completed its primary mission on October 2, 1989. After 1989 Voyager-2 went on a journey to the interstellar space. Recently, NASA had announced that it has reached the voyager-2 interstellar space and could cross the heliosphere and enter the interstellar space. After NASA's announcement, it was expected that the voyager would enter the interateller space by the end of December. But today NASA has announced officially today after a meeting on December 10, 2018, that the outermost layer of the voyager-2 heliosphere has crossed the heliopause and entered the interstellar space. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
इनसाइट लैंडर ने मंगल ग्रह पर चलने वाली हवा की अावाज को रिकॉर्ड किया, ऐसा करने वाला पहला space probe
इनसाइट लैंडर ने मंगल ग्रह पर चलने वाली हवा की अावाज को रिकॉर्ड किया, ऐसा करने वाला पहला space probe
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #insightmarswind #marswindsound #insightcaughtsoundofwind #Insight #mars #mars_insight_lander #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Thumbnail credit :- goo.gl/RfiKEe नासा का insight lander एक रोबोटिक लैंडर है। इसे मंगल ग्रह के डीप इंटीरियर या आंतरिक संरचना का अध्ययन करने के लिए भेजा गया है। इनसाइट का पूरा नाम इंटीरियर एक्सप्लोरेशन यूजिंग सिस्मिक इन्वेस्टिगेशंस जियोडीसी एंड हीट ट्रांसपोर्ट है। नासा ने 5 मई 2018 को कैलिफोर्निया के वेंडेनबर्ग एयर फोर्स बेस से इनसाइट मार्स lander को लॉन्च किया।, लगभग 7 माह की लगातार यात्रा के दौरान इस प्रोब ने 458 मिलियन किलोमीटर की दूरी तय की और फाइनली 26 नवंबर 2018 को मंगल ग्रह की सतह पर सफलतम लैंडिंग की। भारतीय समयास इस यान ने मंगलवार 27 नवंबर को सुबह 1:24 पर मंगल ग्रह की सतह पर लैंडिंग की। लैंड करने के बाद insight ने अपने दोनों सोलर पैनलों को खोल कर अपनी बैटरी को चार्ज किया। इनसाइट को मुख्य रूप से मंगल ग्रह की आंतरिक संरचना का अध्ययन करने के लिए भेजा गया था ,लेकिन insight ने हाल ही में कुछ ऐसा कारनामा कर दिखाया जिसके लिए इसे डिजाइन ही नहीं किया गया था । NASA's insight lander is a robotic lander. It has been sent to study deep planetary interior or internal structure of Mars. The full name of Insight is internal exploration using Sismomic Investigations Geodesy and Heat Transport. NASA launched Insight Mars Lander from the Wendenburg Air Force Base in California on May 5, 2018. During the nearly 7 months of continuous travel, this probe covered 458 million kilometers and finally on November 26, 2018, on the surface of Mars. Of successful landing Indian Samayas This yan landed on the surface of Mars on Tuesday 27 November at 1:24 in the morning. After landing, Insight charged its battery by opening both of its solar panels. Insight was sent primarily to study the internal structure of Mars, but Insight recently showed some such action for which it was not designed. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा का सबसे बड़ा झूठ....नासा कभी चांद पर गया ही नहीं था?? What all Apollo missions were fake?
नासा का सबसे बड़ा झूठ....नासा कभी चांद पर गया ही नहीं था?? What all Apollo missions were fake?
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for images and video footage :- Nasa जब भी स्पेस की बात आती है तो नासा का नाम सबसे पहले लिया जाता है । लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि नासा को इतनी लोकप्रियता कहां से मिली ,जी हां आपने बिल्कुल सही सोचा है। मून लैंडिंग, वही मून लैंडिंग जो असल में कभी हुई ही नहीं थी । दुनिया भर के conspiracy theorists इस बात का दावा करते हैं कि मून लैंडिंग असल में नासा के द्वारा एक सोची समझी साजिश के तहत रचा गया षड्यंत्र था । conspiracy theorists ने केवल इन बातों का दावा ही नहीं किया बल्कि अपने दावे को सच साबित करने के लिए बहुत से प्रूफ भी दुनिया के सामने रखें । आज भी अगर आप गूगल पर मून लैंडिंग सर्च करते हैं तो सबसे पहले fake या hoax ही लिखा हुआ आता है । तो क्या वास्तव में नासा ने दुनिया की आंखों में धूल झोंकी थी जानेंगे आज के खास एपिसोड में। फेक मून मिशन का यह सारा खेल 1950 के दशक से प्रारंभ हुआ था । 1950 के दशक मैं अमेरिका और सोवियत संघ दोनों के मध्य एक शीत युद्ध चल रहा था । दोनों ही देश हर मायने में एक दूसरे से आगे निकलना चाहते थे।और यहीं से शुरुआत हुई स्पेस रेस की । इस स्पेस रेस में अमेरिका लगातार सोवियत संघ से पिछड़ते जा रहा था। स्पेस रेस में पिछड़ने के कारण अमेरिका के ऊपर इस फील्ड में कुछ यूनिक और नया करने का दबाव बढ़ता जा रहा था। इसी दबाव को कम करने के लिए और स्पेस रेस में जीतने के लिए अमेरिका ने मून लैंडिंग की ये सारी कहानी रची। Whenever it comes to space, NASA's name is first taken. But have you ever wondered where NASA got such popularity, yes, you have thought right. Moon landing, the same Moon landing which was never actually happened. The conspiracy theorists around the world claim that Moon Landing was actually a conspiracy designed by NASA under a deliberate conspiracy. The conspiracy theorists did not only claim these things, but also put many proofs in front of the world to prove their claim to the truth. Even today, if you search Moon Landing on Google, the first thing is to get rid of fake or hoax. So, what exactly did NASA do in the eyes of the world was dust, in today's special episodes. This whole game of Fake Moon mission started from the 1950s. In the 1950s, I was running a Cold War between the United States and the Soviet Union. Both the countries wanted to get ahead of each other in every sense. And this is where the space race started from here. In this space race, America was continually overtaking the Soviet Union. Due to the lagging behind in the space race, the pressure of doing something unique and new in this field was increasing in America. In order to reduce this pressure and to win in the space race, America created this whole story of Moon landing. #moonlanding #fakemoonlanding #fakemoonmission #apollomissionarefake #fakeapollomission #nasafakemoonmission #nasaapollomission #nasamoonmissionreality #nasamission #apollo11 #apollo12 #apollo14 #apollo15 #apollo16 #moonmission #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
इसरो ने HysIS और 30 अन्य उपग्रहों को दो अलग कक्षाओं में कैसे स्थापित किया isro HysIS mission
इसरो ने HysIS और 30 अन्य उपग्रहों को दो अलग कक्षाओं में कैसे स्थापित किया isro HysIS mission
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #HysIS #isro #hyper_spectral_imazing_satellite #isro_HysIS #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for images :- 1. goo.gl/bXFdCM By Heliosynchronous_Orbit.png: BrandirXZise [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/ur5Mmf)], via Wikimedia Commons भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने गुरुवार 29 नवंबर 2018 को आंध्र प्रदेश के सतीश धवन स्पेस सेंटर श्रीहरिकोटा से देश के सबसे ताकतवर इमेजिंग सैटलाइट हाइपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग सैटलाइट या हाईसिस को लांच किया । हाईसिस को लांच करने के लिए पीएसएलवी C-43 रॉकेट का उपयोग किया गया। पीएसएलवी C-43, पीएसएलवी रॉकेट का ही एक उन्नत संस्करण है । जिसकी लंबाई 44.4 मीटर है । पीएसएलवी C-43 मे 4 स्टेज का यूज किया जाता है । जिनमें लिक्विड अौर solid ईंधन का उपयोग किया गया है । 230 टन वजनी PSLV C-43 रॉकेट के जरिए 1750 Kg तक के payloads को “polar sso orbit”मे स्थापित किया जा सकता है । 29 नवंबर 2018 को सुबह 9:57 पर पीएसएलवी C-43 ने हाईसिस के साथ श्रीहरिकोटा से उड़ान भरी। यह रोकेट अपने साथ हाईसिस के अलावा 8 अन्य देशों के 30 सेटेलाइट लेकर गया था । जिसमें अमेरिका के 23 तथा ऑस्ट्रेलिया ,कनाडा ,कोलंबिया ,फिनलैंड ,मलेशिया, नीदरलैंड और स्पेन के 1-1 सैटलाइट थे। इन 30 सेटेलाइट्स में 29 नैनो सेटेलाइट एक माइक्रोसैटलाइट है । जिनका कुल वजन 261.5 किलोग्राम है । जबकि भारतीय इमेजिंग सैटलाइट हाईसिस का वजन 380 किलोग्राम है । उड़ान भरने के 17 मिनट 27 सेकंड के बाद रॉकेट पृथ्वी की सतह से 636 किलोमीटर ऊपर हाईसिस को polar sso orbit या पोलर सन सिंक्रोनस आर्बिट में 97.95 डिग्री के झुकाव पर सफलतापूर्वक स्थापित किया । Indian Space Agency ISRO launched the most powerful imaging satellite hyper-spectral imaging satellite or HysIS in the country on Thursday, November 29, 2018, from Satish Dhawan Space Center, Andhra Pradesh, Sriharikota. PSLV C-43 rocket was used to launch the HysIS. PSLV C-43 is an advanced version of PSLV rocket. Whose length is 44.4 meters. PSLV C-43 has 4th Stage. In which liquid and solid fuel has been used. The payloads up to 1750kg can be installed in "polar sso orbit" via a 230-ton weight PSLV C-43 rocket. On November 29, 2018, at 9:57 am, PSLV C-43 took flight from Sriharikota with HysIS. This rocket had taken with him 30 satellites from 8 other countries, besides the HysIS. Which included 23 from USA and one satellites from each countries Australia, Canada, Colombia, Finland, Malaysia, Netherlands and Spain. In these 30 satellites, 29 are nano satellites and one is microsatellite. The total weight of which is 261.5 kg. Whereas the Indian Imaging Satellite Hightness weighs 380 kgs. After 17 minutes and 27 seconds of flying, the rocket successfully set up 636 km above the surface of the earth with a tilt of 97.95 degrees in polar sso orbit or Polar Sun Synchronous orbit. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा के Insight lander ने मंगल ग्रह पर लैंडिंग कैसे की....How Mars Insight Lander is Work
नासा के Insight lander ने मंगल ग्रह पर लैंडिंग कैसे की....How Mars Insight Lander is Work
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #Insight #mars #mars_insight_lander #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. Special credit for make this video possible :- Nasa , NasaInsight, Jet propulsion laboratory, National Geographic channel, Jeff Quitney Thumbnail credit :- goo.gl/RfiKEe नासा का insight lander एक रोबोटिक लैंडर है। इसे मंगल ग्रह के डीप इंटीरियर या आंतरिक संरचना का अध्ययन करने के लिए भेजा गया है। इनसाइट का पूरा नाम इंटीरियर एक्सप्लोरेशन यूजिंग सिस्मिक इन्वेस्टिगेशंस जियोडीसी एंड हीट ट्रांसपोर्ट है। नासा ने 5 मई 2018 को कैलिफोर्निया के वेंडेनबर्ग एयर फोर्स बेस से इनसाइट मार्स क्लासिक को लॉन्च किया।, लगभग 7 माह की लगातार यात्रा के दौरान इस प्रोब ने 458 मिलियन किलोमीटर की दूरी तय की और फाइनली 26 नवंबर 2018 को मंगल ग्रह की सतह पर सफलतम लैंडिंग की। भारतीय समयास इस यान ने मंगलवार 27 नवंबर को सुबह 1:24 पर मंगल ग्रह की सतह पर लैंडिंग की। आज इसवीडियो में हम ही जानते हैं कि नासा के इनसाइट लैंडर ने मंगल ग्रह पर लैंडिंग कैसे, और यह लैंडर मंगल ग्रह पर काम कैसे करें। इसके उद्देश्य क्या है, इन सब बातों की जानकारी इस वीडियो में मिलगी .जानने के लिए वीडियो को पूरा देखिए। NASA's Insight mission is a robotic lander. Which has been sent to study deep planetary interior or internal structure of Mars. The full name of Insight is the internal exploration experiment, Seismic Investigations Geodesy and Heat Transport. NASA launched Insight Mars Mission from the Wendenburg Air Force Base in California on May 5, 2018. During the nearly 7 months of frequent travel, this probe covered 458 million kilometers and finally on November 26, 2018, on the surface of Mars. Of successful landing According to Indian time, this yan landed on the surface of Mars on Tuesday 27 November at 1:24 in the morning. Today in this video we will know how NASA's Insight Lander landed on Mars, and how this lander will work on Mars. The purpose of this is to find out all these things in this video. Watch the video to know all. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
डायनासोरों की मौत कैसे हुई ,क्या आज भी हमारे बीच dinosaur की कोई प्रजाति जिंदा है How dinosaurs died
डायनासोरों की मौत कैसे हुई ,क्या आज भी हमारे बीच dinosaur की कोई प्रजाति जिंदा है How dinosaurs died
9 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Special credit for make possible this video :- BBC ,BBC Earth, National Geographic channel, Your Discovery Science डायनासोर, एक ऐसी भयानक प्रजाति जिसने आज से 243 मिलीयन साल पहले triassic काल में जन्म लिया और cretaceous काल, जो कि आज से 66 मिलीयन साल पहले खत्म हुआ था, उसके अंत तक अस्तित्व में रहे । डायनासोरो ने हमारी पृथ्वी पर करीब 16 करोड़ सालों तक एकछत्र राज किया । डायनासोर रेप्टाइल्स या रेंगने वाले जानवरों के ग्रुप से संबंध रखते थे। डायनासोर शब्द का प्रयोग सबसे पहले 1842 में सर रिचर्ड अोवेन के द्वारा किया गया। जिसका शाब्दिक अर्थ होता है एक “भयानक छिपकली” । आज से अरबो साल पहले पृथ्वी पर केवल इन्हीं विशालकाय और दैत्यकार जींवो का बोलबाला था। उस समय डायनासोर पृथ्वी के हर महाद्वीप पर 1500 से ज्यादा प्रजातियों के साथ निवास करते थे । इसमें से कुछ प्रजातियां शाकाहारी थी तो अधिकतर मांसाहारी ही थी । डायनासोर चलने और भागने के लिए चार पैरों का उपयोग करते थे , लेकिन डायनासोरों की बहुत सी प्रजातियां ऐसी भी थी जो केवल दो पैरों का ही उपयोग करते थे । इतिहास में 40 मीटर लंबे और 18 मीटर ऊंचे विशालकाय डायनासोर के अवशेष भी मिले हैं । डायनासोर अपने समय के सबसे विशालकाय जानवर थे , लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि उस युग में भी डायनासोर की कुछ प्रजातियां मात्र 50 सेंटीमीटर तक लंबी हुआ करती थी । लेकिन 66 मिलीयन साल पहले जब पृथ्वी पर मनुष्य जाति का उदय भी नहीं हुआ था , तब इन विशालकाय जींवो के साथ कुछ ऐसा हुआ जिसकी वजह से डायनासोरों का अस्तित्व ही समाप्त हो गया । Dinosaurs, A dreadful species that originated in the triassic period 243 million years ago today and the cretaceous period, which ended 66 million years ago, survives until its end. Dinosaurs ruled for a little over 16 million years on our earth. Dinosaurs belonged to the group of reptiles or creeping animals. The term dinosaur was first used by Sir Richard Owen in 1842. Which literally means a "horrible lizard". From today onwards, on earth, only these giant and giant jiva were dominated. At that time, dinosaurs lived with over 1500 species on every continent of the Earth. Some of these species were vegetarian, it was mostly carnivorous. Dinosaurs used to walk and run four feet, but many species of dinosaurs were also those that used only two feet. There are also remains of 40 meter long and 18 meter high giant dinosaurs in history. Dinosaurs were the largest animals of their time, but you would be surprised to know that even in that era, some species of dinosaurs were only up to 50 centimeters long. But 66 million years ago when there was no rise to the human race on Earth, then something happened with these giant creatures, due to which the existence of dinosaurs ended. #dinosaurs #रहस्यTV #dinosaurs_ending #comets #cometsenddinasour #earth #humanformation #howhumandevelop #kuldeepsinghyadav Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
Area 51,एक ऐसी जगह जहां एलियंस और इंसानों को मिलाकर महामानव बनाए जाते हैं ? the truth behind area 51
Area 51,एक ऐसी जगह जहां एलियंस और इंसानों को मिलाकर महामानव बनाए जाते हैं ? the truth behind area 51
10 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science credit for image :- 1. goo.gl/59mKzu Finlay McWalter [GFDL (goo.gl/WvhE2U) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/H2Aamh)], via Wikimedia Commons 2. goo.gl/vNGsBw Reticulum_constellation_map.png: Torsten Brongerderivative work: Kxx [CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/NmEqw6) or GFDL (goo.gl/65btyu)], via Wikimedia Commons For 1 & 2 The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. 3. goo.gl/iRbvc6 Dudeanatortron [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/2WU3qV)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/czQj8w Tim1337 [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/M5Bysu)], from Wikimedia Commons पश्चिमी अमेरिका के nevada state के दक्षिणी भाग में एक जगह ऐसी भी है जहां एलियंस आते हैं, जी हां मैं बात कर रहा हूं area-51 की । area-51 यूएसए के nevada state में स्थित एक टॉप सीक्रेट मिलिट्री बेस है । इस इलाके की सिक्योरिटी इतनी टाइट है कि यहां एक परिंदा भी पर नहीं मार सकता । इस इलाके के आसपास हमेशा मिलिट्री के जवान तैनात रहते हैं । करीब 4047 squre miles में फैले इस इलाके को पूरी तरह तारबंदी से कवर किया गया है । area -51 में motion sensor enable सीसीटीवी कैमरा लगे हुए हैं ,जो इस इलाके में होने वाली हर घटना पर कड़ी नजर रखते हैं । यहां तक कि इस इलाके की सुरक्षा में तैनात गार्ड्स के पास इस इलाके में किसी भी unauthorized person को देखते ही शूट करने के आदेश होते हैं । यूएस गवर्नमेंट का कहना है कि इस एयरबेस में यूएस एयरफोर्स के लिए एयरक्राफ्ट के डिजाइन तैयार किए जाते हैं ,लेकिन इन सबके पीछे की हकीकत तो कुछ और ही है । In the southern part of the western part of the Nevada state of western America, there is a place where aliens come in, yes, I am talking about area-51. Area-51 is a Top Secret Military Base located in nevada state of USA. The security of this area is so tight that one parinda can not be killed here too. Military personnel always remain stationed around this area. Spread over 4047 squre miles, this area is fully covered by clutter. There are motion sensor enabled CCTV cameras in Area 51, which keep a close watch on every incident happening in this area. Even guards deployed in the security of this area are ordered to shoot after seeing any unauthorized person in the area. The US government says that the airbase designs are designed for the US Air Force in this airbase, but the reality behind them is something else. It is said that experiments are performed on the UFOs and their aliens crashed on Earth in Area-51. Some people have even claimed that the US government has signed contracts with the aliens, under which the government is doing research in area-51 with aliens. #aliens #area51 #area52 #alines_in_area51 #truth_of_area_area51 #area51theory's #area51aliens #area51true #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
इसरो ने milky way मे खोजा एक खतरनाक ब्लैक होल || isro discoverd a monster black hole in milky way
इसरो ने milky way मे खोजा एक खतरनाक ब्लैक होल || isro discoverd a monster black hole in milky way
10 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #Black_hole #blackhole #nasa #isro #isro_descoverd_a_new_blackhole #blackhole_descovery #blackhole_kya_hote_h #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science हमारे ब्रह्मांड में प्रत्येक तारे को नाभिकीय संलयन या fusion के कारण ही एनर्जी मिलती है । लेकिन समय के साथ-साथ इन तारों में मौजूद हाइड्रोजन गैस खत्म हो जाती है और तारे धीरे-धीरे ठंडे होने लग जाते हैं । हाइड्रोजन के खत्म होने के बाद एक स्थिति ऐसी आती है जब ये तारे अपने आप को स्वंय के ही गुरुत्वाकर्षण के विरुद्ध संभाल नहीं पाते और इनमें विस्फोट हो जाता है । इस विस्फोट को सुपरनोवा या महानोवा कहा जाता है । विस्फोट होने के बाद उस तारे के अवशेष संकुचित होकर एक न्यूट्रॉन स्टार का रुप ले लेते हैं और धीरे-धीरे गुरुत्वीय खिंचाव के कारण ये तारे संकुचित होकर एक क्रांतिक सीमा या critical limit तक संकुचित हो जाते हैं । और यही से शुरुआत होती है इनके अंतरिक्ष का दानव बनने की। इस असाधारण संकुचन के कारण इन तारों के अंदर space और time भी विकृत होना शुरू हो जाता है ,और एक समय ऐसा भी आता है जब इनके अंदर space और time दोनों का ही अस्तित्व समाप्त हो जाता है और निर्माण होता है एक विशाल ब्लैक होल का । ब्लैक होल का संपूर्ण रहमान एक ही बिंदु पर केंद्रित होता है जिसकी वजह से इनका घनत्व अधिकतम होता है । और इसी वजह से इनका गुरुत्वाकर्षण प्रभाव इतना ताकतवर होता है कि इनके प्रभाव क्षेत्र से कोई भी चीज बच कर वापस नहीं जा सकती । यहां तक की यह ब्लैक होल प्रकाश को भी वापस नहीं जाने देते। ये अपने ऊपर पड़ने वाली हर एक प्रकाश की किरण को भी अवशोषित कर लेते हैं । इसी वजह से ब्लैक होल्स को देख पाना भी संभव नहीं हो पाता। Each of the stars in our universe gets energy due to nuclear fusion or fusion. But over time, the hydrogen gas present in these wires ends and the stars gradually get cold. After the end of hydrogen, a situation arises when these stars themselves do not handle themselves against the gravitational itself and explode into them. This explosion is called supernova or greatova. After the explosion, the remains of that star get compressed and form a neutron star, and slowly due to gravitational pull, these stars become compressed and narrow down to a critical boundary or critical extent. And this is the beginning of being the demon of their space. Due to this extraordinary contraction, space and time also begin to become distorted within these stars, and at a time such as when space and time both end in existence and the creation of a huge black hole . The entire Rahm of the Black Hole is focused on the same point, due to which the density of them is maximum. And because of this, their gravitational effects are so powerful that no one can escape from their area of ​​influence. Even this black hole does not let the light go back. They also absorb the rays of each light falling on their own. Because of this, it is not possible to see black holes. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा और इसरो में एस्ट्रोनॉट कैसे बना जा सकता है | how to become an astronaut in nasa and isro
नासा और इसरो में एस्ट्रोनॉट कैसे बना जा सकता है | how to become an astronaut in nasa and isro
10 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
Downlode QSW App here :- goo.gl/i5LD3Q नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science अगर आप अंतरिक्ष और विज्ञान से संबंधित वीडियो देखना पसंद करते हैं तो आपके मन में एक सवाल कभी ना कभी जरूर आया होगा ,कि आखिर एस्ट्रोनॉट कैसे बना जाता है। astronaut बनने के लिए minimum qualification क्या होती है ?? और एक एस्ट्रोनॉट per month कितना कमा लेता है?? अगर आप भी इन्ही सवालों का जवाब जानना चाहते हैं तो आज का यह वीडियो आपके लिए बहुत ही खास होने वाला है । एस्ट्रोनॉट शब्द का अर्थ होता है, एक ऐसा अंतरिक्ष यात्री जिसे नासा के द्वारा स्पेस में ट्रेवल करने के लिए और वहां पर कोई भी task perform करने के लिए trained किया गया हो । अगर सरल शब्दों में कहूं तो सभी अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों को एस्ट्रोनॉट कहा जाता है । वहीं रूस के अंतरिक्ष यात्रियों को कॉस्मोनॉट कहा जाता है ,और चाइना के लिए taikonaut शब्द का यूज किया जाता है । और संभवत है 2022 में भारत से जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों के लिए व्योमनोट शब्द का उपयोग किया जाएगा । तो आज के इस वीडियो में हम जानेंगे कि एस्ट्रोनॉट को बनने के लिए क्या qualification और requirements होती हैं । If you prefer to watch videos related to space and science, then there will never have been a question in your mind about how astronaut is created. What is minimum qualification to become an astronaut? And how much does an estrone per month earn ?? If you also want to know the answers to these questions, this video of today is going to be very special for you. The word astronaut means that an astronaut who has been trained by NASA to travel in space and perform any task there. If in simplest terms, all American astronauts are called astronauts. At the same time, Russian astronauts are called cosmonauts, and the word taikonaut is used for China. And possibly in 2022, the word vyomnot will be used for astronauts from India. So in today's video we will know what qualifications and requirements are there to create Astronaut. #astronauts #astronaut_selection_process #astronauts_training #astronaut's_life #challenge_for_astronauts #cosmonaut #taikonaut #vyomnout #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #rhsyatv Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
कल्पना चावला का space से अंतिम विडियो...the last video of kalpana chawla from Space
कल्पना चावला का space से अंतिम विडियो...the last video of kalpana chawla from Space
10 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for image :- 1. goo.gl/jDs8dk By Biswarup Ganguly [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/GF9MpQ) or GFDL (goo.gl/BSFonV)], from Wikimedia Commons 19 नवंबर 1997 का दिन अमेरिका के साथ साथ भारत के लिए भी एक गौरवशाली पल था। क्योंकि उस दिन भारत की एक बेटी अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरने वाली थी। कल्पना चावला ने अंतरिक्ष के लिए अपनी पहली उड़ान नासा के स्पेश शटल प्रोग्राम की 88 वी फ्लाइट STS-87 के जरिए भरी थी। इसके बाद 16 जनवरी 2003 को कल्पना चावला अपने दूसरे स्पेस मिशन के लिए रवाना हो गई, कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम भारतीय महिला थी । कल्पना चावला अपने जीवन काल में दो बार अंतरिक्ष में गई। इस दौरान उन्होंने 31 दिन 14 घंटे और 54 मिनट का समय अंतरिक्ष में बिताया । लेकिन 1 फरवरी 2003 को स्पेस वापस लौटते समय उनके स्पेस शटल कोलंबिया के साथ एक हादसा हो गया। इस हादसे में कल्पना चावला और उनके साथ गए बाकी के 6 क्रू मेंबर की दर्दनाक मौत हो गई । अपनी पहली अंतरिक्ष यात्रा के दौरान कल्पना चावला ने space से उस वक्त के भारत के प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल से बात की । जो उनका space से लाइव अंतिम वीडियो था । और आज रहस्य टीवी आपके लिए लेकर आया है उसी वीडियो के कुछ खास पल, तो पेश है कल्पना चावला के साथ एक यादगार बातचीत के कुछ खास लम्हे। The 19th November 1997 was a glorious moment for India along with the day. Because on that day a daughter of India was about to fly for space. Kalpana Chawla's first flight for space was filled with NASA's Space Shuttle Program's 88 V Flight STS-87. After this, Kalpana Chawla left for his second space mission on January 16, 2003, Kalpana Chawla was the first Indian woman to enter the space. Kalpana Chawla went into space twice in her lifetime. During this period he spent 31 days 14 hours and 54 minutes in space. But on returning to space on February 1, 2003, his space shuttle became an accident with Columbia. In this accident Kalpana Chawla and the remaining crew of the 6 crew members who had accompanied him died in a painful death. Kalpana Chawla went to the space with six other crew members from the space shuttle Columbia on January 16, 2003. After being in this spas for about 16 days, when Kalpana Chawla and other crew members were returning back to Earth, their space shuttle became a fireball as soon as Columbia entered the Earth's atmosphere. And on seeing the Space Shuttle Columbia and the residues of seven riders aboard there, they began to rain on the city of Texas called USA. All seven astronauts died in this accident. During his first space visit, Kalpana Chawla spoke to Space Prime Minister Inder Kumar Gujral from that time. Which was the last live video from their space. And today the mystery TV has brought for you some special moments of the same video, then present with Kalpana Chawla, a special occasion for a memorable conversation. #kalpanachawla #kalpnachawlavideo #kalpnachawlalastvideo #kuldeepsinghyadav #rhsyatv #rahsyatv #rahasyatv #रहस्यtv #kalpnachawlaspacevideo #space_shuttle_Columbia_video #space_shuttle_Columbia_crew_video Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
बरमुंडा ट्रायंगल की रहस्यमई ताकतों का सच..क्या यहा एलियन रहते हैं ?? mystery behind Bermuda Triangle
बरमुंडा ट्रायंगल की रहस्यमई ताकतों का सच..क्या यहा एलियन रहते हैं ?? mystery behind Bermuda Triangle
10 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #Barmundatriangle #Barmundatrianglemystry #Barmundatriangletruth #Barmundatringlestory #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for images :- 1. goo.gl/WWJksa By NOAA's National Ocean Service Under :- goo.gl/x9TPPL पृथ्वी पर भी एक ऐसी जगह मौजूद है जिसे आप पृथ्वी का ब्लैक होल भी कह सकते हैं । एक ऐसी रहस्यमई जगह जहां जाने के बाद कोई वापस नहीं आता । चाहे वह कोई इंसान हो या हजारों फीट लंबा जहाज । जी हां मैं बात कर रहा हूं बरमुंडा ट्रायंगल की। जिसमें कई विमान और जहाज रहस्यमई तरीकों से लापता हुए हैं ,और इसी वजह से इसे डेविल्स ट्राएंगल या शैतान का त्रिकोण भी कहा जाता है। बरमुंडा ट्रायंगल बरमूडा द्वीप, फ्लोरिडा के मियामी और puerto rico के मध्य एक ट्राइंगल की shape का क्षेत्र है । लेकिन एक चौंकाने वाली बात यह भी है कि दुनिया के किसी भी रिकॉर्ड और किसी भी मैप में बरमुंडा ट्राइंगल offical रूप से दर्ज है ही नहीं । कुछ conspiracy theorist का कहना है की बरमुंडा ट्रायंगल के आसपास सबसे ज्यादा UFO देखे गए है। जबकि कुछ ने तो यहां तक दावा किया है कि एलियंस बरमुंडा ट्रायंगल को एक स्टेशन के रूप में यूज कर रहे हैं । एलियंस इसी स्टेशन की मदद से अपने ग्रह से पृथ्वी तक आते हैं और हमारे जहाज ,विमान और इंसानों का अपहरण कर अपने ग्रह पर ले जाते हैं ,ताकि उन पर रिसर्च की जा सके । तो क्या हकीकत में इन सब घटनाओं के पीछे किसी परालौकिक शक्ति या किसी एडवांस सिविलाइजेशन का हाथ है ???? जानेंगे आज के खास है एपिसोड में. There is also a place on Earth that you can call the Earth's black hole. A secret place where no one comes back after leaving. Whether it is a person or a thousand feet tall ship. Yes, I am talking to Bermunda Triangle's. In which many aircraft and ships are missing in mysterious ways, and for this reason it is also called the Devil Triangle or Devil's Triangle. Bermunda Triangle is the area of ​​the shape of a triangle between Bermuda Island, Miami's Miami and Puerto Rico. But a shocking thing is that in any record of the world and in any map, the Bermundra Triangle is not officially recorded. Some conspiracy theorist say that most UFOs have been seen around the Bermuda Triangle. While some have even claimed that aliens are using Bermunda Triangle as a station. Aliens, with the help of this station, come from Earth to their planet and kidnap our ships, planes and humans to their planet so that they can be researched. So, in reality what is behind any of these phenomena or any advanced civilization? You will know today's special episode. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
A Huge Surprise For You.....🔥rhsya tv , ft. kuldeep singh yadav and deshbandhu yadav
A Huge Surprise For You.....🔥rhsya tv , ft. kuldeep singh yadav and deshbandhu yadav
10 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
जब चंद्रमा पर गए तीनों एस्ट्रोनॉट के साथ हुआ एक दर्दनाक हादसा....Apollo moon mission disaster
जब चंद्रमा पर गए तीनों एस्ट्रोनॉट के साथ हुआ एक दर्दनाक हादसा....Apollo moon mission disaster
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #moonmissiondisaster #apollomissiondisaster #moonmission #apollo #apollomission #apollo13 #apollo13disaster #apollo13moonmission #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #rhsyatv twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science. Special thanks to National Geographic Channel And Apollo 13 Movie Credit for images :- 1. goo.gl/4JWAJ9 By James Humphreys - SalopianJames [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/uBA7bm) or GFDL (goo.gl/EXeaQ7)], from Wikimedia Commons The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. नासा का अपोलो प्रोग्राम 1966 से 1972 तक चला। इस प्रोग्राम का उद्देश्य चंद्रमा की सतह पर इंसानों को भेज कर वहां का अध्ययन करना था । 1969 में पहला मानव युक्त मिशन अपोलो 11 चंद्रमा की सतह पर भेजा गया । अपोलो 11 के जरिए नील आर्मस्ट्रांग चंद्रमा की सतह पर उतरने वाले पहले इंसान थे । इसी कड़ी में अपोलो स्पेस प्रोग्राम के सातवे मानव युक्त मिशन और तीसरे मून लैंडिंग मिशन अपोलो 13 को 11 अप्रैल 1970 को 2:13 PM पर फ्लोरिडा के Kennedy Space Centre से लॉन्च किया गया। लेकिन लॉन्चिंग के 2 दिन बाद अपोलो 13 के सर्विस मॉड्यूल के साथ एक बड़ा हादसा हुआ ,जिसकी वजह से एस्ट्रोनॉट हर पल मौत के साए में रहे । तो आखिर अपोलो 13 के सर्विस मॉडल के साथ ऐसा क्या हुआ था और उस कठिन परिस्थिति से एस्ट्रोनॉट ने खुद को कैसे बचाया, जानेंगे आज के खास एपिसोड में.... NASA's Apollo program ran from 1966 to 1972. The objective of this program was to send humans to the surface of the moon and study there. In 1969, the first manned mission Apollo 11 was sent to the surface of the Moon. By Apollo 11 Neil Armstrong was the first person to land on the Moon. This episode was launched from the Kennedy Space Center of Florida, on 7th April 1970 at 2:13 PM on Apollo 13, the seventh human-mission mission of the Apollo Space Program and the third Moon landing mission. But 2 days after the launch, there was a major accident with the service module of Apollo 13, due to which astronaut remained in the shadow of death every moment. So finally what happened with the service model of Apollo 13 and how Astronaut saved himself from that difficult situation, you will know today in special episodes .... Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नासा के वोयजर-2 ने किया बडा कारनामा..interstellar space मे जाने वाला दूसरा स्पेश प्रोब होगा Voyager2
नासा के वोयजर-2 ने किया बडा कारनामा..interstellar space मे जाने वाला दूसरा स्पेश प्रोब होगा Voyager2
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV (rhsya tv) मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Special thanks to “NASA Jet Propulsion Laboratory” PA-zone channel वॉयेजर-1 अौर वॉयेजर-2 दो ऐसे यान हैं ,जो अपने साथ मानवता का संदेश लेकर अनंत ब्रह्मांड में निरंतर गतिशील है । वॉयेजर-1 2012 में ही हमारे सौरमंडल को छोड़कर इंटरस्टेलर स्पेस की यात्रा पर निकल गया था । लेकिन वॉयेजर-2 अभी भी हमारे सूर्य के प्रभाव क्षेत्र में ही था । हाल ही में एक खबर आई की वॉयेजर-2 भी इंटरस्टेलर स्पेस के नजदीक पहुंच चुका है । तो क्या वॉयजर-2 ने भी इंटरस्टेलर स्पेस में प्रवेश कर लिया है ????? वर्ष 2007 से ही वॉयेजर-2 heliosphere की बाहरी परत में गतिशील था । लेकिन अगस्त 2018 से वॉयेजर-2 के आसपास का वातावरण धीरे धीरे चेंज होने लगा, और अगस्त 2018 के अंत में वॉयेजर-2 के cosmic ray subsystem उपकरण ने अचानक से cosmic rays में 5% की बढ़ोतरी महसूस की। इसके अलावा एक दूसरे उपकरण low energy charged particle ने भी हायर एनर्जी की cosmic ray में बढ़ोतरी महसूस की । cosmic ray तेज गति से चलने वाले कण होते हैं ,जो हमारे सूर्य के प्रभाव क्षेत्र heliosphere के बाहर इंटरस्टेलर स्पेस से आते हैं, लेकिन heliosphere के द्वारा इन कणों को बाहर ही रोक दिया जाता है । मई 2012 मे वॉयेजर-1 ने भी इसी तरह cosmic rays में बढ़ोतरी महसूस की थी, और उसके लगभग 3 महीनों के बाद अगस्त 2012 मे वॉयेजर-1 , heliosphere को पार करके इंटरस्टेलर स्पेस में प्रवेश कर गया था । तो अब वोयजर-2 इंटरस्टेलर स्पेस में कब जायेगा, जानेंगे आज के इस खास वीडियो में। The Voyager-1 and Voyager-2 are two such vehicles, which carry the message of humanity with them continuously in the infinite universe. Voyager-1 was released in 2012, except for our solar system, on the journey of Interstellar Space. But Voyager II was still in the area of ​​the Sun's influence. Recently there was a news that the Voyager-2 has also reached near Interstellar Space. Is Voyager-2 also entered the interstellar space? Since 2007, Voyager 2 was dynamic in the outer layer of the heliosphere. But from August 2018, the atmosphere surrounding Voyager II began to change gradually, and at the end of August 2018, the cosmic ray subsystem device of Voyager-2 suddenly saw a 5% increase in cosmic rays. Apart from this, another device low energy charged particle also felt the increase in Higher Energy's cosmic ray. Cosmic rays are fast moving particles, which come from the interstellar space outside the heliosphere of our Sun, but these particles are blocked out by the heliosphere. In May 2012, Voyager-1 also had an increase in cosmic rays in the same way, and in about three months after that, Voyager-1 crossed the heliosphere in August 2012 and entered the interstellar space. So when will the Voyager-2 go to the interstellar space now, know today in this special video? #voyager2 #voyager2interstellar #voyager2ininterstellarspace #interstellarspace #voyager2journey #voyager2currentposition #voyager2currentloction #voyager1 #voyager1location #voyager1journey #allaboutvoyager #kuldeepsinghyadav #rhsyatv #रहस्य TV #rhsyatvkuldeepsinghyadav #rhsyatvvoyager Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
जल्द ही चंद्रमा पर हीलियम 3 की माइनिंग करेगा इसरो.. Chandrayaan 2 Mission
जल्द ही चंद्रमा पर हीलियम 3 की माइनिंग करेगा इसरो.. Chandrayaan 2 Mission
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #chandrayaan2 #heliom3 #heliom3mineing #moonheliom3 #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Special thanks for video footage :- BBC Studios, Indian Diplomacy, isro, NASA Jet Propulsion Laboratory Credit for image :- 1. isro goo.gl/LSWd9X 2. goo.gl/vi6Wpa By Moon_names.svg: *Peter FreimanCmgleeLunar Photograph by Gregory H. Reveraderivative work: Cmglee (Moon_names.svg) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/E6xgeP)], via Wikimedia Commons 3. goo.gl/5bn6M1 Johnxxx9 at en.Wikipedia [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/zKAVE3) or GFDL (goo.gl/ps9qNf)], via Wikimedia Commons 4. goo.gl/YpkYX4 Borb [GFDL (goo.gl/tuLzfu) or CC BY-SA 3.0 (goo.gl/zwxq4L)], from Wikimedia Commons For 3 & 4 The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. 5. goo.gl/thBD1A By MikeRun [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/HRUWG4)], from Wikimedia Commons. 6. goo.gl/D9jvm5 By Model_of_Phobos-Grunt_spacecraft_2011_P1110983.jpg: Plinederivative work: Mirecki [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/fc99K7)], via Wikimedia Commons 7. goo.gl/r6UoKj By ShinRyu Forgers [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/xYU2FW)], from Wikimedia Commons 8. goo.gl/P3bmMU By- Mrs Pugliano Under:- goo.gl/GvymZq चंद्रमा पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह है । इसलिए प्राचीन काल से ही मानव जाति को चंद्रमा के बारे में जाने में रुचि थी । सन 1609 में गैलीलियो गैलीलि ने एक टेलीस्कोप बनाया , और इसकी मदद से पहली बार चंद्रमा की सतह को नजदीक से देखा गया । गैलीलियो ऐसा करने वाले पहले इंसान थे । धीरे-धीरे समय के साथ मानव जाति ने अपने आप को विकसित किया । और फिर एक ऐसा समय आया कि हमने वह तकनीक भी हासिल कर ली थी कि जिसकी मदद से हम पृथ्वी को छोड़कर अंतरिक्ष में जा सकते थे । 14 सितंबर 1959 को सोवियत यूनियन ने अपने luna प्रोग्राम के दूसरे स्पेस प्रोब लूना सेकंड को लॉन्च किया । luna 2 पहला ऐसा स्पेस प्रोब था जो चंद्रमा की सरफेस पर पहुंच पाया था । इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए अब इसरो भी अपने सेकेंड चंद्र मिशन चंद्रयान टू को लॉन्च करने वाला है । इस मिशन के जरिए इसरो चंद्रमा पर मौजूद हीलियम 3 के बारे में जानना चाहता है । जिससे कि भविष्य में चंद्रमा पर मौजूद हीलियम 3 की माइनिंग करके उसे वापस पृथ्वी पर लाया जा सके । Moon is the only natural satellite of the Earth. Therefore, since ancient times, mankind was interested in knowing about the Moon. Galileo Galilei made a telescope in 1609, and with its help, the surface of the Moon was first observed. Galileo was the first person to do this. Gradually, mankind has developed themselves over time. And then a time came that we had also acquired the technology that with the help of which we could leave the earth and go into space. On September 14, 1959, the Soviet Union launched the second space probe luna second of its luna program. luna 2 was the first such space probe that reached the moon's surface. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism,mment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्रु एस्केप सिस्टम क्या होता है, क्या इसकी मदद से कल्पना चावला को‌ आखिर पलो मे बचाया जा सकता था ???
क्रु एस्केप सिस्टम क्या होता है, क्या इसकी मदद से कल्पना चावला को‌ आखिर पलो मे बचाया जा सकता था ???
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro Special thanks for some video clips:- NASA , ESA (European space agency) , BBC Studios , ISRO Credit for image :- 1. goo.gl/te2KoQ By Mercury-spacecraft6.jpgNASA (original)Soerenfm (modified version)Soerenfm (modified version)Soerfm (modified version)Mercury_Capsule2.jpgNASA (original)Campani (modified version)Soerfm (this work) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/Q7ZMef)], via Wikimedia Commons 2. goo.gl/jEsQyB By AstroBidules [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/QPHyBk)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/2fg8Vb By Roryjoem [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/JM1vtt)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/AomURu By Vestman from Helsinki, Finland (Ejection Seats) [CC BY 2.0 (goo.gl/kV6qU5)], via Wikimedia Commons 5. goo.gl/JYqJ4w By Andrew "FastLizard4" Adams from United States (Space Shuttle Endeavour Hatch) [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/LJFY5W)], via Wikimedia Commons बदलते समय के साथ आज साइंस ने इतनी तरक्की कर ली है कि आज इंसान दूसरे ग्रहों पर भी जा सकता है । नासा के अपोलो प्रोग्राम के जरिए नील आर्मस्ट्रांग ने चंद्रमा पर कदम रखने में सफलता हासिल की। इसी तरह नासा ने अपने स्पेस शटल प्रोग्राम के द्वारा 135 स्पेस मिशनो में सैकड़ों एस्ट्रोनॉट को स्पेस में भेजा। लेकिन इन मिशनो में हमने 2 शटल और 14 एस्ट्रोनॉट को खो दिया । 28 जनवरी 1986 को नासा का स्पेस शटल चैलेंजर लॉन्चिंग के73 सेकंड के बाद आग का गोला बन गया , इस हादसे में 7 एस्ट्रोनॉट की मौत हो गई थी । इस तरह के हादसों से अंतरिक्ष यात्रियों को सुरक्षित बचाने के लिए वैज्ञानिकों ने एक सिस्टम डेवलप किया , जिसे क्रु एस्केप सिस्टम के नाम से जाना जाता है । आज के वीडियो में हम जानेंगे क crew escape system या लॉन्चिंग एस्केप सिस्टम क्या होता है। और क्या इस सिस्टम की मदद से कल्पना चावला की जान बचाई जा सकती थी । जानेंगे आज के इस खास एपिसोड में । With the changing times, science has progressed so much that humans can go to other planets today. Neil Armstrong has succeeded in stepping on the moon through NASA's Apollo program. Similarly, NASA sent hundreds of astronauts into space through its space shuttle program in 135 space missions. But in these missions we lost 2 shuttle and 14 Astronauts. On January 28, 1986, NASA's Space Shuttle Challenger made a fireball after 73 seconds of launch, 7 Astronauts died in this accident. In order to protect astronauts from such accidents, scientists developed a system, which is known as the Kru Escape System. In today's video we will know what is the crew escape system or the launch escaping system. And could the life of Kalpana Chawla be saved with the help of this system? In this special episode of today you will know. #crewescapesystem #launchescapesystem #escapetower #crewcapsulescapesystem #crewcompartmant #challengerdisaster #escapesystem #kalpanachawla #columbiadisaster #spaceshuttelcolumbia #kalpnachawladeath #kalpnachawladeathmystry #kuldeepsinghyadav #rhsyatv #rahsyatv #rahasyatv #रहस्यtv Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
रीयूजेबल रॉकेट कैसे काम करता है ...रॉकेट के Parts अलग होकर कहां जाते हैं Reusable Rocket
रीयूजेबल रॉकेट कैसे काम करता है ...रॉकेट के Parts अलग होकर कहां जाते हैं Reusable Rocket
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं kuldeep singh yadav इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #reusablerocket #falcon9 #falconheavy #elonemusk #spacex #nasa #howreusablerocketworks #reusablebooster #spacexreusablerocket #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Special thanks to SpaceX PA-zone channel and Nasa PA-zone channel for some video clips Credit for images :- 1. goo.gl/FVSxyf By Lucabon (based on work of Markus Säynevirta and Craigboy and Rressi ) [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/GDSvpw)], from Wikimedia Commons री यूजेबल रोकेट, एक ऐसा रॉकेट हेै ,जो अंतरिक्ष में सेटेलाइट को स्थापित कर कर वापस पृथ्वी पर आ जाता है। रियूजेबल रॉकेट में तीन पार्ट होते हैं। मेंन रॉकेट ,बूस्टर रॉकेट ,और सैटेलाइट ।सैटेलाइट को मेंन रॉकेट के ऊपर जोड़ा जाता है ।तथा बूस्टर रॉकेट को मेंन रॉकेट के साथ । जैसे ही रॉकेट अंतरिक्ष में जाता है बूस्टर रॉकेट मेंन रॉकेट से अलग हो जाते हैं ,और वापस पृथ्वी पर लैंड कर जाते हैं।उसी तरह जब मेंन रॉकेट सेटेलाइट से अलग होता है, तो वो भी वापस पृथ्वी पर लैंड कर जाता है। इस तरह रियूजेबल रॉकेट का संपूर्ण हिस्सा पृथ्वी पर वापस आ जाता ह। और उसे दोबारा से काम में लिया जा सकता है।आज की इस वीडियो में मैं यही बताऊंगा कि कैसे एक रियूजेबल रॉकेट काम करता ह।space x कंपनी ने falcon श्रेणी के falcon 9 जैसे रॉकेट और falcon heavy जैसे रॉकेट भी बना ली है। जिसमें मनुष्यों को भी अंतरिक्ष में ले जाया जा सकता है । Reusable rocket is a rocket which, after installing the satellite in space, returns to the Earth. There are three parts in a reusable rocket. Main Rocket, Booster Rocket, and Satellite. Satellite is added to the Main Rocket. And Booster Rocket with Main Rocket. As soon as the rocket goes into space, boosters are separated from the main rocket , and they land back to Earth. Similarly when Main rocket is separated from the satellite, then it also landed back to Earth. Thus the whole part of the reusable rocket comes back to Earth. And it can be used again. In today's video, I will tell you how a reusable rocket works. The space x company has also made a rocket such as falcon 9 of the falcon series and rocket like falcon heavy. In which humans can also be taken into space. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या वोयजर यान कभी एलियन से मिल चुके हैं ??...Current Location of Voyager 1 and Voyager 2
क्या वोयजर यान कभी एलियन से मिल चुके हैं ??...Current Location of Voyager 1 and Voyager 2
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #Voyager1 #Voyager2 #Voyagerprograam #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #Currentlocationofvoyagerspaceprobe twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Music :- "At Rest" Kevin MacLeod (incompetech.com) Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0 License goo.gl/CrJMro Special thanks to “nasa” and Wikipedia commons (goo.gl/FDVXpx) Credit for image :- 1. goo.gl/SomhcE By Phoenix7777 [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/F3mJU3)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/BLtBNQ By Lsmpascal [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/TQHmcz)], from Wikimedia Commons इस अनंत ब्रह्मांड में केवल पृथ्वी पर ही जीवन मौजूद नहीं है । पृथ्वी से करोड़ों अरबों प्रकाश वर्ष दूर किसी ना किसी प्लेनेट पर कोई एडवांस सिविलाइजेशन जरूर सरवाइव कर रही होगी । इन उन्नत सभ्यताओं से संपर्क करने के लिए ही नासा ने आज से करीब 41 साल पहलेvoyager 1 और voyager 2को लांच किया था। इन दोनों यानो का मूल उद्देश्य हमारे आउटर सोलर सिस्टम का अध्ययन करना था । आउटर सोलर सिस्टम में चार ग्रहों जूपिटर ,सैटर्न, यूरेनस और नेपच्यून को शामिल किया गया है। इन दोनों यनो में हम से उन्नत सभ्यताओं के लिए कुछ संदेश भी भेजे गए थे , तो क्या अब तक के जीवन काल में ये यान किसी उन्नत सभ्यता से मिल पाए हैं , जानेंगे आज के इस खास एपिसोड में। In this infinite universe, life is not present on earth only. Millions of light years away from the Earth, there will definitely be any advance civilization being saved on some of the planets. To connect with these advanced civilizations, NASA launched Voyager 1 and Voyager 2 almost 41 years ago today. The basic purpose of these two people was to study our outer solar system. In outer solar systems, four planets Jupiter, Saturn, Uranus and Neptune are included. In these two yanos, some messages were sent to advanced civilizations from us, so in the life of so far, these yanas have been able to meet any advanced civilization, you will know in today's special episode. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
जब नासा का स्पेसक्राफ्ट हवा में ही आग का गोला बन गया...Space Shuttle Challenger Disaster
जब नासा का स्पेसक्राफ्ट हवा में ही आग का गोला बन गया...Space Shuttle Challenger Disaster
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #spaceshuttelchallenger #spaceshuttelchallengerdisaster #spaceshuttelchallengerdisasterinhindi #spaceshuttelchallengerdisasterdocumentery #challenger #nasa #isro #rhsayatv #rahasyatv #challengerdisaster #challengerdisasterinhindi #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: - pa-zone.info मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Special thanks to nasa & national geographic's seconds from disaster for video footage Credit for image :- 1. goo.gl/Rsy5oU By Acroterion [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/ZiUg9Z)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/Tz47RJ By SimplisticReps [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/qD2vSs)], from Wikimedia Commons 28 जनवरी 1986 को अमेरिकी समयानुसार सुबह 11:39 पर पूरी दुनिया की नजरें फ्लोरिडा के कैनेडी स्पेस सेंटर पर थी। क्योंकि नासा अपने स्पेस शटल प्रोग्राम के 25 में मिशन को लॉन्च करने वाला था । इस मिशन के लिए स्पेस शटल चैलेंजर का यूज किया जाना था। चैलेंजर एक orbitrer vehicle था, जो नासा के स्पेस शटल प्रोग्राम का दूसरे नंबर का orbitrer था । चैलेंज ने अपनी पहली उड़ान 4 अप्रैल 1983 को भरी थी ,जो कि नासा के स्पेशल प्रोग्राम का 6 नंबर का मिशन था । 28 जनवरी 1986 को challenger अपनी दसवीं उड़ान भरने वाला था, लेकिन उड़ान भरने के 73 सेकंड के बाद ही challenger मे एक भयानक विस्फोट हो गय, जिसकी वजह से चैलेंजर में सवार सातों एस्ट्रोनॉट की दर्दनाक मौत हो ग। इस वीडियो में मैं आपको यही बताऊंगा कि आखिर उस दिन challenger के साथ ऐसा क्या हुआ था कि उसमें लॉन्चिंग के 73 सेकंड के बाद ही विस्फोट हो गया । या challenger में real मे विस्फोट हुआ भी था या यह केवल एक mith ही है। On January 28, 1986, at the time of American time, at 11:39 am, the eyes of the whole world were at the Kennedy Space Center in Florida. Because NASA was going to launch the mission in the 25 of its space shuttle program. Space Shuttle Challenger was to be used for this mission. Challenger was an orbitrer vehicle, which was the second orbitrer of NASA's space shuttle program. The Challenge was its first flight on April 4, 1983, which was NASA's Special Program's Number 6 mission. The challenger was about to take his tenth flight on January 28, 1986, but after 73 seconds of flying, a terrible explosion occurred in the challenger, due to which the traumatic death of seven astronauts in the challenger would be a painful death. In this video, I will tell you exactly what happened to the challenger on that day that it was only after the launch of 73 explosions that exploded. In real or there was a real explosion in the challenger or it is only a mith. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
Albert-3 अौर Albert-4 के साथ Space मे क्या हुवा.....Sad Story Of Albert-3 & 4. Animals In Space
Albert-3 अौर Albert-4 के साथ Space मे क्या हुवा.....Sad Story Of Albert-3 & 4. Animals In Space
11 ਮਹੀਨੇ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music :- pa-zone.info मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for image :- 1. goo.gl/Zvea7Y Charles J Sharp [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/zsvmVu)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/hcbLh5 Charles J Sharp [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/yKPAQx)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/uYxbj2 By Eberhard Marx [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/9mGmcc)], from Wikimedia Commons 1940 से 1960 के दशक में विभिन्न देशों की स्पेस एजेंसीयो ने सैकड़ों जानवरों को अंतरिक्ष में भेजा था । ताकि उनके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन कर , इन अनुभवों का उपयोग इंसान को स्पेस में भेजने के लिए किया जा सके। इसके लिए नासा ने अल्बर्ट 1 और अल्बर्ट 2 नाम के दो Monkeys को स्पेस में भेजना चाहा। अल्बर्ट 1 की स्पेस में जाने से पहले ही मौत हो गई थी । और अल्बर्ट 2 को नासा जिंदा Recover नहीं कर पाया था । लगातार दो असफलताओं के बाद नासा ने एक बार दोबारा प्रयास करने का सोचा, और इस बार एक cynomolgus प्रजाति के एक monkey को सेलेक्ट किया । 16 सितंबर 1949 को नासा ने अपने V2 रॉकेट से अल्बर्ट 3 को लॉन्च किया । 18 दिसंबर 1949 को नासा ने अपने V2 रॉकेट से अल्बर्ट 4 को लॉन्च किया From the 1940s to the 1960s, space agencies from different countries sent hundreds of animals to space. In order to study the impact on their body, these experiences can be used to send the person to space. For this, NASA wanted to send two monkeys named Albert 1 and Albert 2 to space. Albert 1 died before he went into space. And Albert 2 did not recover NASA alive alive. After two consecutive failures, NASA once thought to try again, and this time a monkey of a cynomolgus species was selected. On September 16, 1949, NASA launched Albert 3 from its V2 rocket. On December 18, 1949, NASA launched Albert 4 from its V2 rocket Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
आखिर क्या हुवा था उस दिन कल्पना चावला के साथ ???...space shuttle Columbia disaster // home rocket //
आखिर क्या हुवा था उस दिन कल्पना चावला के साथ ???...space shuttle Columbia disaster // home rocket //
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav My Setup :- Boya M1- amzn.to/2QRGSa7 Vivo V11 Pro- amzn.to/2QW5Sgq My Laptop- amzn.to/2QAbhKt Best Gimble- amzn.to/2SQPtHb contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Special thanks to “BBC Studios” youtube channel for help in make this video successful Credit for image :- 1. goo.gl/do2H7L By James E. Scarborough [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/SrRRaS)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/5Vr3qL By Iraq.vet [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/o6NXek)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/dtoqG1 By Achim Hering [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/nf2Nmc)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/iEGxsn By InSapphoWeTrust from Los Angeles, California, USA [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/LgNvxa)], via Wikimedia Commons 5. goo.gl/yCqA2V By Science Museum London / Science and Society Picture Library [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/KVxshk)], via Wikimedia Commons 6. goo.gl/LyJ9Sf By Kllwiki [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/ghMUfn)], from Wikimedia Commons 7. goo.gl/bUJqaj By University of Colorado at Boulder (goo.gl/JyR5Kv) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/Lc4UXk)], via Wikimedia Commons कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम भारतीय महिला थी । कल्पना चावला अपने जीवन काल में दो बार अंतरिक्ष में गई। इस दौरान उन्होंने 31 दिन 14 घंटे और 54 मिनट का समय अंतरिक्ष में बिताया । लेकिन 1 फरवरी 2003 को स्पेस वापस लौटते समय उनके स्पेस शटल कोलंबिया के साथ एक हादसा हो गया। इस हादसे में कल्पना चावला और उनके साथ गए बाकी के 6 क्रू मेंबर की दर्दनाक मौत हो गई । लेकिन नासा जैसी दुनिया की टॉप स्पेस ऐजंसी के स्पेस शटल के साथ दुर्घटना होना अपने आप मे चौंका देने वाली घटना थी। तो क्या कल्पना चावला की मौत दुर्घटना ना होकर एक साजिश थी । कल्पना चावला 16 जनवरी 2003 को स्पेस शटल कोलंबिया से छह अन्य क्रू मेंबर के साथ स्पेस में गई थी। लगभग 16 दिनों तक इस स्पस में रहने के बाद जब कल्पना चावला व अन्य क्रू मेंबर वापस पृथ्वी पर लौट रहे थे , तो उनका स्पेस शटल कोलंबिया पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करते ही एक आग का गोला बन गया । और देखते ही देखते स्पेस शटल कोलंबिया और उसमें सवार सातों यात्रियों के अवशेष यूएसए के टैक्सेस नामक शहर पर बरसने लगे । इस हादसे में सभी सातों एस्ट्रोनॉट्स की मौत हो गई थी। Kalpana Chawla was the first Indian woman to go into space. Kalpana Chawla went into space twice in her lifetime. During this period he spent 31 days 14 hours and 54 minutes in space. But on returning to space on February 1, 2003, his space shuttle became an accident with Columbia. In this accident Kalpana Chawla and the remaining crew of the 6 crew members who had accompanied him died in a painful death. But an accident like the NASA world's top space agency's space shuttle was a startling event. So, Kalpana Chawla's death was a conspiracy and not an accident. Kalpana Chawla went to the space with six other crew members from the space shuttle Columbia on January 16, 2003. After being in this spas for about 16 days, when Kalpana Chawla and other crew members were returning back to Earth, their space shuttle became a fireball as soon as Columbia entered the Earth's atmosphere. And on seeing the Space Shuttle Columbia and the residues of seven riders aboard there, they began to rain on the city of Texas called USA. All seven astronauts died in this accident. #kalpanachawla #columbiadisaster #spaceshuttelcolumbia #kalpnachawladeath #kalpnachawladeathmystry #kuldeepsinghyadav #rhsyatv #rahsyatv #rahasyatv #रहस्यtv Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
क्या हुवा जब Nasa ने एक बंदर को Space मे भेजा ??..sad story of albert1 and albert2 // home rocket //
क्या हुवा जब Nasa ने एक बंदर को Space मे भेजा ??..sad story of albert1 and albert2 // home rocket //
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for image:- 1. goo.gl/Sjr31X By Sanjay Acharya [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/AYhG7H)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/r5S6Co By André Karwath aka Aka [CC BY-SA 2.5 (goo.gl/g3pHWw)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/DtC8aB By André Karwath aka Aka [CC BY-SA 2.5 (goo.gl/vTu2vJ)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/JnjSdD AElfwine [GFDL (goo.gl/LhWcQz) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/6kwTDM)], via Wikimedia Commons 5. goo.gl/7QaxPH By IvoShandor [GFDL (goo.gl/spg2T8), CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/6UBeMm) or CC BY 2.5 (goo.gl/Yzhhmf)], from Wikimedia Commons 6. goo.gl/WhnrV5 By Original: User:Al2Derivative work: GiancarlodessiDerivative work: Georg-Johann [GFDL (goo.gl/fktkNi) or CC BY 3.0 (goo.gl/Ga3ofs)], from Wikimedia Commons For 4 & 5 & 6 :- The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. 7. goo.gl/HV8bsm By Eberhard Marx [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/XR8rjD)], from Wikimedia Commons अंतरिक्ष, पृथ्वी से दूर एक ऐसी दुनिया जिसका नाम सुनते ही हमारे दिलो-दिमाग में एक अलग ही रोमांच पैदा हो जाता है । आज साइंस ने इतनी तरक्की कर ली है कि इंसान चंद्रमा पर भी कदम रख चुका है, और मंगल ग्रह पर भी जीवन को बसाने की कोशिश चल रही है। 12 अप्रैल 1961 को यूरी गागरिन स्पेस में जाने वाले और साथ ही पृथ्वी के ऑर्बिट में सफर करने वाले पहले इंसान बने थे । लेकिन उन्हें स्पेस में पहुंचाने के पीछे बहुत से बेजुबान जानवरों का योगदान था । वैज्ञानिकों ने 1940 से 1960 के दशक में सैकड़ों जानवरों को स्पेस में भेजा, ताकि उनके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन किया जा सके। ऐसे animals जिन्हें स्पेस में भेजा गया उनकी लिस्ट बहुत लंबी है । इसलिए मैंने रहस्य टीवी पर “animals in space” नाम से एक नई सीरीज शुरू की है। इस सीरीज में मैं आपको ऐसे animals के बारे में पूरी डिटेल प्रोवाइड करवावुंगा , जिन्हे कभी ना कभी स्पेस में भेजा गया। इस सीरीज़ का हर नया वीडियो बुधवार को शाम 6:00 बजे आएगा। इसलिए अगर अभी तक आपने रहस्य टीवी को सब्सक्राइब नहीं किया है तो सब्सक्राइब कर लीजिए और बैल के आइकन को दबा दीजिए। जिससे की हमारे नए वीडियो का नोटिफिकेशन सबसे पहले आपको मिल सके। Space, a world away from the world, whose name is heard, creates a different thrill in our mind and heart. Today science has made so much progress that humans have stepped on the moon, and on Mars, efforts are being made to settle down. On April 12, 1961, Yuri became the first person to enter the Gargiric space as well as to travel to Earth's orbit. But in the space of bringing them into space, many wild beasts contributed. Scientists sent hundreds of animals from space in the 1940s to 1960s to study the effects on their body. The list of animals that were sent in space is very long. #Albert1 #Albert2 #Albertmonkeyinspace #animalsinspace #fruitfliesinspace #albertmonkey #sadstoryofalbert #sadstoryofalbert2 #albertspaceflight #kuldeepsinghyadav #rhsyatv #rahsyatv #रहस्यtv Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
नंदा देवी मे खोये हुये न्यूक्लियर device को तलाशेगी सरकार... ये डिवाइस ले सकता है लाखो लोगो की जान
नंदा देवी मे खोये हुये न्यूक्लियर device को तलाशेगी सरकार... ये डिवाइस ले सकता है लाखो लोगो की जान
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for image:- 1. goo.gl/YvZE1J LuckyLouie [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/DX3FSp)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/GjgFdJ By The original uploader was LuckyLouie at English Wikipedia.Later versions were uploaded by N0ty at en.wikipedia. (Transferred from en.wikipedia to Commons.) [GFDL (goo.gl/Ukh81k) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/phF655)], via Wikimedia Commons The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. The GFDL was designed for manuals, textbooks, other reference and instructional materials, and documentation which often accompanies GNU software. However, it can be used for any text-based work, regardless of subject matter. For example, the free online encyclopedia Wikipedia uses the GFDL[1] (coupled with the Creative Commons Attribution Share-Alike License) for all of its text. आज से 53 साल पहले उत्तराखंड राज्य में स्थित नंदा देवी पर्वत की चोटी पर एक न्यूक्लियर पावर डिवाइस खो गया था । उस वक्त इस डिवाइस को तलाशने की पूरी कोशिश की गई थी, लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी ।रिसेंटली 2018 में उत्तराखंड के स्टेट टूरिज्म एंड कल्चर मिनिस्टर सतपाल महाराज ,ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से इस न्यूक्लियर डिवाइस को खोजने के लिए विचार विमर्श किया । और अब भारत सरकार ने इसकी अनुमति दे दी है । भारत सरकार 53 साल पहले खोए हुए एक रेडियोएक्टिव पदार्थ से लैस न्यूक्लियर डिवाइस को खोजने के लिए एक ऑपरेशन जल्द ही शुरू करने वाली है। दरसल इस पूरी घटनाक्रम के पीछे एक इंटरेस्टिंग स्टोरी है । जीसकी पूरी डिटेल आपको इस वीडियो में मिलने वाली है, तो इसलिए वीडियो को शुरुआत से लेकर अंत तक पूरा जरूर देखें। 53 years ago , a nuclear power device was lost on the top of the Nanda Devi mountain in Uttarakhand state. At that time, every effort was made to find this device but no success was achieved. In 2018, State Tourism and Culture Minister of Uttarakhand, Satpal Maharaj, discussed with Prime Minister Narendra Modi to find this nuclear device. And now the Indian government has given its permission. The Government of India is going to start an operation soon to find nuclear equipment equipped with a radioactive substance lost 53 years ago. There is an interesting story behind this whole incident. Whichever detail you are about to get in this video, so watch the video from beginning.... In 1965, during a secret expedition to Nanda Devi, .........an atomic device got lost and continues to be missing and potentially hazardous to the people of India...... if it contaminates the Ganga - a concern that was recently voiced by the Uttarakhand tourism minister........ The chilling story of international espionage, involving China, the CIA and the Indian government, is now being made into a Hollywood film......... Namita Devidayal spoke to the leader of the expedition, #nandadevi #nandadevilostnucleardevice #रहस्यTV #रहस्यtv #rhsyatv #rhsya #rahasyatv #kuldeepsinghyadav #nandadevimystery Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
चन्द्रमा पर मिला सकैडो खरबो टन पानी....अब बसेंगी चांद पर इंसानी बस्तियां water on moon surface
चन्द्रमा पर मिला सकैडो खरबो टन पानी....अब बसेंगी चांद पर इंसानी बस्तियां water on moon surface
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #chandrayaan1 #wateronmoon #चन्द्रयान1 #isro #nasa #watericeonmoon #lunarorbiterr #moonimpactmapper #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for image :- 1. isro (Indian Space Research Organizatio) and Chandrayaan-1 and Ministry of External Affairs, Government of India (Indain Diplomacy ) Website of isro and chandrayaan-1 :- goo.gl/Ynm68s goo.gl/mAEufW 2. goo.gl/S3Ex5S By Arkarjun [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/1CxneL)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/SuLpmq By Buddyonline77 [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/EcdQ9N)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/Xu5gj7 Vikram Sarabhai Space Centre (GODL-India) [GODL-India (goo.gl/cDJzxG)], via Wikimedia Commons 5. goo.gl/GVHz6a By Phoenix7777 [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/b2oYvL)], from Wikimedia Commons 6. goo.gl/4NDtvo By - Sri Harsha C 7. goo.gl/A6Cuio By Avda [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/hpyutT)], from Wikimedia CommonsCommons पानी एक ऐसा तत्व है, जो जीवन का आधार है। बिना पानी जीवन की कल्पना कर पाना भी संभव नहीं है ।और इसलिए आज वैज्ञानिक पृथ्वी से करोड़ों-अरबों प्रकाश वर्ष दूर प्लैनेट्स पर पानी की मौजूदगी तलाशने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर रहे हैं । केवल इसी उम्मीद में कि पृथ्वी के अलावा इस पूरे ब्रह्मांड में किसी ना किसी प्लेनेट पर पानी जरूर मिलेगा । आज मैं आपको इस वीडियो में एक ऐसे ही मिशन के बारे में बताने जा रहा हूं ,जिसने चंद्रमा पर पानी की खोज की । 22 अक्टूबर 2008 को इसरो ने चंद्रमा के लिए एक मिशन चंद्रयान-1 लांच किया था । जिसका मुख्य उद्देश्य चंद्रमा की सतह का अध्ययन करना ,और वहां पर पानी के अंश को तलाशना था था। यह यान अपने साथ कुछ साइंटिफिक उपकरण भी लेकर गया था । 25 सितंबर 2009 को इसरो ने ऑफिशियल अनाउंसमेंट किया कि चंद्रया-1 के एक इंस्ट्रूमेंट ने चंद्रमा की सतह पर पानी खोज लिया है । ये पानी water ice के रुप मे मौजूद है। कुछ दिनों के बाद नासा ने भी अनाउंसमेंट किया कि उनके इंस्ट्रूमेंट moon mineralogy mapper ने चंद्रमा की सतह पर पानी के संकेत दिये है। M3 ने चंद्रमा की सतह से सारा डाटा कलेक्ट किया अौर Nasa के पास भेजा। नासा ने इस डेटा का एक मैप तैयार किया ,और उसके आधार पर यह बताया कि चंद्रमा के साउथ और नार्थ पोल मे पानी मौजूद है। यह पानी water ice के रूप में मौजूद है। Water is an element which is the basis of life. It is also not possible to imagine without watering life. And so today, scientists are spending crores of rupees for millions of light years away from Earth to explore the presence of water on Planets. Only in the hope that water will be found on some planet in this whole universe except in Earth. Today I'm going to tell you about a similar mission in this video, who discovered water on the moon. On October 22, 2008, ISRO launched a mission Chandrayaan-1 for the Moon. The main purpose of which was to study the surface of the moon, and to explore the water component on it. This vehicle took some scientific equipment along with it. On September 25, 2009, ISRO made an anonymization that an instrument of Chandraya-1 discovered water on the surface of the Moon. This water is present in the form of water ice. After a few days, NASA also announced that their instrument moon mineralogy mapper gave signs of water on the moon's surface. M3 collected all the data from the surface of the Moon and sent it to Nasa. NASA prepared a map of this data, and on the basis of it it was reported that water in the Moon's South and North Pole is present. This water is present in the form of water ice. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing. Non-profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
international space station को अपने घर से कैसे देखे... View sighting opportunities of iss
international space station को अपने घर से कैसे देखे... View sighting opportunities of iss
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #kuldeepsinghyadav #ISS #isssightingopportunities #issinyourhand #nasa #isro #spacescience twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science The International Space Station (ISS) is a space station, or a habitable artificial satellite, in low Earth orbit. Its first component launched into orbit in 1998, the last pressurised module was fitted in 2011, and the station is expected to operate until 2028. Development and assembly of the station continues, with components scheduled for launch in 2018 and 2019. The ISS is the largest human-made body in low Earth orbit and can often be seen with the naked eye from Earth. The ISS serves as a microgravity and space environment research laboratory in which crew members conduct experiments in biology, human biology, physics, astronomy, meteorology, and other fields.The station is suited for the testing of spacecraft systems and equipment required for missions to the Moon and Mars. The ISS maintains an orbit with an altitude of between 330 and 435 km by means of reboost manoeuvres using the engines of the Zvezda module or visiting spacecraft. It completes 15.54 orbits per day. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को 1998 में पृथ्वी से लांच किया गया था। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का कार्यकाल बढ़ा कर 2028 तक एक्सपैंड कर दिया गया है। स्पेस स्टेशन हमारे ब्रह्मांड में तीसरी सबसे चमकीली वस्तु है। जिसे हम अपनी नॉर्मल आंखों से बिना किसी दूरबीन की सहायता से देख सकते हैं । इस इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को बनाने में 15 देशों ने संयुक्त रूप से योगदान दिया है । इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पृथ्वी की कक्षा से 330 से लेकर 435 किलोमीटर उपर चक्कर लगाता रहता है। यह 1 दिन में पृथ्वी के 15.54 चक्कर पूरे कर लेता है। स्पेस स्टेशन को हम पृथ्वी से अपने घर की छत से बिना किसी दूरबीन या बिना किसी टेलिस्कोप के अपनी normal आंखों से देख सकते है।इस वीडियो में मैं आपको यही बताने वाला हूं कि आप आईएएस को आसानी से ट्रैक कर अपने घर की छत से कैसे देख सकते है। जानने के लिये विडियो को end तक पूरा देखे।
भारत का पहला मानव युक्त अंतरिक्ष मिशन “गगनयान” उडान भरने को तैयार isro frist manned mission gagnyaan
भारत का पहला मानव युक्त अंतरिक्ष मिशन “गगनयान” उडान भरने को तैयार isro frist manned mission gagnyaan
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science credit for image :- 1. goo.gl/m5pcpv By Jetijones [CC BY 3.0 (goo.gl/mvcKni)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/ZLkaf3 By Narendra Modi [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/rwdEoi)], via Wikimedia Commons 3. goo.gl/dqunAo By Intruder [CC BY-SA 2.5 (goo.gl/rL4d8t)], via Wikimedia Commons आज तक अंतरिक्ष में जितने भी मानव युक्त मिशन भेजे गए हैं ,वह या तो नासा या other कंट्री की स्पेस एजेंसी के द्वारा भेजे गए थे । इस रेस में हमारा इसरो बहुत ही पीछे था। लेकिन अब जल्द ही इसरो भी अंतरिक्ष में मानव युक्त मिशन भेजेगा। 15 अगस्त को लाल किले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने पूरे देश को संबोधित करते हुए बड़ी घोषणा की थी, कि इसरो 2022 तक अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजेगा । अौर अब इसरो के चीफ डॉक्टर के शिवन ने इस पर मोहर लगा दी है। इसरो ने अंतरिक्ष में मानव मिशन को "गगनयान" नाम दिया है। यह यान 2022 तक अंतरिक्ष में पहुंच जाएगा । वहा यह पृथ्वी की कक्षा से 300 किलोमीटर उपर चक्कर लगायेगा और 7 दिन के बाद वापस आ जाएगा। वापसी मे यह 36 मिनट मे पृथ्वी पर पहुंच जायेगा। landing के 20 मिनट के बाद क्रू मॉड्यूल से एस्ट्रोनॉट को बाहर निकाल लिया जाएगा। To date, as many human-based missions sent in space were sent either by NASA or other country's space agency. Our ISRO was very far behind in this race. But now soon ISRO will send humanitarian missions in space. On 15th August, Prime Minister Narendra Modi had announced a major declaration from the Red Fort to the whole country, that ISRO would send human missions in space by 2022. And now ISRO's chief doctor Shivan has stamped this. ISRO named human missions in space "Gaganayan". This vehicle will reach space in 2022. It will rotate 300 kilometers above the Earth's orbit and return after 7 days. In the return, it will reach Earth in 36 minutes. Astronaut will be taken out of the crew module after 20 minutes of landing. #Gaganayan #ggnyaan #isrofirstmanmission #रहस्यTV #kuldeepsinghyadav #गगनयान #इसरो
नष्ट हो सकता है international space station..अब भविष्य मे space mission भेजना आसान नही होगा
नष्ट हो सकता है international space station..अब भविष्य मे space mission भेजना आसान नही होगा
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #kuldeepsinghyadav #internationalspacestation #रहस्यTV #spacedebris #spacejunk #spacegarbage #removedebris #removedebrismission #spacemission twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science credit for video footage :- NASA ESA (European Space Agency ) CNN pixabay & gravity movie credit for image :- 1. goo.gl/6gN69m By Cliff (originally posted to Flickr as Iridium Satellite) [CC BY 2.0 (goo.gl/qc2P3Q)], via Wikimedia Commons 2. goo.gl/G29KMH ESA [CC BY-SA 3.0-igo (goo.gl/rrvW6u)], via Wikimedia Commons 3. goo.gl/YwNY9v By Tiangong_1_drawing.png: Craigboyderivative work: 70.49.127.65Vectorized by Waterced [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/J9oVtC)], via Wikimedia Commons 4. goo.gl/PE1tPa By Tomruen [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/RDETSH)], from Wikimedia Commons 5. goo.gl/RbLpNa By- Charly W. Karl Under - goo.gl/qQc96p 6. goo.gl/Gm8tGT By- State Farm Under- goo.gl/cKW8b2 आज हर देश अंतरिक्ष के क्षेत्र में अपने आपको श्रेष्ठ साबित करने के लिए नए नए प्रयोग कर रहा है। हर साल न जाने कितने ही रॉकेट सेटेलाइट और स्पेस क्राफ्ट को अंतरिक्ष में भेजा जाता है । लेकिन इस अंधी दौड़ में हम एक बड़े खतरे को नजरअंदाज कर रहे हैं ,जो आने वाले टाइम में इस पूरी रेस को ही बर्बाद करने की ताकत रखता है। जब किसी भी रॉकेट को लांच किया जाता है, तो उसका अलग-अलग स्टेज पर सेपरेशन होता रहता है । क्या आपने कभी सोचा है कि रॉकेट के ये पार्ट कहां जाते होंगे ,और साथी में जब कोई सेट लाइट खराब हो जाती है तो वह खराब सेटेलाइट कहां जाती होगी । रॉकेट के अलग हुए पार्ट अौर खराब हुई सैटेलाइट अंतरिक्ष में ही चक्कर लगाती रहती हैं । और धीरे-धीरे इनकी संख्या बढ़ रही है । अंतरिक्ष में फैलते इस मानव निर्मित कचरे को space debris के नाम से जाना जाता है । space debris केवल दो ही कारणों से फैलता है। पहला कारण तो ये है की जब वैज्ञानिक किसी रॉकेट या उपग्रह को अंतरिक्ष में लॉन्च करते हैं तो उसके अलग होने वाले पार्ट या खराब सैटेलाइट स्पेस डेब्रिस का रूप ले लेते हैं । स्पेस डेब्रिस की दूसरी सबसे बड़ी वजह kessler syndrome है Today every country is experimenting with innovation to prove itself superior in the field of space. Not every year, many rocket satellites and space craft are sent into space. But in this dark race we are ignoring a great danger, which has the power to destroy this whole race in the coming time. When any rocket is launched, its separation happens on different stages. Have you ever wondered where these parts of the rocket would go, and when a set light goes bad in the partner, then where would it go to bad satellites? The separated parts of the rocket and the damaged satellites continue to rotate within the space. And gradually their numbers are increasing. Spreading in space, this man-made garbage is known as space debris. The space debris is spread only for two reasons.for full information watch this video till end The Copyright Laws of the United States recognizes a “fair use” of copyrighted content. Section 107 of the U.S. Copyright Act states: “Notwithstanding the provisions of sections 106 and 106A, the fair use of a copyrighted work, including such use by reproduction in copies or phonorecords or by any other means specified by that section, for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching (including multiple copies for classroom use), scholarship, or research, is not an infringement of copyright.” This video and our youtube channel, in general, may contain certain copyrighted works that were not specifically authorized to be used by the copyright holder(s), but which we believe in good faith are protected by federal law and the fair use doctrine for one or more of the reasons noted above. If you have any specific concerns about this video or our position on the fair use defense, please contact Me “kuldeepk8540@gmail.com" so we can discuss.
Parker Solar Probe सूर्य की कक्षा में कब तक पहुंचेगा All information about parker solar probe
Parker Solar Probe सूर्य की कक्षा में कब तक पहुंचेगा All information about parker solar probe
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #parkersolarprobe #sun #रहस्यTV twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science credit for image and footage :- 1. goo.gl/GMY9ar By Phoenix7777 [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/egFZJ5)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/F1KqAK By NASA Goddard Space Flight Center 3. goo.gl/i47oQW By Phoenix7777 [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/e7zZ5i)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/pRzK5Y I, Luc Viatour [GFDL (goo.gl/SmWFfg), CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/fQ4Bvc) or CC BY-SA 2.5 (goo.gl/cPFrF4)], from Wikimedia Commons 5. goo.gl/y3Q9Ct By Sebman81 [GFDL (goo.gl/3rYtma) or CC BY-SA 3.0 (goo.gl/4sCuKQ)], from Wikimedia Commons 6. goo.gl/FAvZcC Janandd at English Wikipedia [GFDL (goo.gl/FmdS8E), CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/Vj3jdK) or CC BY-SA 2.5 (goo.gl/4CiXHk)], from Wikimedia Commons for 4 & 5 & 6 :- The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. The GFDL was designed for manuals, textbooks, other reference and instructional materials, and documentation which often accompanies GNU software. However, it can be used for any text-based work, regardless of subject matter. For example, the free online encyclopedia Wikipedia uses the GFDL (coupled with the Creative Commons Attribution Share-Alike License) for all of its text. 7. goo.gl/n5rYcA By NASA Goddard Space Flight Center [CC BY 2.0 (goo.gl/qw9JRs)], via Wikimedia Commons 8. goo.gl/qRixyg By Kelvinsong (goo.gl/9nEKFm) [CC BY-SA 1.0 (goo.gl/49MhkE)], via Wikimedia Commons हमारे सौरमंडल में सबसे गर्म तारा सूर्य है ।सूर्य के कारण ही पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाता है ,लेकिन कभी-कभी सूरज पर आने वाली सौर आंधीयो की वजह से पृथ्वी का जनजीवन और कम्युनिकेशन सिस्टम बुरी तरह से प्रभावित होता है । हमारे सौरमंडल में सूर्य एक ऐसा तारा है ,जिसके बारे में आज तक हम ज्यादा कुछ नहीं जानते हैं और, इसका एक कारण सूर्य की गर्मी भी है । इतने अधिक टेंपरेचर के कारण आज तक कोई भी स्पेसक्राफ्ट सूर्य के नजदीक नहीं जा पाया है । सूर्य के सबसे करीब जाने वाला स्पेसक्राफ्ट helios 2 था । अब नासा ने अपना सबसे लेटेस्ट स्पेसक्राफ्ट पार्कर सोलर प्रोब को सूर्य के सबसे नजदीक जाने के लिए लॉन्च किया है । पार्कर सोलर प्रोब सूर्य से 6200000 किलोमीटर दूर रहकर सूर्य की बाहरी परत कोरोना का अध्ययन करेगा, और उससे संबंधित सारी जानकारियां प्राप्त कर उन्हें वैज्ञानिकों के पास भेजेगा । इस मिशन की अवधि 7 साल है। 7 साल में पार्कर सोलर प्रोब सूर्य के 24 चक्कर लगाएगा। इस मिशन को नासा ने 12 अगस्त 2018 को अमेरिका समयानुसार 3:30 पर लॉन्च किया था । नासा ने इस मिशन का नाम अपने सौर वैज्ञानिक यूजिंग पार्कर के नाम पर रखा है। पार्कर ने सबसे पहले सन 1958 में बताया था कि, सौर हवाआो या आंधियों का अस्तित्व होता है, और उन्हीं के शोध के आधार पर इस यान को तैयार किया गया है। सोलर पार्कर प्रोब के बारे में और उसकी टाइमलाइन के बारे में पूरी जानकारी के लिए वीडियो को अंत तक जरूर देखें । The hottest star in our solar system is the Sun. Due to the sun, life on Earth is possible, but due to the solar winds that are sometimes encountered on the sun, the life and communion system of the Earth is badly affected. In our solar system, the sun is such a star, about which we do not know much till today, and one reason is also the sun's heat.
जब एक आदमी ने space से पृथ्वी पर jump लगाया तो क्या हुवा?? man falling from space //home rocket//
जब एक आदमी ने space से पृथ्वी पर jump लगाया तो क्या हुवा?? man falling from space //home rocket//
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science this video is Only for education purpose Cridet for image:- 1. goo.gl/k4X6LY Georges Biard [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/6kGyem)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/4PpFzS By Alexandre Inagaki Under goo.gl/mt53KV 3. goo.gl/b2Fcpy By Intermedichbo (Red Bull Stratos project) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/XKqbmN)], via Wikimedia Commons 4. goo.gl/vjScjH By Benoit DUCHATELET Under goo.gl/rBgLNc 5. goo.gl/VuZBEr Berria [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/aXa1Hx) or CC BY-SA 4.0 (goo.gl/mYRPWk)], via Wikimedia Commons 6. goo.gl/fHGzto By Ramona Benson under goo.gl/kWqoNL The Copyright Laws of the United States recognizes a “fair use” of copyrighted content. Section 107 of the U.S. Copyright Act states: “Notwithstanding the provisions of sections 106 and 106A, the fair use of a copyrighted work, including such use by reproduction in copies or phonorecords or by any other means specified by that section, for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching (including multiple copies for classroom use), scholarship, or research, is not an infringement of copyright.” This video and our youtube channel, in general, may contain certain copyrighted works that were not specifically authorized to be used by the copyright holder(s), but which we believe in good faith are protected by federal law and the fair use doctrine for one or more of the reasons noted above. If you have any specific concerns about this video or our position on the fair use defense, please contact Me “kuldeepk8540@gmail.com" so we can discuss. इस दुनिया में आपको अलग अलग टाइप के लोग मिलेंगे।कोई हजारों फीट ऊंची बिल्डिंग पर चढ़कर सेल्फी ले रहा होगा, तो कोई हजारों मीटर गहरे समुंद्र में गोते लगा रहा होगा ।लेकिन ऐसे रिकॉर्ड बनाने के चक्कर में कई बार कुछ स्टंटमैन ऐसे काम भी कर देते हैं, जो बिल्कुल असंभव से लगते हैं ।कुछ ऐसा ही कारनामा 14 अक्टूबर 2012 को सामने आया था, जब एक स्काई ड्राइवर फेलिक्स बाउमगार्टनर ने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के चक्कर मेंअंतरिक्ष से ही छलांग लगा दी ।इस world record के लिए फेलिक्स ने 39 किलोमीटर की ऊंचाई से पृथ्वी पर जंप लगाया।अौर एक आग के गोले की तरह पृथ्वी की ओर तेजी से बढ़ने लगे फेलिक्स ने साउंड से भी तेज सुपरसोनिक गति से स्पेस जंप लगाते हुए स्पीड और हाइट के मामले के सारे स्काइडाइविंग के रिकॉर्ड तोड़ दिए।फेलिक्स ने जब जंप लगाया तब उनकी गति 1342.8 Km/h थी और उस ऊंचाई पर साउंड की गति 1235 Km/h ही होती है।इस तरह वे साउंड बैरियर को तोड़ने वाले पहले इंसान बन गए ।अब तक केवल सुपरसोनिक विमान या रॉकेट ही साउंड बैरियर पार कर सकते थे, लेकिन फेलिक्स ऐसे पहले मानव बने जिन्होंने साउंड की स्पीड लिमिट को क्रॉस किया। In this world, you will find different types of people. If someone would be taking self-esteem on a thousand feet high building, then thousands of meters would be diving in the deep sea. But sometimes, some stuntmen even do things that seem impossible to do in such a way to make such records. Something like this came out on October 14, 2012 when a Sky driver Felix Baumgartner took a turn to make a world record. Space has jumped from itself. For this world record, Felix jumped on Earth from a height of 39 kilometers. And like a fireball, Felix began to grow rapidly towards the Earth, by breaking the record of all the skydiving in speed and highlights by putting space jump at the supersonic pace faster than the sound. When Felix imposed a jump, his speed was 1342.8 Km / h and at that height the speed of the sound was 1235 Km / h. In this way they became the first person to break the sound barrier. By now only supersonic aircraft or rockets could cross the sound barrier, but Felix became the first man to cross the speed limit of the sound #RedBullStratos #Spacejump #manfallingfromspace #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV
रॉकेट या स्पेसक्राफ्ट चंद्रमा पर लैंडिंग कैसे करता है और वापस पृथ्वी पर कैसे आता है.... home rocket
रॉकेट या स्पेसक्राफ्ट चंद्रमा पर लैंडिंग कैसे करता है और वापस पृथ्वी पर कैसे आता है.... home rocket
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com मै इस चैनल पर स्पेस और स्पेस से रिलेटेड सारी इन्फॉर्मेशन के वीडियो अपलोड करता रहता हूँ जैसे कि :- rocket , home rocket, nasa ,isro , space x, space science , space technology, falcone rocket, falcon 9, nasa rocket launch, space exploration technology , elone musk, elon, rocket space, rocket science , etc..........so please subscribe our channel for more update about space and rocket science Credit for images :- 1. commons.wikimedia.org/wiki/File:Apollo_SM_fuel_cell.jpg By James Humphreys - SalopianJames [CC BY-SA 3.0 (creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0) or GFDL (www.gnu.org/copyleft/fdl.html)], from Wikimedia Commons The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. The GFDL was designed for manuals, textbooks, other reference and instructional materials, and documentation which often accompanies GNU software. However, it can be used for any text-based work, regardless of subject matter. For example, the free online encyclopedia Wikipedia uses the GFDL (coupled with the Creative Commons Attribution Share-Alike License) for all of its text. जब भी अपोलो 11 मिशन का नाम आता है, तो अक्सर एक सवाल पूछा जाता है कि स्पेसक्राफ्ट ने चंद्रमा पर लैंडिंग कैसे की होगी। और वहां से वापस पृथ्वी पर कैसे आया होगा। क्योंकि चंद्रमा से वापस आने के लिए भी एक रॉकेट की जरूरत तो होगी, तो वह रॉकेट चंद्रमा तक कैसे पहुंचा होगा। इन्हीं सवालों के जवाब आपको इस वीडियो में मिलने वाले हैं ।और आपको पूरी डिटेल से समझाने वाला हूं कि, कैसे स्पेसक्राफ्ट ने चंद्रमा पर लैंडिंग की ,और वहां से वापस पृथ्वी तक आया । apollo 11 नासा का पांचवा मानवीय मिशन था ,और तीसरा चंद्र अभियान था जो कि सफल हुआ था। अपोलो-11 के बाद नासा ने छह मिशन और भेजे थे ,जिनमें से 5 मिशन सफल हुए । 21 July 1969 इतिहास की वह तारीख थी, जिस दिन मानव ने चंद्रमा की सतह पर पहला कदम रखा था । चंद्रमा की सतह पर पहला कदम रखने वाले इंसान नील आर्मस्ट्रांग थे । नील आर्मस्ट्रांग के 20 मिनट बाद बस एल्ड्रिन ने भी चंद्रमा की सतह पर दूसरा कदम रखा । वही तीसरे एस्ट्रोनॉट माइकल कोलिंस कमांड मॉड्यूल में बैठ कर चंद्रमा के चारों तरफ चक्कर लगाते रहे,और अपने दोनों साथियों का इंतजार करते रहे। इस तरह तीनों एस्ट्रोनॉट ने इतिहास में पहली बार चंद्रमा पर सफल लैंडिंग की। वहां से लगभग 21.5 किलोग्राम के टुकड़ों को कलेक्ट किया, और उन्हें प्रयोग के लिए पृथ्वी पर लेकर आए । ज्यादा जानकारी के लिए वीडियो को अंत तक जरूर देखिए। Whenever Apollo 11 Mission comes, then a question is often asked how Spacecraft should be landing on the Moon. And how come back to Earth from there. Because even if a rocket is needed to come back from the moon, then how will it reach the rocket moon? You are going to get answers to these questions in this video. And I am going to explain to you the whole detail about how Spacraft landed on the Moon, and from there it came back to Earth. apollo 11 was NASA's fifth human mission, and the third was the moon mission which was successful. After Apollo 11, NASA sent six missions, out of which five were successful. 21 July 1969 was the date of history, on which day the first step on human life was on the Moon. Neil Armstrong was the first person on the moon's surface. For more information, watch the video to the end. in this video :- moon mission, apollo, apollo 11, nasa, nasa america, nasa space center , nasa offical website, nasa website, astronauts in space, american space program, #apollo11 #moonlanding #apollomoonlanding #apollomission #apollo #nasamoonlanding #kuldeepsinghyadav
प्रथम विश्व युद्घ के विशालकाय अौर खतरनाक हथियार first world war important weapons // home rocket//
प्रथम विश्व युद्घ के विशालकाय अौर खतरनाक हथियार first world war important weapons // home rocket//
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #weaponsinfirstworldwar #kuldeepsinghyadav #रहस्यTV #firstworldwar twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com credit for image:- 1. goo.gl/KqoFPZ By Armémuseum (The Swedish Army Museum) (goo.gl/HTD8fa) [CC BY 4.0 (goo.gl/cAaqfF)], via Wikimedia Commons 2. goo.gl/grxmeR Photograph by Rama, Wikimedia Commons, Cc-by-sa-2.0-fr [CeCILL (goo.gl/Au36M3) or CC BY-SA 2.0 fr (goo.gl/hAkXC4)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/Yqa8Bv By User:Bukvoed [GFDL (goo.gl/yKjrSF), CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/K6m7CH) or CC BY 2.5 (goo.gl/FqPg6b)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/ywhLMi I, Arthurrh [GFDL (goo.gl/9x28dB), CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/xq8a1i) or CC BY-SA 2.5 (goo.gl/nmbHB6)], from Wikimedia Commons 5. goo.gl/zTGygm author :- Burtonpe (talk) This file is licensed under the Creative Commons Attribution-Share Alike 3.0 Unported License 6. goo.gl/AAwZpN By Tony Hisgett from Birmingham, UK (Mark V TankUploaded by Magnus Manske) [CC BY 2.0 (goo.gl/krL4zb)], via Wikimedia Commons 7. goo.gl/Sw1zqs By User:MatthiasKabel [GFDL (goo.gl/j2vCVN) or CC BY-SA 3.0 (goo.gl/qwY4Z2)], from Wikimedia Commons 8. goo.gl/C26znZ By J.Klank [GFDL (goo.gl/VqGQNY) or CC BY 3.0 (goo.gl/jga3eC)], from Wikimedia Commons 9. goo.gl/uiDJ3Y Alan Wilson [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/S9ePQj)], via Wikimedia Commons 10. goo.gl/GjN2v9 By Khoa2005VN [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/wD7u45)], from Wikimedia Commons 11. goo.gl/if6B4b By Khoa2005VN [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/oKSCGo)], from Wikimedia Commons About GFDL Licence :- The GNU Free Documentation License (GNU FDL or simply GFDL) is a copyleft license for free documentation, designed by the Free Software Foundation (FSF) for the GNU Project. It is similar to the GNU General Public License, giving readers the rights to copy, redistribute, and modify (except for "invariant sections") a work and requires all copies and derivatives to be available under the same license. Copies may also be sold commercially, but, if produced in larger quantities (greater than 100), the original document or source code must be made available to the work's recipient. The GFDL was designed for manuals, textbooks, other reference and instructional materials, and documentation which often accompanies GNU software. However, it can be used for any text-based work, regardless of subject matter. For example, the free online encyclopedia Wikipedia uses the GFDL (coupled with the Creative Commons Attribution Share-Alike License) for all of its text. अगर आप हथियारों के विषय मे जानने में रुचि रखते हैं ,तो आपके मन में यह सवाल कभी न कभी जरूर आया होगा कि प्रथम विश्व युद्ध में कौन से हथियार उपयोग में लिए गए थे ।प्रथम विश्व युद्ध के समय परमाणु bomb और हाइड्रोजन bomb जैसे घातक हथियारों का निर्माण तो नहीं हुवा था। लेकिन उस समय भी कुछ ऐसे हथियार थे जिनके सामने आज के हथियार भी कमजोर ही नजर आते है। आज के इस वीडियो में मैं आपको कुछ ऐसे ही हथियारों के बारे में बताने जा रहा हूँ। जैसे :- mauser geweher 98, Luger Pistol, Lee-Enfield, MG-08 ,Mark V Tank, Fokker Dr. 1 Triplane, Type U 93 Submarine, Lweis Gun If you are interested in knowing about arms, then you must have come up with the question that weapons which were used in World War I would have ever come to an end. At the time of World War I, fatal like nuclear bomb and hydrogen bomb Weapons were not constructed. But at that time there were some weapons in front of which even today's weapons are seen as weak. In today's video I'm going to tell you about some such weapons. like :- mauser geweher 98, Luger Pistol, Lee-Enfield, MG-08, Mark V Tank, Fokker. 1 Triplane, Type U 93 Submarine, Lweis Gun #firstworldwar
स्पेसक्राफ्ट या रॉकेट इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर लैंडिंग कैसे करता है Spacecraft Landing at the ISS🔥🔥
स्पेसक्राफ्ट या रॉकेट इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर लैंडिंग कैसे करता है Spacecraft Landing at the ISS🔥🔥
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #spaceship #spacecraft #internationalspacestation #dockingwithiss #iss twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Music: www.purple-planet.com credit for image 1. commons.wikimedia.org/wiki/File:Dream_Chaser_Docked_to_ISS.jpg By Sierra Nevada Space Systems (Sierra Nevada Space Systems) [CC BY-SA 3.0 (creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0)], via Wikimedia Commons नमस्कार दोस्तो आज मैं आप सभी के सामने अंतरिक्ष रहस्य सीरीज का एक नया एपिसोड लेकर आया हूं।इस वीडियो में हम बात करने वाले हैं कि, इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन क्या है। और कोई भी स्पेसक्राफ्ट या स्पेस शटल इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर लैंडिंग कैसे करता है। साथ ही इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में मौजूद एस्ट्रोनॉट वापस पृथ्वी पर कैसे आते हैं।आप सभी के इन सभी सवालों के जवाब आज इस वीडियो में देने वाला हूं।इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन से संबंधित कुछ सामान्य जानकारियां इस प्रकार ह। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को 20 नवंबर 1998 को लांच किया गया था। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की लंबाई 239 फीट चौड़ाई 356 फीट और ऊंचाई 66 फीट है। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का वजन 419725 किलोग्राम है । इतने बड़े इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को 136 उडानो के जरीये अंतरिक्ष में भेजा गया था। और वहां पर इसके हिस्सो को जोड़कर इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का आकार दिया गया। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को बानाने म 15 देशो ने मिलकर सहयोग प्रदान किया था। तो आज की इस वीडियो में आपके इन्हीं सभी सवालों के जवाब मिलने वाले हैं ,कि कोई भी स्पेसक्राफ्ट इंटरनेशनल स्पेस स्पेस स्टेशन पर कैसे लैंड करता है । आजकल बहुत से टाइप के स्पेसक्राफ्ट बना लिए गए हैं ,लेकिन सभी स्पेसक्राफ्ट का इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर लैंडिंग करने का तरीका समान ही होता है । Hello friends, today I have brought you a new episode of Space Mystery Series in front of everyone. In this video we are going to talk about what is the International Space Station. And how does any spacecraft or space shuttle landline at the International Space Station. Also, how are Astronauts present in the International Space Station come back to Earth. All of you will answer these questions in today's video. Some general information related to International Space Station is as follows. The International Space Station was launched on November 20, 1998. International Space Station has a length of 239 feet, 356 feet wide and 66 feet height. The weight of the International Space Station is 419725 kilograms. This large international space station was sent to the space of 136 flyers. And the size of the International Space Station was shaped by adding its parts there. In order to create the International Space Station, 15 countries collaborated together. So in today's video you will find answers to all these questions, how does any Spacecraft land on the International Space Space Station. Nowadays, many types of spacecraft have been made, but all the spacecraft's way of landing at the International Space Station is the same. if you want to know about Rockets, home Rockets, NASA ,space science, space Technology ,Falcon 9 , NASA rocket launch system, space exploration Technology, space x , space X stocks ,elone musk invention, Rocket Science ,and rocket space ,then don't forget to subscribe this channel
अलास्का की खाड़ी में ना मिलने वाले दो समुद्रों के रहस्य का पूरा सच....Mysterious Night
अलास्का की खाड़ी में ना मिलने वाले दो समुद्रों के रहस्य का पूरा सच....Mysterious Night
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Special thanks to ABP NEWS HINDI #alaska #alaskasea #alaskaseaborder #realityofalaskasea #mysterybehindalaskasea #mystery #kuldeepsinghyadav #rhsyatv नमस्कार दोस्तों रहस्यो से भरी इस दुनिया में आपका स्वागत है ।आज मैं मिस्टीरियस नाईट सीरीज का यह पहला एपिसोड आप सभी के सामने लेकर आ रहा हूं।हमारी दुनिया में न जाने कितने ही रहस्य हैं ,जिनको लोग अंधविश्वास के कारण धार्मिक चमत्कार मान बैठते हैं। लेकिन उसके पीछे छिपी असली वैज्ञानिकों को कोई नहीं जानता। ऐसा ही एक रहस्य है अलास्का की खाड़। अलास्का की खाड़ी में एक समुंद्र ऐसा भी है जो अपने अंदर दो अलग-अलग रंग का पानी समेटे हुए हैं। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि यह दोनों अलग-अलग रंग वाले पानी आपस में कभी नहीं मिलते। इन्हें देख कर ऐसा लगता है, जैसे समुद्र के बीचो-बीच कोई अदृश्य दीवार खड़ी हो जो अलग अलग रंग के पानी को मिलने से रोकती हो ।आज इस वीडियो में मैं आपको अलास्का की खाड़ी के समुंदर के पानी के ना मिलने के पीछे का असली वैज्ञानिक कारण बताऊंगा । लोग ज्ञान के अभाव में इसे धार्मिक चमत्कार बताते हैं ,और कुरान ,शिवपुराण में इसकी व्याख्या होना बताते हैं ।लेकिन इस चमत्कार के पीछे ना कोई धर्म है ना ही कोई अध्यात्म बल्कि इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण है। जिसके बारे में आज मैं आपको इस वीडियो में बताने वाला हूं ।तो वीडियो को अंत तक जरूर देखना ,और अगर आपको यह वीडियो पसंद आए तो इस वीडियो को लाइक जरूर करना । अगर आप हमारे चैनल पर नए मेहमान है तो हमारे चैनल को सब्सक्राइब करना बिल्कुल मत भूलना ,अपने दिल की प्यारी प्यारी बातों को कमेंट में जरूर बताना ।मिलते हैं अगले शनिवार को शाम 6:00 बजे तब तक के लिए खुश रहें मस्त रहें भगवान करे आप सभी का दिन शुभ हो। Hello friends, welcome to this world full of mysteries. Today, I am bringing this first episode of the Mysterious Night series to everyone in front of you. There is no secret in our world, people who believe in religious miracles due to superstition . But no one knows the real scientists hidden behind him. One such secret is the Alaskan palm. There is also a sea in the Bay of Alaska that boasts two different color water inside it. But surprisingly, these two different colors never interfere with each other. It looks as if it looks like there is an invisible wall in the middle of the ocean, which prevents it from getting the water of different colors. In today's video, I am not going to get you the water behind the Alaska Bay I will tell scientific reasons. People call it a religious miracle in the absence of knowledge, and in the Qur'an, Shiva Purana explains its interpretation. But there is no religion behind this miracle, nor is there any spiritualism but it is a scientific reason behind it. Which about today I'm going to tell you in this video. So definitely watch the video until the end, and if you like this video, then definitely do this video. If you are a new guest on our channel then do not forget to subscribe to our channel, tell your dear dear things in the comments. Meet the next Saturday, be happy for 6.00 p.m. Good day to you all. Music: www.purple-planet.com
दुनिया का सबसे महंगा पदार्थ..1 ग्राम की कीमत है 3125000 करोड रुपए World's most expensive substance
दुनिया का सबसे महंगा पदार्थ..1 ग्राम की कीमत है 3125000 करोड रुपए World's most expensive substance
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
रीयुजेबल राकेट कैसे काम करता है :- pa-zone.info/view/UUVNSHNSY3U0bjg.html नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #worldmostexpensivesubstance #expensivething #antimatter #antihydrozen #antiproton #antinutron contact email- kuldeepk8540@gmail.com twitter account :- goo.gl/6Hprcz Instagram account :- goo.gl/Xtd1NH Facebook page :- goo.gl/n28B6G Credit for image :- 1. goo.gl/E5Ti2e By Mathieu Michel Lobet [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/iigEYD)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/euv3Z3 By The original uploader was Davidhorman at English Wikipedia. (Transferred from en.wikipedia to Commons.) [GFDL (goo.gl/XHhbnK) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/aM74tS)], via Wikimedia Commons क्या क्या आपने कभी सोचा है इस दुनिया का सबसे महंगा पदार्थ क्या है ।क्या यह सोना चांदी हीरा पन्ना यह Platina में से कुछ है, या फिर कुछ और ही हैं । जानने के लिए आपको यह वीडियो अंत तक जरूर देखना है। आज आपको मैं इस वीडियो में यही बताऊंगा कि इस दुनिया का सबसे महंगा पदार्थ क्या ह। इस दुनिया का सबसे महंगा पदार्थ एक ऐसा पदार्थ है जो असल में पदार्थ है ही नहीं ,क्योंकि यह पदार्थ ,पदार्थ से बिल्कुल विपरीत गुण रखता है। इसीलिए इसे एंटीमैटर के नाम से जाना जाता है।आपको जानकर आश्चर्य होगा कि 1 ग्राम एंटीमैटर की कीमत 312500 अरब रुपए है ,या 3125000 करोड रुपए है ।1 मिलीग्राम antimatter बनाने की कॉस्ट ₹160 करोड तक आती है। यह कीमत इतनी ज्यादा है कि इतनी कीमत में 100 छोटे-छोटे देशों को भी खरीद सकते हैं । असल में एक प्रतिपदार्थ ,पदार्थ का ही रूप होता है ,लेकिन बिल्कुल उससे विपरीत। जैसे इलेक्ट्रॉन का प्रतिपदार्थ पोजिट्रॉन कहलाता ह। इलेक्ट्रॉन पर ऋण आवेश पाया जाता है तो पोजिट्रॉन पर धन आवेश पाया जाएगा।इसी तरह प्रोटोन का प्रतिपदार्थ एंटी प्रोटॉन कहलाता ह। प्रोटोन पर धनावेश पाया जाता है जबकि एंटी प्रोटोन पर ऋणावेश पाया जाएगा ।जब matter और antimatter एक दूसरे के संपर्क में आते हैं तो, ये एक दूसरे को नष्ट कर देते हैं ।यह पूरा ब्रह्मांड भी इन दो पदार्थों से मिलकर बना है। आज के इस वीडियो में हम इन्हीं सब बातों पर चर्चा करने वाले हैं , तो वीडियो को अंत तक जरूर देखना और अगर आपको यह वीडियो पसंद आए, तो इस वीडियो को लाइक जरूर करना। और अपने दिल की बातों को कमेंट में जरूर लिखना है। अगर आप हमारे नये मेहमान है तो हमारे चैनल को सब्सक्राइब करना बिल्कुल मत भूलना। Have you ever wondered what is the most expensive substance in this world. Is this gold silver diamond emerald, it is some of Platina, or something else. To know you must watch this video until the end. Today I will tell you in this video that what is the most expensive item in this world. The most expensive substance in this world is a substance that is not actually a substance, because this substance has the opposite nature of the substance. That is why it is known as antimatter. You will be surprised to know that the price of 1 g antimeter is 312500 billion rupees, or 3125000 crores rupees. Cost of making 1 mg antimatter comes to 160 crores. This price is so high that even 100 smaller countries can buy in such a price. Actually, a protoplasm is a form of substance, but exactly the opposite. Like the protons of an electron are called positron. If there is a debt charge on the electron, then the positive charge will be found on positron. Similarly, proton proton is called anti-proton. Dhanavas are found on the proton while anti-proton will be found on the loan. When matter and antimatter come in contact with each other, they destroy each other. This whole universe is also made up of these two substances. In today's video we are going to discuss all these things, so watch the video till the end and if you like this video, then this video must be liked. And to write the words of your heart, it must be written. If you are a new guest then do not forget to subscribe to our channel at all Music: www.purple-planet.com
रीयूजेबल रॉकेट कैसे काम करता है...How Reusable Rockets Work // home rocket //
रीयूजेबल रॉकेट कैसे काम करता है...How Reusable Rockets Work // home rocket //
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
my new channel- pa-zone.info/user/jjl02g5hE2TVpJY2kT9rtg.html हवाई जहाज कितना माइलेज देता है हवाई जहाज में कौन सा ईंधन यूज होता है - pa-zone.info/view/blFMeTZvWjc5VVE.html नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com This video is only for education purpose री यूजेबल रोकेट, एक ऐसा रॉकेट हेै ,जो अंतरिक्ष में सेटेलाइट को स्थापित कर कर वापस पृथ्वी पर आ जाता है। रियूजेबल रॉकेट में तीन पार्ट होते हैं। मेंन रॉकेट ,बूस्टर रॉकेट ,और सैटेलाइट ।सैटेलाइट को मेंन रॉकेट के ऊपर जोड़ा जाता है ।तथा बूस्टर रॉकेट को मेंन रॉकेट के साथ । जैसे ही रॉकेट अंतरिक्ष में जाता है बूस्टर रॉकेट मेंन रॉकेट से अलग हो जाते हैं ,और वापस पृथ्वी पर लैंड कर जाते हैं।उसी तरह जब मेंन रॉकेट सेटेलाइट से अलग होता है, तो वो भी वापस पृथ्वी पर लैंड कर जाता है। इस तरह रियूजेबल रॉकेट का संपूर्ण हिस्सा पृथ्वी पर वापस आ जाता ह। और उसे दोबारा से काम में लिया जा सकता है।आज की इस वीडियो में मैं यही बताऊंगा कि कैसे एक रियूजेबल रॉकेट काम करता ह।space x कंपनी ने falcon श्रेणी के falcon 9 जैसे रॉकेट और falcon heavy जैसे रॉकेट भी बना ली है। जिसमें मनुष्यों को भी अंतरिक्ष में ले जाया जा सकता है ।space science, space technology, space exploration technology ,rocket, home rocket से जुड़ी सभी जानकारी पाने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब कीजिए । Reusable rocket is a rocket which, after installing the satellite in space, returns to the Earth. There are three parts in a reusable rocket. Main Rocket, Booster Rocket, and Satellite. Satellite is added to the Main Rocket. And Booster Rocket with Main Rocket. As soon as the rocket goes into space, boosters are separated from the main rocket , and they land back to Earth. Similarly when Main rocket is separated from the satellite, then it also landed back to Earth. Thus the whole part of the reusable rocket comes back to Earth. And it can be used again. In today's video, I will tell you how a reusable rocket works. The space x company has also made a rocket such as falcon 9 of the falcon series and rocket like falcon heavy. In which humans can also be taken into space. Subscribe to our channel to get all information related to space science, space technology, space exploration technology, rocket, home rocket. The Copyright Laws of the United States recognizes a “fair use” of copyrighted content. Section 107 of the U.S. Copyright Act states: “Notwithstanding the provisions of sections 106 and 106A, the fair use of a copyrighted work, including such use by reproduction in copies or phonorecords or by any other means specified by that section, for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching (including multiple copies for classroom use), scholarship, or research, is not an infringement of copyright.” This video and our youtube channel, in general, may contain certain copyrighted works that were not specifically authorized to be used by the copyright holder(s), but which we believe in good faith are protected by federal law and the fair use doctrine for one or more of the reasons noted above. If you have any specific concerns about this video or our position on the fair use defense, please contact Me “kuldeepk8540@gmail.com" so we can discuss. Music: www.purple-planet.com
राकेट या स्पेसक्राफ्ट अंतरिक्ष से वापस पृथ्वी पर कैसे अाता है space science // home rocket //
राकेट या स्पेसक्राफ्ट अंतरिक्ष से वापस पृथ्वी पर कैसे अाता है space science // home rocket //
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #spacecraft #spaceship #spacecraftprocesses #howspacecraftwork #rocket #howrocketwork #spacescience contact email- kuldeepk8540@gmail.com Credit for image 1. goo.gl/JEbcSo By NASA [Public domain], via Wikimedia Commons 2. goo.gl/59WHTu By Steve Jurvetson [CC BY 2.0 (goo.gl/qywMWF)], via Wikimedia Commons आप सभी रॉकेट की कार्यप्रणाली से तो भली-भांति परिचित हैं । न्यूटन के गति के तीसरे नियम पर कार्य करते हुए यह क्रिया प्रतिक्रिया के सिद्धांत के आधार पर पृथ्वी से अंतरिक्ष में जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि कोई भी रॉकेट अंतरिक्ष से वापस पृथ्वी पर कैसे आता है। आज के इस वीडियो में मैं आपको यही बताऊंगा कि कोई भी राकेट या फिर स्पेस क्राफ्ट अंतरिक्ष से पृथ्वी पर वापस कैसे आता है ।असल में कोई भी रॉकेट अंतरिक्ष से पृथ्वी पर वापस नहीं आता, बल्कि स्पेसक्राफ्ट अंतरिक्ष से पृथ्वी पर वापस आते हैं । स्पेस क्राफ्ट उस यान का नाम है, जिसमें अंतरिक्ष यात्री बैठ कर अंतरिक्ष में जाते हैं । अौर वहां पर अपनी जरूरी रिसर्च और एक्सपेरिमेंट पूरे करते हैं । स्पेस क्राफ्ट को 2 सहायक बूस्टर रॉकेटों से और एक मेन इंजन रॉकेट के साथ जोड़ दिया जाता है । ये बूस्टर राकेट स्पेस क्राफ्ट को पृथ्वी की सतह से ऊपर उठाने में मदद करते हैं। उसके बाद मेन इंजन रॉकेट इसे अंतरिक्ष तक ले जाने में सहायता प्रदान करता है। उसके बाद स्पेसक्राफ्ट अंतरिक्ष में अपनी यात्रा तय करता है। इस वीडियो में हम यही जानेंगे कि स्पेसक्राफ्ट अंतरिक्ष यात्रा करने के बाद वापस पृथ्वी पर कैसे आता है ,अौर पृथ्वी पर लैंडिंग करता है। in this video we disscuss about space science. and space science facilitys. how space science work. You are well-familiar with the mechanism of all the rockets. While acting on the third law of Newton's motion, this verb goes from earth to space on the basis of the principle of reaction. But do you know how any rocket comes back from space to earth? In today's video, I will tell you how any rocket or spacecraft comes back from space to Earth. In fact, no rockets come back from earth to space, but Spacecraft comes back from space to Earth. Spacecraft is the name of the vehicle in which astronauts sit in space. And there they fulfill their required research and experiments. Spacecraft is combined with 2 assistant booster rockets and one main engine rocket. These boosters rocket space craft help lift the surface from the surface. After that the main engine rocket helps it to take it to space. After that, Spacecraft decides his journey into space. In this video we will know how Spacecraft comes back to earth after traveling in space, and lands on Earth. Music: www.purple-planet.com
हाइड्रोजन बंम कैसे बनाया जाता है। हाइड्रोजन बंम कितना विनाशकारी हो सकता है...// kuldeep singh yadav
हाइड्रोजन बंम कैसे बनाया जाता है। हाइड्रोजन बंम कितना विनाशकारी हो सकता है...// kuldeep singh yadav
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #hydrogen #nuclearfission #hydrogenatom Credit for images 1. goo.gl/hrDrjq By Someone (Someone) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/TWSkFS)], via Wikimedia Commons 2. goo.gl/udXXNw By MikeRun [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/mXXWNG)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/fmTpUr By derivative work: Uvainio (talk)Hydrogen_Deuterium_Tritium_Nuclei_Schmatic-ja.svg: Dirk Hünniger, translated by user:was a bee (Hydrogen_Deuterium_Tritium_Nuclei_Schmatic-ja.svg) [GFDL (goo.gl/tYfUH7) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/UrTiaC)], via Wikimedia Commons 4. goo.gl/YThFxW By OpenStax College [CC BY 3.0 (goo.gl/2DyFf7)], via Wikimedia Commons 5. goo.gl/enQ8Qp By User:Stannered (Traced from this PNG image.) [GFDL (goo.gl/BbuxXT), CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/f8imuf) or CC BY 2.5 (goo.gl/nSwEmA)], via Wikimedia Commons हाइड्रोजन बम एक ऐसा विनाशकारी हथियार है ,जो पलक झपकते ही मौत की विनाशलीला रच सकता है । आज के इस वीडियो में हम हाइड्रोजन बम के बारे में ही बात करने वाले हैं।इस वीडियो में ,मैं आपको बताने वाला हूं कि कैसे एक हाइड्रोजन बम काम करता है। हाइड्रोजन बम का निर्माण कैसे किया जाता है।हाइड्रोजन बम का बेसिक कांसेप्ट क्या ह। उसमें कौन कौन सा रो मटेरियल यूज़ किया जाता है।और क्यों एक हाइड्रोजन बम परमाणु बम से कई गुना ज्यादा खतरनाक होता है। आपके इन्हीं सब सवालों के जवाब आज मैं देने वाला हूं ।हाइड्रोजन बम का सबसे पहले परीक्षण 9 मई 1951 को अमेरिका के द्वारा किया गया थ। हाइड्रोजन बम का जनक मतलब father of hydrogen bomb अमेरिका के वैज्ञानिक एडवर्ड टेलर को कहा जाता है ।हाइड्रोजन बम का आज तक किसी भी देश पर या किसी भी स्थान पर प्रयोग नहीं किया गया है ,पर हाइड्रोजन बम परमाणु बम से 500 से 700 गुना अधिक विनाशकारी होता है। हाइड्रोजन बम में हाइड्रोजन बम के साथ-साथ परमाणु बम को भी इंस्टॉल किया जाता है ।क्योंकि हाइड्रोजन बम में नाभिकीय संलयन अभिक्रिया होती है अौर नाभिकीय संलयन अभिक्रिया प्रारंभ करने के लिए 1 करोड से 2 करोड डिग्री सेल्सियस तापमान की आवश्यकता होती है। इतना अधिक तापमान परमाणु बम के कारण ही हो सकता है। इसलिए हाइड्रोजन बम मे यूरेनियम परमाणु को भी रखा जाता है। जिससे नाभिकीय संलयन अभिक्रिया पूरी हो सके ।नाभिकीय संलयन अभिक्रिया का सबसे बड़ा उदाहरण सूर्य है ।सूर्य पर हर पल नाभिकीय संलयन अभिक्रिया हो रही है ।वहां हर पल कई लाखों हाइड्रोजन बम जैसे विस्फोट हो रहे हैं। इसी कारण सूर्य लगातार चल रहा है और हमें सूर्य की रोशनी प्राप्त होती ह। आज के वीडियो में मैं आपको इन्हीं सब बातों के बारे में बताऊंगा । जैसे हाइड्रोजन बम की बेसिक स्ट्रक्चर ,उसकी कार्य प्रणाली ,और उसकी क्षमता के बारे में। Hydrogen bomb is a destructive weapon that can destroy death as soon as it blows. In today's video we are going to talk about hydrogen bomb only. In this video, I am going to tell you how a hydrogen bomb works. How is hydrogen bomb produced? What is the basic concept of hydrogen bomb? Which rotor material is used in it. And why a hydrogen bomb is many times more dangerous than atomic bombs. Today I will give you answers to all your questions. Hydrogen bomb was first tested on May 9, 1951 by the US. The father of hydrogen bomb means father of hydrogen bomb American scientist Edward Taylor. Hydrogen bombs have not been used on any country or at any place till date, but hydrogen bombs are 500 to 700 times higher than atom bombs Is destructive. Hydrogen bombs are installed in addition to hydrogen bombs, as well as atomic bombs. Because hydrogen bombs have nuclear fusion reaction and for the beginning of nuclear fusion reaction, a temperature of 1cm to 2 crores is required. Such a high temperature can be due to the atomic bomb. Therefore uranium atoms are also kept in hydrogen bombs. By which the nuclear fusion reaction can be completed. The biggest example of nuclear fusion reaction is the Sun. The nuclear fusion reaction is taking place every moment on the Sun. There are several millions of hydrogen bomb explosions like every other time. That is why the sun is constantly running and we get the sunlight. In today's video I will tell you about all these things. Like the basic structure of hydrogen bomb, its functioning system, and its capacity. Music: www.purple-planet.com
हिरोशिमा अौर नागासाकी परमाणु बंम हमले के रहस्यमयी तथ्य।। रूस कर सकता है 30 बार दुनिया को नष्ट 🔥🔥
हिरोशिमा अौर नागासाकी परमाणु बंम हमले के रहस्यमयी तथ्य।। रूस कर सकता है 30 बार दुनिया को नष्ट 🔥🔥
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
परमाणु बंम कैसे बनाया जाता है- pa-zone.info/view/TWE4eDlkN0Vla1E.html नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #Hiroshima #Nagasaki #secondworldwaratomatteck #atom contact email- kuldeepk8540@gmail.com हिरोशिमा अौर नागासाकी परमाणु बंम हमले के रहस्यमयी तथ्य।। रूस कर सकता है 30 बार दुनिया को नष्ट 🔥🔥 credit for image 1. goo.gl/nXLCM7 By Rogerd [GFDL (goo.gl/tUYf4H), CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/c37g3p) or CC BY-SA 2.5 (goo.gl/RDJTwL)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/CF9ktn By Clemens Vasters from Viersen, Germany, Germany (Boeing B-29 Superfortress "Bockscar") [CC BY 2.0 (goo.gl/8Kn53e)], via Wikimedia Commons 3. goo.gl/eVHQyr By Wikifan75 [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/mFjwpG)], from Wikimedia Commons परमाणु हथियार एक ऐसा विनाशकारी हथियार है जिससे पलक झपकाने जितने समय में तो करोड़ों लोगों की जान चली जाती है। परमाणु बम के द्वारा भयंकर विनाश लीला रची जा सकती है।लेकिन क्या आप जानते हैं कि परमाणु बम का निर्माण कैसे किया जाता है।आखिर इतने विनाशकारी बम को बनाने के लिए क्या उपयोग होता होगा ।किस तरह से एक परमाणु बम को तैयार किया जाता ह। आज दुनिया के विकसित देशों के पास परमाणु बंब की ज्यादातर मात्रा है। रूस और अमेरिका के पास पूरी दुनिया के कुल परमाणु हथियारों के लगभग 92 प्रतिशत परमाणु हथियार मौजूद है ।एक अनुमान के मुताबिक पूरी दुनिया में आज 9 देशों के पास 14465 परमाणु हथियार मौजूद हैं।इसमें से कुल 3750 को हमले के लिए तैयार कर कर रखा गया ह। पिछली साल सन 2017 में परमाणु हथियार 14935 थे ।अर्थात 1 साल में 470 परमाणु हथियार कम हुए हैं ।470 परमाणु हथियारों को नष्ट कर दिया गया है।लेकिन अभी भी ऐसा लगता है कि परमाणु बंब को खत्म करने की प्रोसेस बहुत ही धीरे चल रही हैं।परमाणु हथियार की एक बड़ी संख्या अभी भी दुनिया में मौजूद है जो दुनिया को खत्म करने के लिए पर्याप्त है ।भारत और पाकिस्तान के पास भी परमाणु हथियारों की पर्याप्त भंडार हैं। इन दोनों देशों के बीच हमेशा तनाव बना रहता है जिससे परमाणु युद्ध होने की आशंका भी लगी रहती है। आज की इस वीडियो में आपको मैं यह बताने वाला हूं कि कैसे एक परमाणु हथियार का कांसेप्ट काम करता ह। परमाणु बंब बनाने के लिए यूरेनियम या प्लूटोनियम के समस्थानिकों का उपयोग किया जाता ह। यूरेनियम एक रेडियोएक्टिव पदार्थ है।यूरेनियम पर न्यूट्रॉन सक्रिय पदार्थ से न्युट्रानो की बौछार करवाई जाती है । जिससे यूरेनियम परमाणु विखंडित होकर दो छोटे परमाणु में टूट जाता है और एक भारी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न करता है। इसी ऊर्जा का उपयोग कर कर परमाणु बम की विनाशकारी बनाया जाता है।जैसे ही यूरेनियम परमाणु अन्य परमाणु में विखंडित होता है और ऊर्जा मुक्त होती है परमाणु बंब विस्फोट के साथ फट जाता है ,और चारों तरफ तबाही का मंजर फैल जाता है ।चारों तरफ सिर्फ आग ही आग होती है।आज की इस वीडियो में मैं आपको यही बताने वाला हूं कि कैसे एक परमाणु बम का निर्माण किया जाता है।निर्माण करने की सीमाएं क्या ह। क्या हर देश परमाणु बम का निर्माण कर सकता है। निर्माण के लिए कुछ विशेष कांसेप्ट होता है ,कुछ विशेष सीमाएं होती हैं ।क्या यूरेनियम के अलावा भी किसी पदार्थ से परमाणु बम का निर्माण किया जा सकता है। परमाणु बम से भी घातक कोई अन्य हथियार है या नहीं ।आपके इन्हीं सभी सवालों के जवाब आज की इस वीडियो में मैं देने वाला हूं ।आपके अपने चैनल रहस्य टीवी पर मैंने वेपंस नाम से एक प्लेलिस्ट बनाई है जिसमें हथियारों से संबंधित ज्ञान वर्धक वीडियोस अपलोड करूंगा । नागासाकी और हिरोशिमा पर अमेरिका ने परमाणु बम का उपयोग पहली बार किया था ,जिसमें लगभग तीन लाख के करीब लोग मृत्यु के मुख में समा गए थे। वह विनाशलीला इतनी भयंकर थी कि आज भी वहां पैदा होने वाले बच्चों में उसका कुप्रभाव स्पष्ट तहत देखा जा सकता है ।आने वाली वीडियो में मैं आपको बताऊंगा कि हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराए गए परमाणु बम की क्या क्या विशेषताएं थी।उनका वजन कितना था।उनकी लंबाई कितनी थी, कितने लोगों की मृत्यु हुई ,और उनमें क्या कांसेप्ट यूज़ किया गया था। Nuclear Weapons is a destructive weapon that loses billions of lives in the moment of blinking. Fierce destruction can be created by a nuclear bomb.But do you know how to build a nuclear bomb? What would be used to create such a devastating bomb? How would an atom bomb be prepared? Yes Today, the developed countries of the world have a large amount of atomic bombs. Russia and the United States possess approximately 92 percent of the total nuclear weapons of the entire world. According to one estimate, there are 14465 nuclear weapons present in 9 countries around the world today. Of this total 3750 prepared .Has gone Last year, there were 14935 nuclear weapons in 2017. In the last one year 470 nuclear weapons have been reduced .470 nuclear weapons have been destroyed. Music: www.purple-planet.com
परमाणु बंम कैसे बनाया जाता है। कितना विनाशकारी हो सकता है एक परमाणु बंम.how much dangerous can it
परमाणु बंम कैसे बनाया जाता है। कितना विनाशकारी हो सकता है एक परमाणु बंम.how much dangerous can it
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #parmanu #atom #Hiroshimaatomattack contact email- kuldeepk8540@gmail.com credit for image 1. goo.gl/ifuHsg By MikeRun [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/WtEKZr)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/Tu276Q By MikeRun [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/Af7Xbf)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/hbnsAV By Stefan-Xp [GFDL (goo.gl/KraC6M) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/umnkCD)], from Wikimedia Commons 4. goo.gl/StpwcV By Vector version by Dake with English labels by Papa Lima Whiskey, lines modified by Mfield [GFDL (goo.gl/w8AYhH) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/p2GGoz)], via Wikimedia Commons 5. goo.gl/2EVqn9 By Redrawn by User:AusisOriginal png format drawing by User:Fastfission (Original png format drawing) [CC BY-SA 2.5 (goo.gl/o19ffw)], via Wikimedia Commons 6. Author: Pumbaa (original work by Greg Robson) goo.gl/y1xVLE परमाणु हथियार एक ऐसा विनाशकारी हथियार है जिससे पलक झपकाने जितने समय में तो करोड़ों लोगों की जान चली जाती है। परमाणु बम के द्वारा भयंकर विनाश लीला रची जा सकती है।लेकिन क्या आप जानते हैं कि परमाणु बम का निर्माण कैसे किया जाता है।आखिर इतने विनाशकारी बम को बनाने के लिए क्या उपयोग होता होगा ।किस तरह से एक परमाणु बम को तैयार किया जाता ह। आज दुनिया के विकसित देशों के पास परमाणु बंब की ज्यादातर मात्रा है। रूस और अमेरिका के पास पूरी दुनिया के कुल परमाणु हथियारों के लगभग 92 प्रतिशत परमाणु हथियार मौजूद है ।एक अनुमान के मुताबिक पूरी दुनिया में आज 9 देशों के पास 14465 परमाणु हथियार मौजूद हैं।इसमें से कुल 3750 को हमले के लिए तैयार कर कर रखा गया ह। पिछली साल सन 2017 में परमाणु हथियार 14935 थे ।अर्थात 1 साल में 470 परमाणु हथियार कम हुए हैं ।470 परमाणु हथियारों को नष्ट कर दिया गया है।लेकिन अभी भी ऐसा लगता है कि परमाणु बंब को खत्म करने की प्रोसेस बहुत ही धीरे चल रही हैं।परमाणु हथियार की एक बड़ी संख्या अभी भी दुनिया में मौजूद है जो दुनिया को खत्म करने के लिए पर्याप्त है ।भारत और पाकिस्तान के पास भी परमाणु हथियारों की पर्याप्त भंडार हैं। इन दोनों देशों के बीच हमेशा तनाव बना रहता है जिससे परमाणु युद्ध होने की आशंका भी लगी रहती है। आज की इस वीडियो में आपको मैं यह बताने वाला हूं कि कैसे एक परमाणु हथियार का कांसेप्ट काम करता ह। परमाणु बंब बनाने के लिए यूरेनियम या प्लूटोनियम के समस्थानिकों का उपयोग किया जाता ह। यूरेनियम एक रेडियोएक्टिव पदार्थ है।यूरेनियम पर न्यूट्रॉन सक्रिय पदार्थ से न्युट्रानो की बौछार करवाई जाती है । जिससे यूरेनियम परमाणु विखंडित होकर दो छोटे परमाणु में टूट जाता है और एक भारी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न करता है। इसी ऊर्जा का उपयोग कर कर परमाणु बम की विनाशकारी बनाया जाता है।जैसे ही यूरेनियम परमाणु अन्य परमाणु में विखंडित होता है और ऊर्जा मुक्त होती है परमाणु बंब विस्फोट के साथ फट जाता है ,और चारों तरफ तबाही का मंजर फैल जाता है ।चारों तरफ सिर्फ आग ही आग होती है।आज की इस वीडियो में मैं आपको यही बताने वाला हूं कि कैसे एक परमाणु बम का निर्माण किया जाता है।निर्माण करने की सीमाएं क्या ह। क्या हर देश परमाणु बम का निर्माण कर सकता है। निर्माण के लिए कुछ विशेष कांसेप्ट होता है ,कुछ विशेष सीमाएं होती हैं ।क्या यूरेनियम के अलावा भी किसी पदार्थ से परमाणु बम का निर्माण किया जा सकता है। परमाणु बम से भी घातक कोई अन्य हथियार है या नहीं ।आपके इन्हीं सभी सवालों के जवाब आज की इस वीडियो में मैं देने वाला हूं ।आपके अपने चैनल रहस्य टीवी पर मैंने वेपंस नाम से एक प्लेलिस्ट बनाई है जिसमें हथियारों से संबंधित ज्ञान वर्धक वीडियोस अपलोड करूंगा । नागासाकी और हिरोशिमा पर अमेरिका ने परमाणु बम का उपयोग पहली बार किया था ,जिसमें लगभग तीन लाख के करीब लोग मृत्यु के मुख में समा गए थे। वह विनाशलीला इतनी भयंकर थी कि आज भी वहां पैदा होने वाले बच्चों में उसका कुप्रभाव स्पष्ट तहत देखा जा सकता है ।आने वाली वीडियो में मैं आपको बताऊंगा कि हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराए गए परमाणु बम की क्या क्या विशेषताएं थी।उनका वजन कितना था।उनकी लंबाई कितनी थी, कितने लोगों की मृत्यु हुई ,और उनमें क्या कांसेप्ट यूज़ किया गया था। Nuclear Weapons is a destructive weapon that loses billions of lives in the moment of blinking. Fierce destruction can be created by a nuclear bomb.But do you know how to build a nuclear bomb? What would be used to create such a devastating bomb? How would an atom bomb be prepared? Yes Today, the developed countries of the world have a large amount of atomic bombs. Russia and the United States possess approximately 92 percent of the total nuclear weapons of the entire world. According to one estimate, there are 14465 nuclear weapons present in 9 countries around the world today. Of this total 3750 prepared. Music: www.purple-planet.com
उडन गिलहरी कैसे उडती है। भारत मे पायी जाती है उडन गिलहरी की सबसे बडी प्रजाती..flying squirrel
उडन गिलहरी कैसे उडती है। भारत मे पायी जाती है उडन गिलहरी की सबसे बडी प्रजाती..flying squirrel
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव(kuldeep singh yadav) इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #udanghilhary #flyingsquirrel #squirrel #howsquirrelfly credit for image 1. goo.gl/o6pPoV 2. goo.gl/NbxxCX 3. goo.gl/7S85dg 4. goo.gl/fwFq9p 5. goo.gl/SbiYAy 6. goo.gl/R4XuVy Angie spuc at the English Wikipedia [GFDL (goo.gl/qMmF6G) or CC-BY-SA-3.0 (goo.gl/Gko6UP)], via Wikimedia Commons 7. goo.gl/wca8Rj 8. goo.gl/hXQCuG By Takashi Hososhima from Tokyo, Japan (Japanese dwarf flying squirrel) [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/fD8BWR)], via Wikimedia Commons आज के इस वीडियो में मैं आपको यह बताने वाला हूं कि उड़न गिलहरी क्या होती है उड़न गिलहरी गिलहरियों की ही एक प्रजाति होती है जो कि हवा में उड़ सकती है असल में उड़न गिलहरी हवा में उड़ती नहीं बल्कि ग्लाइड करती है इसके आगे के दो पैर पीछे के दो पैरों से इस तरह से एक खाल की पतली परत के द्वारा जुड़े हुए होते हैं कि जब यह हवा में छलांग मारती है तो पैराशूट की भांति अपने शरीर को पहला लेती है जिसकी वजह से यह हवा में ग्लाइड कर पाती है यह उड़न गिलहरियां बहुत सारे देशों में पाई जाती हैं भारत देश में भी उड़न गिलहरी की विभिन्न प्रजातियां पाई जाती है कश्मीर में कश्मीरी उड़न गिलहरी और राजस्थान के सीतामाता वन्य जीव अभ्यारण में भी उड़न गिलहरी की कई प्रजातियां पाई जाती हैं तो आज के इस वीडियो में आपके में इन्हीं सवालों के जवाब देने वाला हूं कि उड़न गिलहरी कैसे उड़ती है उड़न गिलहरी की क्या क्या विशेषताएं होती है उड़न गिलहरी की कौन-कौन सी प्रजातियां पाई जाती है इसके अलावा उनके बच्चों से रिलेटेड जानकारियां इनका शिकार किया जाता है उस से रिलेटेड भी सभी जानकारियां उड़न गिलहरी को इंग्लिश मे फ्लाइंग squirrel कहा जाता है In today's video, I am going to tell you what is flying squirrel. Flying squirrel is a species of squirrels that can fly in the air. Actually flying squirrels do not fly in the air but glide. The two legs in front of it are attached by the two feet of the rear from the thin layer of a skull in such a way that when it jumps into the air, it spreads its body like a parachute, due to which it glide in the air. Finds it These flying squirrels are found in many countries. Various species of flying squirrels are also found in India. Kashmiri flying squirrels in Kashmir and Sitmatata Wildlife Sanctuary in Rajasthan are also found in many species of flying squirrels. So in today's video I am going to answer your questions about how flying squirrel flies, what does flying squirrel do? There are features, what species of flying squirrels are found, apart from their related information from children, they are hunted. And related all the details. Flying squirrel is called Flying squirrel in English. Music: www.purple-planet.com
सांपो से जुडी 60 रहस्यमयी जानकारीया।। जाने सांपो के बारे मे सब कुछ all knowledge about snake
सांपो से जुडी 60 रहस्यमयी जानकारीया।। जाने सांपो के बारे मे सब कुछ all knowledge about snake
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #snacks #informationaboutsnakes #factsaboutsnakes #mysteriousthingsaboutsnakes #mysteriousfactsaboutsnake #kuldeepsinghyadav #rhsyatv credit for image:- 1. goo.gl/Cyn7Ee By Arupananda Rao [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/oToqaM)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/RSFGQ3 By Tony Alter from Newport News, USA (Giving It His Best) [CC BY 2.0 (goo.gl/mG7ii1)], via Wikimedia Commons 3. goo.gl/p7saru By Virginia State Parks staff [CC BY 2.0 (goo.gl/teBmJB)], via Wikimedia Commons 4. goo.gl/Mq7dwD By John Oldale [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/udfKJx)], from Wikimedia Commons 5. goo.gl/uWJ6vs By born1945 from Hillsboro, Oregon, USA (California Mountain King Snake Shedding Its Skin) [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/Mj2fAs)], via Wikimedia Commons 6. goo.gl/nBQV9u By Nick Baker (Nick Baker Private Collection) [CC BY-SA 3.0 (goo.gl/JXpbDS)], via Wikimedia Commons 7. goo.gl/qGjvUX By Oregon State University [CC BY-SA 2.0 (goo.gl/WFUe69)], via Wikimedia Commons सांप का नाम सुनते ही लोग ऐसे डर के मारे कांपने लगते हैं जैसे पता नहीं कौन सी भयानक चीज़ देख ली हो लेकिन आज इस वीडियो में मैं आपको सांप से रिलेटेड सभी जानकारियां दूंगा आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि दुनिया में पाए जाने वाले सभी सांप जहरीले नहीं होते सांप की मात्र कुछ प्रजातियां ही जहरीली होती है बाकी सभी से कोई खतरा नहीं होता लोगों में यह भ्रम होता है कि सांपों की जो सभी प्रजातियां हैं वह जहरीली होती है और उनके काटने पर मृत्यु हो जाती है लेकिन यह सच नहीं है पूरी दुनिया में सांप की मात्र 700 से 800 प्रजातियां ही ऐसी पाई जाती है जो जहरीली है आज के इस वीडियो में मैं आपको यही बताने वाला हूं कि कौन सा सांप किस प्रजाति से बिलॉन्ग करता है दुनिया में सांपों की कुल कितनी प्रजातियां पाई जाती हैं उन प्रजातियों में से कौन कौन सी प्रजाति जहरीली है इसके अलावा सांप की कौन-कौन सी प्रजातियां ज्यादा खतरनाक है दुनिया का सबसे खतरनाक सांप कौन सा है दुनिया का सबसे जहरीला सांप कौन सा है दुनिया का सबसे तेज चलने वाला सांप कौन सा है दुनिया का सबसे छोटा सांप दुनिया का सबसे बड़ा सांप दुनिया का सबसे भयानक सांप अभी तक ज्ञात सभी प्रजातियों की संख्या पूरे विश्व में सांपों के काटने के कारण मरने वाले लोगों की संख्या भारत में सांप को काटने की वजह से मरने वाले लोगों की संख्या सांप कैसे काटता है क्या सांप दांत से काटता है या फिर जीभ से सांप में जहर कहां होता है सांप के काटने की वजह से इंसान की मृत्यु कितनी देर में होती है इस वीडियो में आपको कोबरा सांप से संबंधित जानकारियां भी मिलेंगे तो तो ऐसे सांपों से संबंधित जानकारी मिलेंगे जिन्हें आज तक आप जानते ही नहीं हैं बहुत से लोगों में यह कंफ्यूजन होता है कि सांप सिर्फ और सिर्फ अंडे ही देते हैं लेकिन आपको बता दो कि सांपों की प्रजातियां ऐसी है जो अंडे देते हैं और कुछ प्रजातियां ऐसी पाई जाती है जो बच्चे देते हैं सांपो के बारे में ऐसी कुछ रोचक और रहस्यमई जानकारियां आपको इस वीडियो में मिलने वाली है तो इस वीडियो को अंत तक जरूर देखना और अगर आपको यह वीडियो पसंद आए तो इसे लाइक और शेयर करना बिल्कुल मत बोलना और अगर आप हमारे नए मेहमान है तो हमारे चैनल को सब्सक्राइब जरूर करना On hearing the name of a snake, people start to tremble with such fear, as if they do not know what terrible thing they have seen. But today in this video I will give you all the information related to snake. You will be surprised to know that all the snakes found in the world are not poisonous. Only a few species of snakes are toxic, others do not have any danger. It is the illusion among people that all the species of snakes are poisonous, and their bites die. But it is not true that only 700 to 800 species of snakes are found in the whole world which are poisonous. In this video of today, I am going to tell you which species of snakes are billed by which species, how many species of snakes are found in the world, which of these species is poisonous, besides which of the snakes? Which species are more dangerous, Which is the world's most dangerous snake, Which is the world's poisonous snake, Which is the world's fastest snake, What is the world? The smallest snake, the world's largest snake, the most terrible snake in the world, the number of all the species so far known, the number of people who died due to snakes in the whole world, due to the snake cutting in India, How does the snake bite, whether the snake bites with the teeth or with the tongue, where the poison is in the snake Music: www.purple-planet.com
रामसेतु के रहस्य से उठा पर्दा।। वैज्ञानिको ने किया रामसेतु के अस्तित्व पर बडा खुलासा🔥🔥
रामसेतु के रहस्य से उठा पर्दा।। वैज्ञानिको ने किया रामसेतु के अस्तित्व पर बडा खुलासा🔥🔥
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #raamsetu #ramsetu #adambridge credit for image 1. goo.gl/Bxcbb7 By THK, via Wikimedia Commons जब भगवान श्री राम माता सीता को खोजने के लिए लंका की तरफ प्रस्थान कर रहे थे तो बीच में विशालकाय समुंदर आ गया ।श्री राम के सामने यह समस्या थी कि इतने बड़े विशालकाय समुंद्र को कैसे पार किया जाए।तब उन्होंने समुंद्र देवता की आराधना की।लेकिन 3- 4 दिन आराधना करने के बाद भी समुद्र देवता ने उन्हें जाने के लिए रास्ता नहीं दिया। इस कारण श्रीराम ने क्रोधित होकर समुंद्र को सुखाने के लिए अपने तीर कमान से तीर निकाल लिया।सूखने के डर से समुद्र देवता प्रकट हुए।और श्रीराम को कहा कि आपकी वानर सेना में दो वानर नल और नील ऐसे हैं ,जो अगर आप का नाम पत्थर पर लिख कर समुंदर में फेकेंगे तो वह पत्थर समुंदर में तैरने लग जाएंगे ।तब नल और नील ने अपने हाथों से भारत और श्रीलंका के बीच एक पुल बनाया, जिसे रामसेतु के नाम से जाना जाता है। यह पुल आज भी वही स्थित है।लेकिन तब से लेकर आज तक समुंद्र का जल स्तर 3 से 4 मीटर ऊपर उठ चुका ह। इस कारण यह पुल 3 से 4 मीटर नीचे दब गया है।मनमोहन सरकार के समय में इस पुल को तोड़ने के लिए भी एक योजना लाई गई थी ।क्योंकि यह पुल जहाजों के आवागमन में परेशानी पैदा कर रहा था। मनमोहन सरकार के टाइम में इस पुल को थोड़ा-तोडा गया था ।इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगी थी और उस परियोजना की बहुत ज्यादा नींदा हुयी थी। जिसकी वजह से सरकार को अपना फैसला वापस लेना पड़ा।नासा ने भी भारत और श्रीलंका के बीच अपने सैटेलाइट से एक अजीब सी चीज की तस्वीर ली थी ।तो क्या अंतरिक्ष से सेटेलाइट के द्वारा नासा ने जो तस्वीरें ली थी वह रामसेतु ही थ। क्या अंतरिक्ष से भारत और श्रीलंका के बीच दिखाई देने वाली एक पतली रेखा रामसेतू ही है। क्या भगवान राम ने इसे अपने हाथों से बनाया था या यह प्रकृति की कोई अनोखी रचना है। इन्हीं सब बातो की पडताल आज हम इस वीडियो में करने वाले है ।।इस वीडियो में हम पूरे तथ्यों और साइंटिफिक रीजन के साथ ही यह जांच करेंगे कि रामसेतु भगवान राम ने बनाया है या फिर यह प्रकृति की कोई रचना है। इस वीडियो में आपको अमेरिका की संस्था की रिर्सच तथा साथ ही विभिन्न वैज्ञानिकों ,इतिहास वादियों सभी के तर्कों के आधार पर यह बताया जाएगा, कि रामसेतु भगवान राम के द्वारा निर्मित है या फिर प्रकृति के द्वारा। भारतीय इतिहास वादियों के द्वारा भी राम सेतु पर अनेक प्रयोग किए गए जिनके आधार पर निकले हुए निष्कर्षों को भी इस वीडियो में शामिल किया जा रहा है ।और सभी निष्कर्ष और तथ्यों के आधार पर इस वीडियो में यह बताया जाएगा कि, रामसेतु की वास्तविकता क्या है। When Lord Shri Ram was departing towards Lanka to find Sita, then a huge seashore came in between. This problem was in front of Shri Ram, how to overcome such a huge giant sea. Then he worshiped the sea god. But even after worshiping for 3-4 days, the sea god did not give them the way to go. For this reason, Shriram got angry and took his arrow from the arrows to dry the sea. Fear of the ocean was revealed. Writing on the stone and throwing it into the sea, the stones will float in the sea. Then Tap and Neel made a bridge between India and Sri Lanka with their hands, which is known as Ramsetu. This bridge is still located at the same place. But from then on till date the water level of the sea has risen above 3 to 4 meters. For this reason, this bridge has been submerged from 3 to 4 meters below. A scheme was also launched to break this bridge in the time of the Manmohan Singh government.Because this bridge was causing trouble in the movement of ships. This bridge was broken in time in the Manmohan Singh government. The petition was filed in the Supreme court and the project was very much sleepy. Because of that, the government had to withdraw its decision. Nasa also took a picture of a strange thing between India and Sri Lanka from its satellite. So, what NASA took from the space through the satellite was the Ram Saitu itself. Is there a thin line between space and space between India and Sri Lanka that is Ramsetu itself? Has Lord Ram made it with his own hands or is it a unique creation of nature. We are going to do this in this video today. In this video, we will check with all the facts and the scientific realm that Ram Sethu Lord Ram has created or it is a creation of nature. In this video, you will be told on the basis of the rehearsal of the institution of America, as well as the arguments of various scientists and historians, that Ram Sethu is created by Lord Ram or by nature, Through the history of Indian history, many experiments have been done on Ram Setu, Music: www.purple-planet.com
समुद्र मंथन क्यो किया गया था।।क्यो महादेव ने हलाहल विष का पान कीया all facts about samundra manthan
समुद्र मंथन क्यो किया गया था।।क्यो महादेव ने हलाहल विष का पान कीया all facts about samundra manthan
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #smundramanthan #seachaurn #mhadev #mhadevvishpaan #smundramnthankesehua #mhadevnevishkyopiya #mhadevvishpaan credit for image- 1. goo.gl/xRjRBr By Salu1001 [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/q2LyDy)], from Wikimedia Commons 2. goo.gl/Epkekq By Srikar Kashyap [CC BY-SA 4.0 (goo.gl/cVyW1k)], from Wikimedia Commons 3. goo.gl/b768fh 4 goo.gl/cp27U1 समुंद्र मंथन हिंदू धर्म ग्रंथ की सबसे बड़ी घटना है एक बार ऋषि दुर्वासा देवताओं के राजा इंद्र से मिलने स्वर्ग लोक गए थे पर वहां पर देवताओं के राजा इंद्र ने ऋषि दुर्वासा का सम्मान नहीं किया और उनके अपमानित करने का प्रयास किया अपने आप को अपमानित होता देख ऋषि दुर्वासा क्रोध में आ गए और उन्होंने क्रोध में आकर इंद्र को श्राप दे दिया कि तू लक्ष्मी विहीन हो जाएगा और यह सारा संसार लक्ष्मी विहीन हो जाएगा जिसके कारण सारे संसार से लक्ष्मी विलुप्त हो गई थी सारा संसार श्रीहीन हो गया जिसके कारण चारों तरफ केवल दरिद्रता ही बच गई थी इस स्थिति को दूर करने के लिए देवताओं ने महादेव श्री कृष्ण और ब्रह्मा जी से प्रार्थना की कि कोई उपाय सुझाए जाए तब उन्होंने समुंद्र मंथन का उपाय सुझाया था तो समुद्र मंथन कैसे किया गया उसमें क्या क्या उपयोग किया गया था समुंद्र मंथन कौन से समुद्र में किया गया तथा कौन से पर्वत का उपयोग किया गया था समुद्र को मथने के लिए किस नाग का उपयोग किया गया था इस से रिलेटेड सभी जानकारियां आज मैं इस वीडियो में देने वाला हूं और साथ ही समुंद्र मंथन करने पर कौन कौन से रत्न निकले थे ऐसा कहा जाता है कि समुंद्र मंथन करने पर 14 रत्न निकले थे उन्हें सभी 14 रत्नों की जानकारी आज मै इस वीडियो में देने वाला हूं इसके अलावा कैसे महादेव ने हलाहल विष का विषपान किया था समुद्र से निकलने वाले हलाहल विष को तो सभी देवताओं और राक्षसों ने पीने से मना कर दिया उसको स्वीकार करने से मना कर दिया तब महादेव आगे आए थे और हलाहल विष का पान किया तो कैसे महादेव ने हलाहल विष का पान किया और कैसे वो नीलकंठ कहलाए कैसे समुंदर से अमृत का उद्भव हुआ साथ ही कैसे विष्णु भगवान ने मोहिनी का अवतार धारण कर देवताओं को अमृत पान करवाया तथा असुरों को अमृत से विमुख किया इसी बीच राहु-केतु का निर्माण कैसे हुआ इसकी जानकारी आज इस वीडियो में मैं आपको देने वाला हुं तो वीडियो को अंत तक जरूर देखना अौर पसंद आए तो लाइक जरूर करना Samundran Manthan is the biggest event of Hindu religion. Once Lord Rishi of the Goddess Durvas had gone to heaven to meet Indra, but Lord Indra, the Gods of the gods, did not respect Rishi Durvasa and tried to humiliate him. Seeing himself humiliated, Rishi Durvas came in anger and he cursed Indra by getting angry, that you will be lost in Lakshmi and this whole world will disappear without Lakshmi, due to which Lakshmi had disappeared from all over the world. Sara Sansar Shrihin Ho Gaya Due to which only poverty would have survived all around. In order to overcome this situation, the gods prayed to Mahadev Sri Krishna and Brahma Ji that some remedy was suggested, then he suggested the remedy for Samanthan churning. So how was the sea churning done, what was used in it, the sea monastery which was done in the sea and which mountain was used? Which nag was used to churn the ocean? I will give all the information related to this in this video today, as well as which of the gems that came out of the moon churning. It is said that 14 gems came out when they were churning the sea. In addition to these 14 gems, I am going to give information about this in this video. Besides how Mahadev had poisoned the poison of light. All the gods and demons refused to drink the light poison from the sea and refused to accept it. Then Mahadev came forward and made halalhal poison, how did Mahadev drink halahal poison and how he called Nilkantha. How was the emergence of nectar from the sea, how did Lord Vishnu take the embodiment of Mohini and make the deities to the Gods and dissociate the asuras from the nectar? In this video, I am giving you the information about how Rahu-Ketu was created. If you really love watching the end of the video Music: www.purple-planet.com
समय यात्रा।। 2012 मे मिले हिग्स सिंग्लेट कण से अब की जा सकती है समय यात्रा 5 Dimension मे जाना संभव
समय यात्रा।। 2012 मे मिले हिग्स सिंग्लेट कण से अब की जा सकती है समय यात्रा 5 Dimension मे जाना संभव
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
समय यात्रा part 1- pa-zone.info/view/eVI2c1NSQ2dOUjg.html नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #timetravel #timetraveltruth #timetravelpossible #timetravelproof #howtimetravelpossible #timetravelstory #smyayatra #timetraveling #kuldeepsinghyadav #rhsyatv समय यात्रा। समय यात्रा को लेकर विभिन्न वैज्ञानिकों के विभिन्न मत है कोई कहता है कि समय यात्रा संभव है कोई वैज्ञानिक यह कहता है कि समय यात्रा संभव नहीं है समय यात्रा एक ऐसी यात्रा है जिससे समय में आगे या पीछे जाया जा सकता है अर्थात भूत काल और भविष्य काल में जाना ही समययात्रा कहलाता है समय यात्रा को लेकर बहुत से वैज्ञानिकों ने विभिन्न विभिन्न सिद्धांत दिए मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने भी माना था कि समय यात्रा संभव है लेकिन उन्होंने इतना कहा था कि समय में आगे जाना संभव है लेकिन समय में पीछे जाना संभव नहीं है मतलब आप भविष्य काल में तो जा सकते हो लेकिन भूतकाल में जाना संभव नहीं हो पाएगा समय यात्रा का असली कांसेप्ट यह है कि अगर हम प्रकाश की गति जितनी तेज गति से ट्रैवल कर सकें तो हम समय में आगे या पीछे जा सकते हैं इस चीज को लेकर बहुत सी घटनाएं सामने आई है ऐसी बहुत सी सच्ची घटनाएं है जो यह दावा करती है कि समय यात्रा संभव है बहुत से समय यात्रियों का आज तक पता चला है जिन्होंने समय यात्रा की है इस वीडियो में मैं आपको वही बताने वाला हूं कि किन-किन समय यात्रियों ने समय यात्रा की है और अपने अनुभव को दुनिया के साथ शेयर किया है इस वीडियो में मैं आपको समय यात्रा के पूरे प्रूफ दूंगा समय यात्रा की पूरी सच्ची घटनाओं की तह तक जाएंगे उनकी पूरी पड़ताल की जाएगी समय यात्रा की ऐसी सभी घटनाओं से आपको अवगत कराया जाएगा समय यात्रा संभव है या नहीं वह तो आपको इस वीडियो को देखने के बाद पता लग ही जाएगा लेकिन आज तो बहुत से समय यात्री ऐसे हैं जिन्होंने समय यात्रा की है और उन सभी का विवरण आज मैं इस वीडियो में आपको देने वाला हूं तो वीडियो को अंत तक जरूर देखना Time travel Different scientists have different opinions about time travel. Someone says that time travel is possible, a scientist says that time travel is not possible. Time travel is such a journey that can be moved forward or backward in time, that is to say in the past tense and future period is called time period. Many scientists gave various different theories about time travel. Famous scientist Stephen Hawking also believed that time travel was possible but he had said so much that it is possible to go ahead in time but it is not possible to go back in time. Meaning you can go in the future but you will not be able to go past. The real concept of time travel is that if we can travel the speed of light at such a fast pace, then we can go forward or backward in time. Many incidents have been reported about this thing, there are many such real incidents that claim It is possible that time travel is possible. Many times travelers have come to know till date that have traveled. In this video, I am going to tell you what time travelers have traveled and shared their experience with the world. In this video I will give you full proof of time travel. All the events of time travel will go to the bottom of the real events and they will be fully examined. All such events of time travel will be made known to you. Whether time travel is possible or not, you will find out after watching this video, but there are many time travelers who have traveled time.And the details of all of them today I am giving you in this video. Music: www.purple-planet.com
समय यात्रा कैसे की जाती है।।क्या 2050 मे जाया जा सकता है...देखिये समय यात्रा के सबूत
समय यात्रा कैसे की जाती है।।क्या 2050 मे जाया जा सकता है...देखिये समय यात्रा के सबूत
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #timetravel #timetraveltruth #timetravelpossible #timetravelproof #howtimetravelpossible #timetravelstory #smyayatra #timetraveling #kuldeepsinghyadav #rhsyatv समय यात्रा। समय यात्रा को लेकर विभिन्न वैज्ञानिकों के विभिन्न मत है कोई कहता है कि समय यात्रा संभव है कोई वैज्ञानिक यह कहता है कि समय यात्रा संभव नहीं है समय यात्रा एक ऐसी यात्रा है जिससे समय में आगे या पीछे जाया जा सकता है अर्थात भूत काल और भविष्य काल में जाना ही समययात्रा कहलाता है समय यात्रा को लेकर बहुत से वैज्ञानिकों ने विभिन्न विभिन्न सिद्धांत दिए मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने भी माना था कि समय यात्रा संभव है लेकिन उन्होंने इतना कहा था कि समय में आगे जाना संभव है लेकिन समय में पीछे जाना संभव नहीं है मतलब आप भविष्य काल में तो जा सकते हो लेकिन भूतकाल में जाना संभव नहीं हो पाएगा समय यात्रा का असली कांसेप्ट यह है कि अगर हम प्रकाश की गति जितनी तेज गति से ट्रैवल कर सकें तो हम समय में आगे या पीछे जा सकते हैं इस चीज को लेकर बहुत सी घटनाएं सामने आई है ऐसी बहुत सी सच्ची घटनाएं है जो यह दावा करती है कि समय यात्रा संभव है बहुत से समय यात्रियों का आज तक पता चला है जिन्होंने समय यात्रा की है इस वीडियो में मैं आपको वही बताने वाला हूं कि किन-किन समय यात्रियों ने समय यात्रा की है और अपने अनुभव को दुनिया के साथ शेयर किया है इस वीडियो में मैं आपको समय यात्रा के पूरे प्रूफ दूंगा समय यात्रा की पूरी सच्ची घटनाओं की तह तक जाएंगे उनकी पूरी पड़ताल की जाएगी समय यात्रा की ऐसी सभी घटनाओं से आपको अवगत कराया जाएगा समय यात्रा संभव है या नहीं वह तो आपको इस वीडियो को देखने के बाद पता लग ही जाएगा लेकिन आज तो बहुत से समय यात्री ऐसे हैं जिन्होंने समय यात्रा की है और उन सभी का विवरण आज मैं इस वीडियो में आपको देने वाला हूं तो वीडियो को अंत तक जरूर देखना Time travel Different scientists have different opinions about time travel. Someone says that time travel is possible, a scientist says that time travel is not possible. Time travel is such a journey that can be moved forward or backward in time, that is to say in the past tense and future period is called time period. Many scientists gave various different theories about time travel. Famous scientist Stephen Hawking also believed that time travel was possible but he had said so much that it is possible to go ahead in time but it is not possible to go back in time. Meaning you can go in the future but you will not be able to go past. The real concept of time travel is that if we can travel the speed of light at such a fast pace, then we can go forward or backward in time. Many incidents have been reported about this thing, there are many such real incidents that claim It is possible that time travel is possible. Many times travelers have come to know till date that have traveled. In this video, I am going to tell you what time travelers have traveled and shared their experience with the world. In this video I will give you full proof of time travel. All the events of time travel will go to the bottom of the real events and they will be fully examined. All such events of time travel will be made known to you. Whether time travel is possible or not, you will find out after watching this video, but there are many time travelers who have traveled time.And the details of all of them today I am giving you in this video. Music: www.purple-planet.com
चन्द्रमा के रहस्यमयी तथ्य जो आप नही जानते।। चन्द्रमा के कारण खत्म हो जायेगा सूर्यग्रहण 👈👈
चन्द्रमा के रहस्यमयी तथ्य जो आप नही जानते।। चन्द्रमा के कारण खत्म हो जायेगा सूर्यग्रहण 👈👈
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #moon #factsaboutmoon #moonamazingfacts #moonintrestingfacts #intrestingfactsaboutmoon #chandrma #chandrmakijankari #informationaboutmoon contact email- kuldeepk8540@gmail.com रात को जवाब बाहर निकलते हैं तो एक खूबसूरत सी चीज को देखकर आपका दिल बहुत खुश हो जाता है। जी हां मैं बात कर रहा हूं आपके अपने चंदा मामा कि।वही चांद जो पूर्णिमा को पूरी तरह से चमकीला होता है और अमावस को पूरी तरह से अंधकारमय। लेकिन चंद्रमा के बारे में अधिकतर लोगों को बहुत कम या फिर ना के बराबर ही जानकारी होती है। तो आज इस वीडियो में मैं आपको चंद्रमा से संबंधित जानकारी देने वाला हुं जो शायद आप नहीं जानते थे। चंद्रमा से संबंधित बहुत से ऐसे तथ्य हैं जिन्हें जानकर आप को बहुत ही खुशी होग। आपको इस वीडियो में मैं बताने वाला हूं कि चंद्रमा का निर्माण कैसे हुआ थ। कैसे थीया नामक ग्रह के पृथ्वी से टकराने के कारण उत्पन्न हुई धूल और पत्थरों के कणों का जुड़ाव होने के कारण चंद्रमा का निर्माण हुआ थ। इस वीडियो में आपको चंद्रमा से जुड़े हुए रहस्यमई और रोमांचक तथ्य मिलेंगे जैसे कि चंद्रमा का निर्माण कैसे हुआ, चंद्रमा की सतह पर गुरुत्वाकर्षण बल है या नहीं ।चंद्रमा पृथ्वी का उपग्रह कैसे बना।चंद्रमा के बारे में पूरी जानकारी आपको इस वीडियो में मिल जायेगी। When the answer comes out at night, your heart becomes very happy after seeing a beautiful thing. Yes, I am talking about your own chanda mama(moon) .The same moon which is completely full of full moon and the new moon is completely dark But most people have little or no information about the Moon. So today in this video I am going to give you information related to the moon which you probably did not know. There are many facts related to the moon that you will be very happy to know. In this video, I am about to tell how the moon was formed. Due to the association of dust and stone particles produced due to collision with the planets of the planet called Thiya, the Moon was formed. In this video you will find mysterious and exciting facts related to the Moon, such as how the moon is formed, whether or not the surface of the Moon has gravitational force or not. How does Chandra create the Earth's satellite? You will find full information about Chandrama in this video. . Music: www.purple-planet.com
पृथ्वी का निर्माण कैसे हुवा।।जीवन की उत्पत्ति ।।डायनासोर युग का अंत....all facts about earth
पृथ्वी का निर्माण कैसे हुवा।।जीवन की उत्पत्ति ।।डायनासोर युग का अंत....all facts about earth
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #earth #earthformation #earthkesebni #howearthform #earthlife #earthhistory #historyofearth #howearthbecome #earthformationstory #earthStory contact email- kuldeepk8540@gmail.com पूरे ब्रह्मांड में पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन संभव है। पृथ्वी के अलावा किसी भी ग्रह पर अभी जीवन की कोई संभावना नहीं ह। वैज्ञानिक लगातार अन्य ग्रहों पर जीवन की संभावना तलाश रहे हैं और उनके वातावरण को मनुष्य के रहने लायक बनाने की कोशिश कर रहे है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पृथ्वी का निर्माण कैसे हुआ था। क्या आज से लाखों करोड़ों साल पहले भी पृथ्वी ऐसी ही थी जैसी आज हम इसे अपनी आंखों से देख रहे हैं ,या फिर इसका स्वरूप कुछ और था । आज से कई करोड़ों साल पहले पृथ्वी एक आग का गोला थी। तो आखिर यह पृथ्वी ठंडी कैसे हुई और कैसे बनी इंसान के रहने के योग्य।जब पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति हुई थी तो क्या जीवन की उत्पत्ति के रूप में मानव का उदभव हुआ था या फिर उससे पहले कुछ और बना था। आपको इस वीडियो में मैं यही सब बताने वाला हूं कि कैसे पृथ्वी का निर्माण हु। पृथ्वी के निर्माण होने के बाद पृथ्वी कैसे आग के गोले से एक ठंडा ग्रह में तब्दील हुई। उसके बाद कैसे एक बर्फ का गोला बनी और पृथ्वी पर जीवन का उद्भव कैसे हुआ ।पृथ्वी पर जीवन का निर्माण पहले एक कोशिकीय जीव के रूप में एक कोशिकीय जीव के बाद धीरे-धीरे जीवन का विकास होता गया और डायनासोर जैसी भयानक जियो का भी पृथ्वी पर आगमन हुआ।ऐसा समय भी आया जब उल्कापिंडों की बारिश के कारण डायनासोर का अंत पृथ्वी पर पूरी तरह से हो चुका था। डायनासोर के अंत होने के बाद पृथ्वी पर वापस से जीवन की प्रक्रिया प्रारंभ होने लगी। और धीरे-धीरे विकसित होकर मनुष्य का जन्म हुआ और वह पृथ्वी बनी ,जिसे आज हम अपनी आंखों से देख रहे हैं इन सब प्रक्रियाओं में कई करोड़ों अरबो साल लगे। इस वीडियो में मैं आपको आज से 4.5 बिलियन साल पहले लेकर जाऊंगा जब पृथ्वी का नामोनिशान नहीं था ।जब ब्रह्मांड में ना रोशनी थी ना सूर्य था ,ना पृथ्वी थी। उसके बीच में पृथ्वी का निर्माण कैसे हु। कैसे उसमें जीवन की उत्पत्ति हुई।इन सभी बातों को आज मैं इस वीडियो में आप लोगों को बताने वाला हूं। Earth is the only planet on which the life is possible in the whole universe. There is no possibility of life on any planet other than Earth. Scientists are constantly exploring the possibility of life on other planets and are trying to make their environment worth living. But did you know how the earth was formed? Even today, millions of years ago, the earth was like this, as we are seeing it with our eyes, or its appearance was something else. Many millions of years ago the earth was a fireball. So, how did the earth cool down and how it was made of human beings? When life was born on earth, then was the birth of a human as the origin of life or something else before that. In this video, I am going to tell you all about how the earth is formed. After the creation of the earth, the earth was transformed into a cold planet from the fireball. After that, how a snowball was formed and the origin of life on earth came from the formation of life on earth. In the form of a cellular organism, life gradually developed after a cellular organism, and the terrible geo like dinosaurs Arrived at. It was also a time when the dinosaurs had ended completely on the earth due to the meteor rain. After the end of the dinosaur, the process of life started from the back on Earth. And gradually evolving, man was born and he created the earth, which we are seeing with our eyes today, all these processes take many millions of years. In this video, I will take you 4.5 billion years ago from today when the earth was not nominated. When the universe was not illuminated, there was no sun or no earth. How the earth was formed in between. How life has been created in it. All these things, today I am going to tell you in this video. Music: www.purple-planet.com
सूर्य के बारे मे 40 ऐसे रोचक तथ्य जिसे आप नही जानते।।क्या पृथ्वी का अंत कर देगा सूर्य👈👈✔✔
सूर्य के बारे मे 40 ऐसे रोचक तथ्य जिसे आप नही जानते।।क्या पृथ्वी का अंत कर देगा सूर्य👈👈✔✔
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #sun #factsaboutsun #sunintrestingfacts #informationaboutsun #sunamazingfacts #amazingfactsaboutsun #solar #sunpower #aboutsun contact email- kuldeepk8540@gmail.com सूर्य को तो आप सभी जानते हैं। लेकिन क्या आप को सूर्य के बारे में पूरी जानकारी है. सूर्य पर घटने वाली सभी घटनाओं के विषय में आपको संपूर्ण जानकारी है। क्या आप जानते हैं कि सूरज पर हर घंटे लाखों हाइड्रोजन बम जैसे विस्फोट होते रहते हैं।क्या आपको पता है कि सूर्य पर नाभिकीय संलयन अभिक्रिया होती रहती है।आज की इस वीडियो में मैं आपको इन्हीं सब बातों से अवगत करवाने वाला हुं। इस वीडियो में मैं आपको बताने वाला हूं कि कैसे सूर्य निरंतर जल रहा है। और क्या सूरज की भी कोई उम्र है।सूर्य कैसे इतनी ऊर्जा पैदा कर लेता है। सूर्य के केंद्र में बने हुए प्रकाश को हमारे तक पहुंचने में कितना समय लगता है ।इसी तरह के सूरज से संबंधित रहस्यमई और रोमांचक तथ्य आज मैं आपको बताने वाला हूं। सूर्य पर हर घंटे लाखों की संख्या में और तूफान आते रहते हैं, जिसके कारण हाइड्रोजन के संस्थानिक ड्यूटीरियम ऑर ट्राइटियम आपस में जुड़कर हीलियम परमाणु का निर्माण करते हैं ।इसके कारण बहुत अधिक मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है। जिससे वहां हर पल लाखों हाइड्रोजन बम विस्फोट होते रहते हैं और उनसे भारी मात्रा में ऊर्जा पैदा होती है ।इसी ऊर्जा के कारण सूर्य लगातार जल रहा है ,और उसमें से निरंतर प्रकाश हमें प्राप्त हो रहा है ।लेकिन एक ना एक दिन ऐसा दिन जरूर आएगा जब सूर्य पर हाइड्रोजन के समस्थानिक हीलियम में पूरी तरह से बदल जाएंगे ,और उस दिन सूर्य पर होने वाली नाभिकीय सलंयन अभिक्रिया पूरी तरह से रुक जाएगी। और सूर्य एक ठंडे ग्रह में तब्दील हो जाएगा ।उस समय हमें सूर्य से रोशनी प्राप्त नहीं होगी। लेकिन इस प्रक्रिया को पूरा होने में बहुत समय लगेगा क्योंकि अभी सूर्य पर हाइड्रोजन के समस्थानिकों ड्यूटेरियम और ट्राईटीएम बहुत अधिक मात्रा में मौजूद हैं। All of you know the sun. But do you have complete information about the sun. You have complete information about all the events happening on the sun. Do you know that there are millions of hydrogen bomb explosions every day on the sun.Do you know that the nuclear fusion reaction happens on the Sun. In today's video I am going to make you aware of all these things. In this video, I am going to tell you how the sun is burning continuously. And whether there is any age of sun too. How does the sun create so much energy? How long does the light in the center of the sun reach us? The mysterious and exciting facts related to this kind of sun today I am going to tell you. The number of millions of hours and storms coming on the sun every day, due to which the institutional duetrium or tritium of hydrogen join together and create helium atoms. This causes large amounts of energy to be generated. Thereby, millions of hydrogen bomb explosions occur every moment there and generate huge amounts of energy from them. Because of this energy the sun is burning continuously, and we are continuously receiving light from it.But one day, that day definitely When the hydrogen atoms on the Sun will change completely in the isotopes of helium, and the nuclear reactions that occur on the Sun that day will be completely stopped. And the sun will turn into a cold planet. At that time we will not get light from the sun. But this process will take a lot of time to complete, because at present, hydrogen isotopes of the deuterium and tritium are present in very large quantities. Music: www.purple-planet.com
राकेट अंतरिक्ष मे कैसे जाता है।। कितनी माइलेज देता है राकेट का ईधंन all knowledge about rocket
राकेट अंतरिक्ष मे कैसे जाता है।। कितनी माइलेज देता है राकेट का ईधंन all knowledge about rocket
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #rocket #rocket_in_space #rocket_process #rocketscience contact email- kuldeepk8540@gmail.com पृथ्वी से बाहर अंतरिक्ष में जाने के लिए हमें एक ऐसी चीज की जरूरत पड़ती है जो बहुत ही ज्यादा शक्तिशाली हो। आज के समय में उसे रॉकेट के नाम से जाना जाता है। रॉकेट एक ऐसी प्रणाली होती है जिसके द्वारा किसी भी वस्तु को इतना कृत्रिम वेग प्रदान कर दिया जाता है कि ,वह वस्तु पृथ्वी के वातावरण से निकलकर अंतरिक्ष में प्रवेश कर जाती है। किसी भी वस्तु को पृथ्वी के वातावरण से निकलने के लिए 11.2 km/second के वेग की जरूरत होती है ।इस वेग को पृथ्वी के लिए पलायन वेग कहा जाता है । अगर कोई भी वस्तु 11.2km/second के वेग से ऊपर की तरफ गति करती है, तो वह पृथ्वी के वातावरण से बाहर निकलकर अंतरिक्ष में चली जाती है। आज के इस वीडियो में मैं आपको यही बताने वाला हूं कि, एक रॉकेट कैसे काम करता है। और रॉकेट की माइलेज कितनी होती है, राकेट में क्या क्या यूज किया जाता है ,और किस आधार पर रॉकेट पृथ्वी से बाहर गति कर पाता है।वास्तव में रॉकेट न्यूटन के गति के तीसरे नियम पर कार्य करता ह। न्यूटन के गति के तीसरे नियम के अनुसार अगर आप किसी चीज पर क्रिया करते हैं ,तो वह भी वापस आप पर प्रतिक्रिया लगाती हैं। जैसे अगर हम किसी वस्तु को धकंखा दे रहे हैं ,तो यदि हमारे द्वारा लगाया गया बल उस वस्तु द्वारा लगाए गए बल से कम है तो वस्तु नहीं हिलेगी ।यदि हमारे द्वारा लगाया गया बल वस्तु द्वारा लगाए गए बल के बराबर है तो भी वस्तु अपनी जगह से नहीं हिलेगी। लेकिन अगर हमारे द्वारा लगाया गया बल उस वस्तु के द्वारा लगाए गए बल से ज्यादा है तो वस्तु आगे की तरफ गति करेगी ।यही क्रिया प्रतिक्रिया का नियम है।जब आप एक बंदूक चलाते हैं तो ,गोली आगे की दिशा में गति करती है, लेकिन बंदूक पीछे की दिशा में गति करती है ।यही कृपया प्रतिक्रिया का नियम होता है।और इसी सिद्धांत पर रोकेट कार्य करता है।जब रॉकेट में ईंधन चलता है तो वह तीव्र वेग से उस जले हुए इंधन को नीचे की तरफ फेंकता है ,नीचे की तरफ फेंकने के कारण उस पर ऊपर की तरफ प्रतिक्रिया बल लगता है। जिसके कारण रॉकेट ऊपर अंतरिक्ष की ओर गति कर पाता है।रॉकेट में प्रयुक्त इधंन इतना मजबूत होता है कि उसके द्वारा रॉकेट को 11.2km/sec. का वेग प्रदान कर दिया जाता है ।और रॉकेट पृथ्वी के वातावरण से बाहर अंतरिक्ष में चला जाता है।इसी के द्वारा उपग्रहों को उनकी कक्षाओं में स्थापित किया जाता है।रॉकेट के द्वारा ही अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष में जाते हैं ,और वापस आते हैं ।अब ऐसे उपग्रह ले जाने वाले रॉकेटो का भी निर्माण किया जा चुका है जो कि रीयूजेबल है। अर्थात उनको वापस भी यूज़ कर सकते हैं।आज से पहले जो भी रॉकेट यूज़ किए जाते थे उनका दोबारा यूज़ नहीं किया जा सकता थ। क्योंकि वह अंतरिक्ष में जाते-जाते पूर्णतया नष्ट हो जाते थ। लेकिन अब ऐसे रॉकेट भी बना लिए गए हैं जो उपग्रह को उसकी कक्षा में स्थापित करने के बाद वापस पृथ्वी पर आ सकते हैं ,अौर उनका दोबारा उपयोग किया जा सकता है। आज की इस वीडियो में रॉकेट से संबंधित आपको पूरी जानकारी मिलेगी। जैसे-रॉकेट कैसे उड़ता है ,उसमें कौन सा इंधन यूज़ होता है, रॉकेट के कौन-कौन से पार्ट होते हैं ,रॉकेट की माइलेज कितनी है ,पृथ्वी का पलायन वेग कितना है ,इसके अलावा रॉकेट की पूरी कार्यप्रणाली इस वीडियो में आपको समझाई जाएगी। To go into space out of the Earth, we need a thing which is very powerful. In today's time, he is known as Rocket. A rocket is a system through which any object is given so much artificial velocity that the object goes out of the Earth's atmosphere and enters the space. Any object needs to be 11.2 km / second in order to get out of the atmosphere of the earth. This velocity is called the escape velocity for the Earth. If any object moves above the velocity of 11.2km / second, then it moves out of the Earth's atmosphere and goes into space. In today's video, I am going to tell you how a rocket works. And what is the mileage of the rocket, what is used in the rocket, and on what basis the rocket is able to move out of the Earth. In reality, rocket works on the third law of Newton's speed. According to Newton's third law of motion, if you act on something, then he also responds to you. As if we are pushing an object, if the force imposed by us is less than the force imposed by that object then the object will not go. If the force imposed by us is equal to the force imposed by the object, then its object Will not move from place. But if the force imposed by us is more than the force imposed by that object then the object will move forward. This verb is the rule of reaction. When you run a gun, the bullet moves in the forward direction, but The gun moves in the direction of the back. This is the rule of reaction. And the rocket works on this principle. Music: www.purple-planet.com
अंतरिक्ष मे मिल गया पानी का जलाशय।। ऐसे ही अंतरिक्ष से जुडे 50 रोचक तथ्य real facts
अंतरिक्ष मे मिल गया पानी का जलाशय।। ऐसे ही अंतरिक्ष से जुडे 50 रोचक तथ्य real facts
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav #space #waterinspace #spaceexploration #antrikshrhsya #antriskh #antrikshrochakthaty contact email- kuldeepk8540@gmail.com अंतरिक्ष के बारे में जानने की जिज्ञासा किसने नहीं होती ।हम सभी अंतरिक्ष के बारे में जानना चाहते हैं।लेकिन अंतरिक्ष का क्षेत्र सीमित क्षेत्र ना होकर बहुत ही विशाल क्षेत्र है। आज तक वैज्ञानिक भी अंतरिक्ष का रहस्य समझ नहीं पाए हैं।लेकिन आज मैं आपके सामने अंतरिक्ष के 50 रहस्यमई तथ्य लेकर आया हूं।कुछ ऐसे रहस्यमई तथ्य जिसे आप जानते नहीं हैं।अंतरिक्ष एक ऐसी जगह है जहां पर वायुमंडल बिल्कुल भी नहीं पाया जाता।अंतरिक्ष पूरी तरह से निर्वात है, इसी कारण आप अंतरिक्ष में कभी रो नहीं सकते, क्योंकि आपके आंसू कभी नहीं गिरेंगे ।अंतरिक्ष यात्रियों की मानें तो उनके अनुसार अंतरिक्ष से गर्म धातु और वेल्डिंग फॉर्म की तरह खुशबू आती है ।अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष में जाने के लिए स्पेस सूट पहनना पड़ता ह। बिना स्पेस सूट के अंतरिक्ष यात्री स्पेस में जा ही नहीं सकते।क्योंकि वहां का दाब इतना अधिक होगा कि उनके शरीर के टुकड़े हो सकते हैं ।एक अंतरिक्ष सूट को बनाने के लिए लगभग 12 मिलियन डॉलर तक खर्च हो जाते हैं।अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण बल भी नहीं होता ,जिसके कारण आप हवा में तैरते रहते हैं ।इसके अलावा अंतरिक्ष में रीड की हड्डी की लंबाई भी लगभग ढाई इंच तक बढ़ जाती है।अंतरिक्ष में नासा के द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन भी स्थापित किया गया है। जहां पर पृथ्वी से जाने वाले अंतरिक्ष यात्री विश्राम करते है। यह अंतरिक्ष स्पेस स्टेशन हमारी पृथ्वी के चारों तरफ चक्कर काट रहा है। इस अंतरिक्ष स्पेस स्टेशन पर रुके हुए अंतरिक्ष यात्री दिन में लगभग 15 बार सूर्योदय और सूर्यास्त को देख सकते हैं। अंतरिक्ष स्पेस स्टेशन अब तक अंतरिक्ष में बनाई गई सबसे महंगी वस्तु है। इसकी लागत लगभग डेढ़ सौ बिलियन अमेरिकी डॉलर है ।अंतरिक्ष में सोना भी एक चुनौती भरा कार्य हैं , क्योंकि वहां पर गुरुत्वाकर्षण नहीं होता ।इसकी वजह से आप आसानी से आंखें बंद नहीं कर पाते और आसानी से एक जगह रुक कर सो नहीं पाते हैं।इसलिए सोने के लिए गुरुत्वाकर्षण युक्त चैंबरों में जाना पड़ता है। ऐसे ही कुछ मजेदार और रहस्यमई तथ्यों से आपको मैं इस वीडियो में अवगत करवाने वाला हूं ।अंतरिक्ष से संबंधित आपके सभी सवालों के जवाब आपको आज इस वीडियो में मिलने वाले है। अंतरिक्ष को नजदीक से जानने की आपकी इच्छा इस वीडियो को देखने के बाद पूरी हो जाएगी तो इस वीडियो को अंत तक जरूर देखे। Who does not have the curiosity to know about space.We want to know about all the space. But the area of space is a very large area, not a limited area. Even today, scientists have not been able to understand the secret of space. But today I have brought you 50 mysterious facts of space. Some such mysterious facts that you do not know. Space is a place where the atmosphere is not found at all. Space is completely vacuum, that is why you can never cry in space, because your tears will never fall. And space smells like hot metal and welding form. The astronaut has to wear space suit to go into space. Without the space suit, the astronaut can not go into the space. Because the pressure of that there will be so much that their body fragments can be made. To create a space suit, it costs up to $ 12 million. Gravitational force in space It also does not happen, due to which you keep swimming in the air. Apart from this, the length of the reed bone in space also increases to about two and a half cubits. In space, NASA The International Space Station has also been set up. Where astronauts from Earth rest. This space space station is rotating around our earth. Astronauts staying at this space space station can see sunrise and sunset about 15 times a day. Space space station is by far the most expensive item created in space. Its cost is approximately 1.5 billion US dollars. Gold in space is also a challenging task, because there is no gravity. Because of this, you can not easily close your eyes and do not sleep easily by staying in one place. Therefore, it has to go to gravitational chambers to sleep. With such a few fun and mysterious facts, I am going to make you aware of this video. Answer to all your questions related to space is going to be available in this video today. Your desire to know the space near you will be completed after watching this video, so watch this video till the end. Music: www.purple-planet.com
ब्रह्माण्ड का निर्माण कैसे हुवा। ब्रह्माण्ड के बाहर क्या है क्या ब्रह्माण्ड के बाहर जाया जा सकता है
ब्रह्माण्ड का निर्माण कैसे हुवा। ब्रह्माण्ड के बाहर क्या है क्या ब्रह्माण्ड के बाहर जाया जा सकता है
ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ
नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है रहस्य TV मे अौर मै हुं कुलदीप सिंह यादव इस चैनल को start करने का उद्देश्य विज्ञान जगत अौर हमारी day to day लाइफ से जुडे रहस्यो से आप सभी को अवगत करवाना है अौर सभी रहस्यो से जुडे आपके सवालो का जवाब देना है बस आप लोग अपना प्यार अौर सहयोग यू ही बनाये रखना “लोगो का टाइम आता हेै अपना पूरा दौर आयेगा” याद रखना लाइफ मे जितने लम्बे समय तक असफलताये आती है सफलता उतनी ही बडी होगी ना रुकना है ना भागना है बस चलते रहना है मंजिल खुद चलकर आपके पास आयेगी have a nice day भगवान करे आपका दिन शुभ हो kuldeep singh yadav contact email- kuldeepk8540@gmail.com #space #univers #bharmaand #formationofspace #spaceformation #spaceknowledge ब्रह्मांड के बारे में जानने की रुचि आप सभी रखते हैं ।लेकिन क्या ब्रह्मांड का कोई आदि और अंत है। अर्थात क्या इस ब्रह्मांड का कोई प्रारंभिक छोर और अंतिम छोर हो सकता है। इतने बड़े ब्रम्हांड का निर्माण आखिर हुआ कैसे होगा। ऐसी क्या प्रोसेस हुई होगी कि इस ब्रम्हांड का निर्माण हुआ ।या फिर किसी दिव्य शक्ति ने ही यह ब्रह्मांड रचा होगा। आज के इस वीडियो में मैं आपके इन्हीं सवालों के जवाब देने वाला हुं। ब्रम्हांड की निर्माण की सर्वमान्य परिभाषा है बिग बैंग थ्योरी। वैज्ञानिकों का मानना है कि बिग बैंग थ्योरी के अनुसार ही ब्रह्मांड का निर्माण हुआ ह। ब्रह्मांड पहले एक बहुत ही छोटा सा बिंदु था बिल्कुल शून्य बिंदु लेकिन परिस्थितियों में तनाव अौर दाब उत्पन्न होने की वजह से एक महाविस्फोट हुआ, जिसके कारण उस छोटे से बिंदु से इस पूरे ब्रह्मांड का निर्माण हुआ। ब्रह्मांड निरंतर फैलता ही जा रहा है निरंतर बढ़ता ही चला जा रहा है इस वजह से इस ब्रह्मांड का अंतिम छोर को ढूंढ पाना संभव नहीं हो पाएगा ।क्योंकि अगर हम यहां से आज चलना प्रारंभ करते है तो जितने समय में अब हम ब्रह्मांड के अंतिम छोर तक पहुंचेंगे , उतने समय मे ब्रह्मांड का अंतिम छोर हम से कई गुना आगे तक पहुंच जाएगा। इस कारण ब्रह्मांड के अंतिम छोर का पता लगाना संभव नहीं हो पाया है। मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने कहा था कि ब्रह्मांड के निर्माण की बिग बैंग थ्योरी ही सही है। लेकिन उनकी मौत के बाद उनके रिसर्च किए गए डॉक्यूमेंट को जब जारी किया गया तो पता लगा कि वह अपनी मौत से पहले इस बात को स्वीकार कर चुके थे Music: www.purple-planet.com
Himachali Sweg Baijnath
Himachali Sweg Baijnath - 3 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Ye kyaa tha yrr pehle kuchh baad me kuchh
Islamray bdescat
Islamray bdescat - 5 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
लेकिन यह लोग जनता कैसे है उधर कितना कितना डिग्री सेल्सियस होता है पक्का इतना क्रांति का सत्या से कह सकता है
Shivmanoj Yavad
Shivmanoj Yavad - 5 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Sensor
Shivmanoj Yavad
Shivmanoj Yavad - 5 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Carbon higher gain antenna tharmal protection system
Shivmanoj Yavad
Shivmanoj Yavad - 5 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Parker solar mid
Shivmanoj Yavad
Shivmanoj Yavad - 5 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
1 kharab dollar
himanshu negi
himanshu negi - 6 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
I want to go planet Titan where thanos was born😂
abhay sharma
abhay sharma - 6 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Kya nasa apne parker solar probe ko sidha surya pr nhi utar skta tha @ yahi logo ne isro se pucha tha na k kya isro apne chandryaan 2 mission ko sidha chand pr nhi utar skta tha bs yahi bolna tha k jaha nasa kamjab nhi ho ska vha isro kamjab hoga
Adnan Siddiqui
Adnan Siddiqui - 6 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Nice video thanks
vaibhav vyavhare
vaibhav vyavhare - 7 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
5.11 it fake
rajan Gupta
rajan Gupta - 7 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Ans me plzzzz , ye Jo plante khoje jate h , us technology Ka name kya h ????
Vikram Devda
Vikram Devda - 7 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
आज के आधुनिक समय मे रहस्य TV. वाले लोग ऐसे लोग हे की किसी बारे मे पता नहीं हे फिर भी मनधडक विडिओ बनाते हे ऐसा विडिओ बनाओ कि लोगों 99% आपकी वीडियो सच्च लगे ऐसे फर्जी विडियों मत बनाओ प्लीज।
A2z tutorial
A2z tutorial - 7 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Aap ahir ho kya
Ankit Bither
Ankit Bither - 8 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
I salute this men from my bottom of the heart
Mohan Devrukhkar
Mohan Devrukhkar - 8 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Very nice video . So speed and very safe landing in universe. 😛👍
Ghanshyam Subedi
Ghanshyam Subedi - 8 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Real image use karo vai Jo NASA nei officially launch kiya tha
29rakeshkumar Vishnoi
29rakeshkumar Vishnoi - 9 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Nice
sanjaya rout
sanjaya rout - 9 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Your background music is very high than your voice
Gohil Virbhadrasinh
Gohil Virbhadrasinh - 9 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
On the mars
Niraj kumar Singh
Niraj kumar Singh - 11 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Bhai too hame pagal banana cha raha hai kya
Niraj kumar Singh
Niraj kumar Singh - 11 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
The most worst video
Indu Bala
Indu Bala - 13 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Iam so confuse k usne Alience ko dharti par kese bhulaya or msg kese kiya appass me bat or contact kese hota tha ISRO ko v ye software bta d🤔
Indu Bala
Indu Bala - 13 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Very very interesting video muje bohut achi lgi ik ladhki ki story ...ik kahani ki trha nice🥰🥰🌹🌹🌹
Indu Bala
Indu Bala - 13 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Unki tatti nikal jati h hamare jha ane se bechare darte h kyuki jha k bache bat bat pr pathar uta lete. Hamre jha k bache shetani me mahan h🤣🤣🤣 jha to bache sap ki puch pkdh k kehle h
manpreet kaur
manpreet kaur - 14 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Rong 🔴🔴
Ravi Kumar
Ravi Kumar - 14 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Pagaa mat loo surya dev Se kush ho na jaay
Indian lion
Indian lion - 15 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Moon landing of NASA is fake
Sachin Bhargav
Sachin Bhargav - 16 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Super explanation
Arun Kashyap
Arun Kashyap - 16 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
OK
Vasu Soni
Vasu Soni - 16 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Sale oh bhartiya nhi american thi..... Bhartiya sb te phle punjab ke patiala city da pawal geya tha
Vijay Vishwakarma
Vijay Vishwakarma - 16 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Iss m
Ashish Meena
Ashish Meena - 16 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Great Video 😉😉🚇🚇🚇🚇🚇🚇🚇🚇
Deep Shikha Sharma
Deep Shikha Sharma - 16 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
shukra grah ki awaj mandeer me ghanta bajne jesi he
Arjun Khadka
Arjun Khadka - 17 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
मै हु इसका जिम्मेवार मैने डुबाया था
Rahish Khan
Rahish Khan - 19 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Sabhi number alag Kyon Hote Hain
Avenger film
Avenger film - 19 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
@@@@@
Faheem Shaikh
Faheem Shaikh - 21 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
What a joke
Lalit meena
Lalit meena - 21 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Real hai neil armstrong 1969 me moon pe land hone wale pehle insan the is bt me koi sk nhi hai Us time ke hisab se sbko lgta hai ki yeh jhut tha bt aisa nhi hai mano ya na mano koi itti bdi sajis kaise kr skta hai bhala
Son Pari
Son Pari - 22 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
I won't claim that landing was genuine or fake because it's totally confusing. Regarding people not going back to moon, that's not required at all. Even in 1969 it was not required to send human on moon, America was desperate to win a race against Russia. Well after 1969 - no one dared to break their record and they are still winner. The day someone will talk about breaking their record, America will again jump in race. Everyone knows that life on Moon is not possible, no point of sending human because it's expensive and risky. If we remove the money factor, still sending Human is a risk because you have to bring them back. NASA is still doing research on moon but it doesn't mean they should send Human and then hold their breath till their Astronauts return. When you are sending human, focus doesn't remain on research, it's all about bringing them back safely. Few days back Chandran 2 landed on Moon, but landing was not normal and scientists lost the contact with lander, but it was alright for us as science is all about experiments. Imagine if Human was there with Chandrayan 2. It wouldn't have been ok to loose contact and scientists would come out as losers. Well on that day Neil and Buzz were lucky. That's all.
Lalit meena
Lalit meena - 22 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Kya bt hai future me moon insan ka ghr hoga In sbko dekh ke toh yhi lgta hai agr sb kuch yojna ke hisab se eha toh
Islendra Kumar
Islendra Kumar - 22 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Sir jab vapas aata h to earth and spacecraft me relative speed hogi to kaise utarta h. Please tell me
 - 23 ਘੰਟੇ ਪਹਿਲਾਂ
Achcha a Raha Hai video to
sonu kumar
sonu kumar - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Nice bhai abhi abhi mai iss ko dekha thanks
Ashok Jandu
Ashok Jandu - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
No sir
MyDobal
MyDobal - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Bhai kalpana chawla indian origin thi par voh uss time par USA citizen thi.
Ritu Rawal
Ritu Rawal - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Alians aate h...maine bhi 1974 mai delhi mai raat mai 5-6 spaceship dekhe hai .
Kanhaiya lal Banjare
Kanhaiya lal Banjare - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
*"बहुत सुंदर " * मैं चन्द्रमा में जाना चाहूंगा 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
Raj paswan
Raj paswan - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Heliam 3 se bahot urja niklti hai, agar moon ki satah par 100km maining Kiya jaye to kuch gram hi heliam 3 milega. America jaise desh ko chalane ke liye 2.3 ton heliam 3 lagega or Moon se heliam 3 dharti par Lana itna aasan nahi hai bevkufo is baat ki pusti abhi Tak vaigyaniko ne bhi nahi ki hai to tum log afvah kyo faila rahe ho, are vaha par Kon Kon se dhatu hai ye pata karna to unka Kam hi hai
Adnan Khan
Adnan Khan - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Kahin nhi bhaiya hme pirthivi hi thik hai ok
sachin kumar
sachin kumar - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Bhai ap kaha se ho
MECHANICAL ARTOLOGY
MECHANICAL ARTOLOGY - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
All fake !!! Bena oxygen ke he rocket chl rha h Bhai u said Ki electricity ke liye ek chamber me hydrogen aur oxygen leke gye the aur ukne reaction se banne wale product se electricity bane thi. To bahi ek baat batao reaction ke liye atmosphere chahiye Jo ki space me nhi Hota h Aur bhai rocket bena oxygen ke he chl rha tha kya!!! Wow!!! What a tech
tarique ahmed
tarique ahmed - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Ha ate hai alien dharti mai
tarique ahmed
tarique ahmed - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Ha ate hai alien dharti mai
devendra Sundi
devendra Sundi - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Khubsurat jaankari
Sahu Ji
Sahu Ji - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
इतना अच्छा वीडियो में भी क्या घटिया डरावनी वाला बैकग्राउंड म्यूजिक डालते हो यार। लगभग सभी वीडियो में डालते हो। कम से कम वीडियो की कंटेंट देखकर तो डाला करो बैकग्राउंड को, पूरा दिमाग खराब कर देता है और वीडियो का मजा भी कम हो जाता है
Gajender Rajpurohit
Gajender Rajpurohit - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Hi kuldip bhai
Bharti Kumari
Bharti Kumari - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
fail ho gya tha 1 st
Bharti Kumari
Bharti Kumari - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
pagal
Naven Kumar
Naven Kumar - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Bhai aap viratnagar m rate ho kya
Kamlesh Lalwani
Kamlesh Lalwani - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Tu sale fake news banata he
VICKY 3318Q ALL IN ONE
VICKY 3318Q ALL IN ONE - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Space se spacecraft tackoff kaise karta h
Tejas Patil
Tejas Patil - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Thanks bet and knollage information sir
Mahendra Gawali
Mahendra Gawali - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Teri E Man Ka bhosda Jab Antriksh mein Main Hawa Nahin Hai To Awaaz kis baat Ki Aaegi aur jab Awaaz Nahin I to record kya hua Jab Abhi Tak ISRO ke pass Aisa Koi Koi thought Saboot Nahin Hai Hi Tu To Kya yah Teri e man chadna Antriksh mein Main Gai Thi kya
sabbeer hasan hasan
sabbeer hasan hasan - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Jis din hum hindu muslim cchood de to hume age koi nhi h JAI HIND
Surinder Singh
Surinder Singh - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Bakwas , Lagda dare brahmand nu Hindu bna ke chhadonge
pramit bareth
pramit bareth - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
ओम सब्द सुनकर एकदम डर लगा
Mohd Azizuddin
Mohd Azizuddin - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Fake fake fake fakehaire ye haoule landan
Prateek Pandey
Prateek Pandey - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Agar ye 15 chakkar marta hai ek din mein to khali 2 sunrise aur sunset dekhega kya pagal aadmi hai
laxmi gupta
laxmi gupta - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Yes maine bhi dekha nice ise maine aur pahle bhi dekha hai par pta nhi tha yehi space station hai wow amazing
VIKAS CHANDRA THAKUR
VIKAS CHANDRA THAKUR - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Suraj ke paas pahuchana muskil hi nahi namunkin hai chahe kuchh bhi ho fake news
be optimistic
be optimistic - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Video achya bnaya par bolaneki speed dhire aour syameet honi चाहिए थी
Sarai Production
Sarai Production - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
LANDING MUST BE FROM ALL SIDES
Praveen Kumar
Praveen Kumar - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Nahi eh to sirf kuch apni gravity hai
subhash BILONIA
subhash BILONIA - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Kya hum kabi alien ko dek payage
Online Excel
Online Excel - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Better to learn to read decimals
NITISH JHA
NITISH JHA - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
3 lack kmph ye jhoot hai agar aisa hota toh nasa wale moon p 2 ghante m pohach jate
Roshani Singh
Roshani Singh - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Shukra grah ki awaj shant
Basant. yes Lal
Basant. yes Lal - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
ajay Kumar
Ali Zahra
Ali Zahra - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Ye Hollywood movie ka scene hai
Sanjeev Sharma
Sanjeev Sharma - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Madarchod 6 log sahi ya 94
Pinki Sneha
Pinki Sneha - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Dono ka
Rakesh Yadav
Rakesh Yadav - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
kon kon ko ye video a cha a laga
Pramod Lodhi
Pramod Lodhi - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Nice video
jigneshdevganiya
jigneshdevganiya - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Hovar....! 😂😂😂
Rajveer Chauhan
Rajveer Chauhan - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Galt tha cut krna
staish TV peter
staish TV peter - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Peter zimadar ni ha
Shivam Sharma
Shivam Sharma - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Sale bhosdi ke fully fake news kyo de raha hai
Anurag Kumar Able international school
Anurag Kumar Able international school - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Nehi
Shihor solanki
Shihor solanki - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
IF '' HUMAN ROBOTICS '' MOON PER BHEJA JAY AUR WAHA PE EARTH JAISA ENVIROMENT BANNA KA PROGRAM KIYA JAY TOH KYA HOGA ?? REQUEST TO MAKE VIDEO ON IT.
sanjay sanjay
sanjay sanjay - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Wo Titanic nahi Olympic tha Titanic abhi bhi hai
Ashu Sharmaap
Ashu Sharmaap - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
jai mahadev
Paramjit singh
Paramjit singh - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
घंटा आवाज आती है
Harjinder Singh
Harjinder Singh - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
janm se hi chutia hai kya baad mai bna
Krishna Maravi
Krishna Maravi - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
fake news 😠😠😠
shanu verma
shanu verma - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Bhramos nuclear misile nahi hai agni hai clear ur nolege
dipak dipak
dipak dipak - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Bohot ava ha
Salman Sayyad
Salman Sayyad - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
क्यों झूट बोलते हो तुम लोग ,,, इन झुटो से देश आगे नहीं बढ़ता
Basant Kumar Yadav
Basant Kumar Yadav - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
न्यूज़ सुपर न्यूज़
GRAND MASTI
GRAND MASTI - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Fack thi
Ajit Nimbaria
Ajit Nimbaria - ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ
Kya backwas h. Kuch bhi mtlb kuch bhi. कब और कैसे सूर्य से आने वाली radiation record हो सकती है। computerise चीजों को base बना कर कुछ भी बोल देते हैं पागल लोग। लोगो को बेवकूफ बनाने से अलग कोई और काम नही है ऐसे लोगो के पास।